social media accounts







आलेख

परिश्रम की पराकाष्ठा के जीवंत स्वरूप है विकास पुरूष मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान - राजेन्द्र शुक्ल

भोपाल : रविवार, मार्च 4, 2018, 18:59 IST
 

लोकहित के लिए परिश्रम की पराकाष्ठा तक जाने का मूल मंत्र हमारे मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के व्यक्तित्व और कृतित्व का सारतत्व है। इन 13 वर्षों में हम सबने इसी मूलमंत्र को फलीभूत भी होते हुए देखा है और स्वयं को ऊर्जान्वित होते हुए भी। सही अर्थों में पूछें तो मध्यप्रदेश आज प्रगति के जिस मुकाम तक पहुंचा है उसके पीछे संकल्पों को पूरा करने के लिए परिश्रम की पराकाष्ठा का ही प्रतिफल है।

असंभव व मुश्किल से लगने वाले लक्ष्यों को तय करना और फिर उस चुनौती को पूरा करने के लिए पूरी ताकत लगा देना उनके स्वभाव में है। प्रदेश में औधोगिक क्रांति लाने के मकसद से प्रदेश में इन्वेस्टर्स समिट की शुरूआत की। इसके अच्छे परिणाम भी सामने आये है। इसके अलावा मुख्यमंत्री जी ने देश के अन्य राज्यों के अलावा विदेशों में भी रोड शो किये है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विदेशों में बसे मध्यप्रदेश के लोगो को जोड़ने के लिये 'फ्रेन्डस ऑफ एमपी' की शुरूआत भी की। फ्रेन्डस ऑफ एमपी का पहला सम्मेलन इंदौर में आयोजित किया जा चुका है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने युवाओं को तकनीकी रूप से कुशल बनाने के लिये प्रदेश की स्किल्‍ड नीति को भी अमलीजामा पहनाया है। प्रदेश में बढ़ते निवेश के कारण वर्ष 2017-18 में औधोगिक विकास की दर 10.55 प्रतिशत रहने का अनुमान है जो राष्ट्रीय दर से अधिक होगी। प्रदेश के 13 औधोगिक क्षेत्रों में करीब 500 करोड़ रूपये के कार्य पूरे किये गये है। इसके साथ ही 22 नवीन औधोगिक क्षेत्र में 1820 करोड़ रूपये के अधोसंरचना के विकास कार्य प्राथमिकता से कराये जा रहे है। शीर्ष उद्योगपतियों ने हमारे मुख्यमंत्री और उनके सुशासन पर विश्वास व्यक्त किया है। अब शीघ्र ही औधोगिक विकास में भी प्रदेश नयी ऊँचाइयां छुएगा।

प्रदेश में 24 घंटे निर्बाध बिजली उपलब्ध कराने का मिशन कुछ ऐसा ही था। मुख्यमंत्री जी ने तय किया कि हमें पूरे प्रदेश में २४ घन्टे निर्बाध बिजली उपलब्ध कराकर, अंधेरे के कलंक से मुक्ति पाना है। इसके लिए अटल ज्योति योजना तैयार की गई। बिजली की जरूरत, उसकी आपूर्ति पूरे सिस्टम का संचालन-संधारण और उसकी सतत् निगरानी की त्रुटिहीन प्रणाली तैयार की गई। इसके बाद पूरी टीम जुट गई मिशन को पूरा करने में। कमान खुद मुख्यमंत्री जी ने संभाली। अटल ज्योति योजना को सर्वोच्च वरीयता पर रखते हुए वे खुद एक-एक जिले गए और योजना का शुभारंभ किया।

प्रदेशवासियों ने घुप्प-अंधेरे में जीने के अभिशाप को भोगा है। छात्रों की एक समूची पीढ़ी आज भी उन दिनों को कष्ट के साथ याद करती है। किसान भाइयों को आज भी वे दिन याद हैं जब उनकी फसलें बिजली का इन्तजार करते-करते मुरझा जाती थीं। छोटे उद्योग धंधे से लेकर बड़े कारखाने तक उन दिनों बिजली के संकट की मार से ग्रस्त थे। बिजली हमारे जीवन का अनिवार्य हिस्सा बन चुकी है। वह विकास की हर धडक़न के साथ जुड़ी है। बिजली का कृषि-उद्योग, सामान्य जन-जीवन के साथ इतना गहरा रिश्ता बन चुका है कि अब इसके बिना एक कदम भी आगे बढऩे के बारे में सोचा ही नहीं जा सकता।

मुख्यमंत्री ने स्वामी विवेकानंदजी के मूलमंत्र का स्मरण कराते हुए, उठो-जागो-लक्ष्य प्राप्त करो को जीवन में उतार कर और आलोचनाओं की परवाह किए बगैर प्रदेश को अंधेरे से मुक्त करके ही चैन की सांस ली। आज मध्यप्रदेश, गुजरात के बाद दूसरा ऐसा राज्य है जो बिजली को लेकर आत्मनिर्भर है। हम पॉवर सरप्लस स्टेट राज्यों में गिने जाते हैं।

श्री शिवराज सिंह जी की यही विशेषता है कि वे सपने देखते हैं- दिखाते हैं- उसे पूरा करने- पूरा करवाने का माद्दा रखते हैं। लक्ष्य पर उनकी नजर वैसे ही रहती है जैसे चिडिय़ा की आंख पर धनुर्धर अर्जुन की थी। मध्यप्रदेश सोलर और विन्ड एनर्जी जैसे वैकल्पिक स्त्रोतों की ओर तेजी से बढ़ रहा है। नीमच में एशिया के सबसे बड़े सोलर प्लांट ने उत्पादन शुरु कर दिया है। रीवा में गुढ़ के समीप विश्व का सबसे बड़ा सोलर प्लांट लगने की तैयारी है। नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा के क्षेत्र में मध्यप्रदेश को देश का सिरमोर बनाने का संकल्प भी मुख्यमंत्री का है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह जी के नेतृत्च में मैंने पाया कि कोई सपना इतना बड़ा नहीं होता कि उसे पूरा न किया जा सके। वे सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर हैं। इतने वर्षों से उनके साथ व सानिध्य में रहते हुए उनमें नकारात्मकता को कहीं दूर-दूर तक नहीं देखा वे सकारात्मक सोच व ऊर्जा से भरपूर दिखाई देते हैं। राजनीति के बहुप्रचारित चलन गुणा-भाग, कांट-छांट से दूर उन्हें सिर्फ जोड़ते हुए ही देखा, महसूस किया। आलोचना और निन्दा पर प्रतिक्रिया करने की बजाय उसे जज्ब करने और फिर दूने आवेग के साथ काम पर जुट जाने की विशेषता उनमें देखी। मध्यप्रदेश के प्रवासों में प्रधानमंत्री सम्मानीय श्री नरेन्द्र मोदीजी भाषण की शुरुआत ही श्री शिवराज जी के व्यक्तित्व कृतित्व की प्रशंसा के साथ करते हैं। वे अन्य प्रदेशों के कार्यक्रमों में उदाहरण देते हैं, श्री शिवराज जी टीम ने किस तरह एक राज्य को बीमारी से निकालकर स्वस्थ्य बना दिया।

चरैवेति-चरैवेति निरन्तर चलते रहो, चलते रहो, पण्डित दीनदयाल उपाध्याय जी के मूलमंत्र को वास्तविकता के धरातल पर यदि किसी ने उतारा तो वे श्री शिवराज सिंह जी हैं। उनकी दिनचर्या और कार्य संस्कृति में आराम को कोई जगह नहीं। यही हमें प्रेरणा देती है। यहीं नई पीढ़ी के कार्यकर्ताओं के लिए प्रेरक भी है। मन की स्वच्छता और हृदय की शुचिता के साथ लिए जाने वाले कोई संकल्प विफल नहीं होते, हमारे मुख्यमंत्री जी उसके उदाहरण हैं।


लेखक उद्योग तथा खनिज संसाधन मंत्री हैं।
मध्यप्रदेश के गरीब श्रमिकों को सस्ती दर पर रोशनी का इंतजाम
मोहनपुरा सिंचाई परियोजना बदलेगी राजगढ़ क्षेत्र की तस्वीर और तकदीर
सुबह पाँच बजे से तेन्दूपत्ता तोड़ने निकलते हैं संग्राहक
जंगल और पशु-पक्षियों से आबाद हो गई है वीरान पहाड़ी
विंध्य की सांस्कृतिक विरासत है कृष्णा-राजकपूर आडिटोरियम -राजेन्द्र शुक्ल
संरक्षित क्षेत्रों में सफल ग्राम विस्थापन
नवभारत निर्माण के प्रेरणास्त्रोत हैं बाबा साहेब अम्बेडकर -लाल सिंह आर्य
निमोनिया से बचाएगा PCV वैक्सीन
एमएसएमई विभाग से औद्योगिक परिदृश्य में आया सकारात्मक बदलाव - संजय - सत्येन्द्र पाठक
अपनों के लिये करें सुरक्षित ड्राइव
जनता एवं प्रदेश के लिये समर्पित व्यक्तित्व हैं मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान
असाधारण व्यक्तित्व का साधारण व्यक्ति :शिवराज
परिश्रम की पराकाष्ठा के जीवंत स्वरूप है विकास पुरूष मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान - राजेन्द्र शुक्ल
जन-मानस में सरकार एवं राजनेताओं के प्रति विश्वास कायम करने में सफल रहे शिवराज - उमाशंकर गुप्ता
सत्ता और जन-कल्याण के अद्भुत तादात्म्य के प्रणेता हैं शिवराज
मध्यप्रदेश में सक्षम नेतृत्व का नाम है शिवराज सिंह चौहान - डॉ. नरोत्तम मिश्र
मध्यप्रदेश में स्कूल शिक्षा को जन-भागीदारी से गुणवत्ता देने के प्रयास - कुंवर विजय शाह
विकास के पुरोधा शिवराज यशस्वी बने रहें - रामपाल सिंह
मुख्यमंत्री के नेतृत्व में कला-संस्कृति की समृद्ध परम्परा को मिला अभूतपूर्व विस्तार - सुरेन्द्र पटवा
गाँव वालों की आय बढ़ाने के प्रयासों से गाँवों में आई है खुशहाली - अन्तर सिंह आर्य
मेरे जाने-बूझे संवेदनशील मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान - लाल सिंह आर्य
मुख्यमंत्री श्री चौहान के विकास और कल्याण के एजेन्डे में किसान सबसे ऊपर रहे - गौरीशंकर बिसेन
शिवराज सिंह चौहान तोड़ने नहीं जोड़ने का कार्य करते हैं- दीपक जोशी
कर्मयोगी शिवराज सिंह चौहान - विश्वास सारंग
परिजनों की तरह नागरिकों की स्वास्थ्य चिंता करते हैं मुख्यमंत्री - रुस्तम सिंह
श्री शिवराज सिंह चौहान : एक आदर्श राजनेता - ओमप्रकाश धुर्वे
विचार के बाद आकार में बदलता आनंद विभाग
प्रदेश में कृषि के बाद अब एमएसएमई में स्थापित हुए कीर्तिमान
हर पैरामीटर पर प्रगति करता मध्यप्रदेश
कृषि में मध्यप्रदेश की प्रगति अविश्वसनीय
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...