आलेख
15 अगस्त-स्वाधीनता दिवस पर विशेष

म.प्र. में बेहतर सिंचाई सुविधा ने बदल दी किसानों की जिंदगी

भोपाल : मंगलवार, अगस्त 14, 2018, 17:15 IST

मध्यप्रदेश में पिछले 15 वर्षों से निरंतर बढ़ रहे सिंचाई संसाधनों ने लाखों किसानों की जिन्दगी बदल दी हैं। साढ़े सात लाख हेक्टेयर सिंचाई क्षमता वाले इस प्रदेश में आज 40 लाख हेक्टेयर सिंचाई हो रही है। अगले छ: वर्ष में 80 लाख हेक्टेयर तक सिंचाई क्षमता बढ़ाने के लक्ष्य की तरफ प्रदेश बढ़ चुका है। प्रदेश में बीता दशक जल क्रांति का रहा।

मोहनपुरा वृहद सिंचाई परियोजना वर्ष 2014 में प्रारंभ हुई और 2018 में पूरी हो गई। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अभी 23 जून को इस परियोजना का लोकार्पण किया है। राजगढ़ जिले में लगभग 4000 करोड़ रुपये लागत से बनी मोहनपुरा सिंचाई परियोजना से 727 गाँवों को लाभ होगा। इस परियोजना में नेवज नदी पर निर्मित बाँध से नागरिकों को 8 मिलियन घन मीटर पीने का पानी और 5 मिलियन घन मीटर औद्योगिक क्षेत्रों के लिये पानी मिलेगा। इसकी जल-भराव क्षमता 616.27 मिलियन घन मीटर है। एक लाख चौंतीस हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई उपलब्ध कराने वाली इस परियोजना से पथरीले और कृषि में पिछड़े माने गये राजगढ़ क्षेत्र का कायाकल्प होगा। राज्य शासन ने इस परियोजना से किसानों के खेतों में सीधे पानी पहुँचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की है। इसी इलाके में कुण्डालिया बांध का निर्माण भी पूरा किया गया है। इससे करीब सवा लाख हेक्टेयर में रूपांकित सिंचाई होगी। इसी तरह सिर्फ चार वर्ष में बिलगांव बांध का निर्माण भी पूर्ण हुआ है। इससे करीब दस हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी।

मध्यप्रदेश में प्रधानमंत्री श्री मोदी के 'पर ड्राप मोर क्रॉप' के सिद्धांत को अपनाते हुए नई परियोजनाओं में नहर प्रणाली की जगह भूमिगत पाइप लाईन के माध्यम से सूक्ष्‍म सिंचाई पद्धति पर जोर दिया गया है। इस पद्धति से वर्ष 2024 तक करीब 25 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी। सिंचाई परियोजनाओं से जल उपयोग क्षमता लगभग दोगुनी हो जाएगी। पहले यह क्षमता 43 प्रतिशत थी। इसे सूक्ष्म सिंचाई के सहारे 80-85 प्रतिशत तक बढ़ाने का लक्ष्य है। समग्र रूप से सिंचाई जल उपयोग दक्षता में बीस प्रतिशत वृद्धि लाई जाएगी।

प्रदेश की सिंचाई परियोजनाओं का उद्देश्य किसानों की समृद्धि और सम्पूर्ण आबादी की खुशहाली है। किसी भी परियोजना के क्रियान्वयन से कुछ लोगों को विस्थापित होना पड़ता है, लेकिन उनकी समुचित पुनर्वास व्यवस्था से विस्थापितों की तकलीफें दूरी की जाती हैं। मध्यप्रदेश सरकार ने विस्थापितों को आवश्यकतानुसार जरूरी सुविधाएँ देकर भली-भाँति नई जगह पर बसने में पूरी मदद की है। सिंचाई परियोजनाओं से इन कस्बों और ग्रामों में आगे चलकर घर-घर नल की टोंटी से पानी पहुँचाने की तैयारी भी की जा रही है।

प्रदेश में कुछ जिले सिंचाई के कम प्रतिशत के कारण अपेक्षित प्रगति से पीछे रह गये हैं। ऐसा ही एक जिला शिवपुरी भी है। यहाँ सिंचाई क्षमता बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अभी 30 जुलाई को सिंचाई परियोजना का शिलान्यास किया है। लोअर ओर वृहद परियोजना से पौने तीन लाख एकड़ क्षेत्र में सिंचाई होगी। करीब 2208 करोड़ रूपये लागत की इस परियोजना से शिवपुरी जिले के 306 और दतिया जिले के 37 अर्थात कुल 343 ग्रामों में बेहतर सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाई जा सकेगी। परियोजना का बांध स्थल बामौरकलां है, जो चंदेरी से मात्र बीस किलोमीटर दूरी पर है। अशोकनगर जिले की सीमा से बहने वाली बेतवा नदी की सहायक नदी पर इस बांध का निर्माण किया जाएगा। परियोजना से कुल एक लाख 10 हजार 400 हेक्टेयर क्षेत्र अर्थात् करीब पौने तीन लाख एकड़ में सिंचाई होगी।

यह स्थापित सत्य है कि मध्यप्रदेश को निरंतर कृषि कर्मण अवार्ड प्राप्त होने की एक प्रमुख वजह राज्य में अच्छी सिंचाई सुविधाओं का उपलब्ध होना भी है। जल संसाधन विभाग दिन-प्रति-दिन सिंचाई क्षमता में वृद्धि के लिए कार्य कर रहा है। प्रदेश में 20 वृहद परियोजनाओं का काम पूरा हो गया है। सिंचाई प्रबंधन में किसानों की भागीदारी में प्रदेश, आंध्रप्रदेश के बाद दूसरा राज्य है। यहाँ करीब दो हजार जल उपभोक्ता संस्थाएँ कार्य कर रही हैं। ये संस्थाएँ करीब 25 लाख हेक्टेयर कमांड क्षेत्र के सिंचाई प्रबंधन का कार्य सहभागिता से कर रही हैं। नहर के आखिरी छोर के किसानों से मोबाइल फोन द्वारा अधिकारियों का सम्पर्क रहता है। इससे शत-प्रतिशत सिंचाई के लक्ष्य को प्राप्त करने में सहयोग मिल रहा हैं।


अशोक मनवानी
निरामयम् मध्यप्रदेश (आयुष्मान भारत)
बारिश में धीरे चलें और बचें भी, बचाये भी दुर्घटना से
सहकारिता से अंत्योदय : एक सफल नवाचार
म.प्र. में बेहतर सिंचाई सुविधा ने बदल दी किसानों की जिंदगी
पिछडे़ और अल्पसंख्यक वर्ग के युवाओं की उड़ानों को मिला नया आसमान
सही मायने में खिलाड़ी "छू रहे हैं आसमाँ
मध्यप्रदेश में राजस्व प्रशासन में प्रभावी सुधार
मुख्यमंत्री जन-कल्याण (संबल) योजना
अब तनिको टेंसन नहीं है
शिक्षा की आधुनिकतम प्रयोगशाला बनता मध्यप्रदेश
स्मार्ट सोच से बनती है स्मार्ट सिटी -श्रीमती माया सिंह
जनजातियों के समग्र विकास के लिये पाँच वर्षों का रोडमैप तैयार
बढ़ते बाघों ने प्रदेश के दोगुने फारेस्ट बीट क्षेत्र में कायम किया राज
मध्यप्रदेश के गरीब श्रमिकों को सस्ती दर पर रोशनी का इंतजाम
मोहनपुरा सिंचाई परियोजना बदलेगी राजगढ़ क्षेत्र की तस्वीर और तकदीर
सुबह पाँच बजे से तेन्दूपत्ता तोड़ने निकलते हैं संग्राहक
जंगल और पशु-पक्षियों से आबाद हो गई है वीरान पहाड़ी
विंध्य की सांस्कृतिक विरासत है कृष्णा-राजकपूर आडिटोरियम -राजेन्द्र शुक्ल
संरक्षित क्षेत्रों में सफल ग्राम विस्थापन
नवभारत निर्माण के प्रेरणास्त्रोत हैं बाबा साहेब अम्बेडकर -लाल सिंह आर्य
निमोनिया से बचाएगा PCV वैक्सीन
एमएसएमई विभाग से औद्योगिक परिदृश्य में आया सकारात्मक बदलाव - संजय - सत्येन्द्र पाठक
अपनों के लिये करें सुरक्षित ड्राइव
जनता एवं प्रदेश के लिये समर्पित व्यक्तित्व हैं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान
असाधारण व्यक्तित्व का साधारण व्यक्ति :शिवराज
परिश्रम की पराकाष्ठा के जीवंत स्वरूप है विकास पुरूष मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान - राजेन्द्र शुक्ल
जन-मानस में सरकार एवं राजनेताओं के प्रति विश्वास कायम करने में सफल रहे शिवराज - उमाशंकर गुप्ता
सत्ता और जन-कल्याण के अद्भुत तादात्म्य के प्रणेता हैं शिवराज
मध्यप्रदेश में सक्षम नेतृत्व का नाम है शिवराज सिंह चौहान - डॉ. नरोत्तम मिश्र
मध्यप्रदेश में स्कूल शिक्षा को जन-भागीदारी से गुणवत्ता देने के प्रयास - कुंवर विजय शाह
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...