| خبریں اردو | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | English | संपर्क करें | साइट मेप
FaceBook Twitter You Tube

मध्यप्रदेश शासन द्वारा स्थापित राष्ट्रीय एवं राज्यस्तरीय सम्मानों का विवरण

राज्य स्तरीय शिखर सम्मान

सम्मान

 

मध्यप्रदेश में साहित्य और विभिन्न कलाओं के क्षेत्र में जो सृजन कार्य हो रहा है उसके समुचित सम्मान की आवश्यकता असंदिग्ध है। राज्य शासन ने समग्र योगदान के आधार पर साहित्य, प्रदर्शनकारी कलाओं और रूपंकर कलाओं में एक-एक राज्यस्तरीय शिखर सम्मान स्थापित किया है। प्रत्येक सम्मान की राशि 31 हजार रुपए है। शिखर सम्मान केवल मध्यप्रदेश के कलाकारों और साहित्यकारों को ही देय है। मध्यप्रदेश के साहित्यकार/कलाकार से अभिप्राय प्रदेश के स्थायी निवासी की वैधानिक अर्हताओं के अलावा उन व्यक्तियों से भी है जिन्होंने प्रदेश में कला की सुदीर्घ साधना की और जिन्होंने प्रदेश को अपनी कर्मभूमि बना लिया है अथवा यहीं बस गए हैं।

शिखर सम्मान (साहित्य)

1.

श्री श्रीकान्त वर्मा

1980-81

2.

श्री गुलशेर खाँ शानी

1981-82

3.

श्री भवानी प्रसाद मिश्र

1982-83

4.

श्री हरिशंकर परसाई

1983-84

5.

श्री नरेश मेहता

1984-85

6.

श्री वीरेन्द्र कुमार जैन

1985-86

7.

श्री चन्द्रकान्त देवताले

1986-87

8.

श्री रमेशचन्द्र शाह

1987-88

9.

श्री अमीक हनफी

1988-89

10.

श्री सोमदत्त

1989-90

11.

श्री गिरिजा कुमार माथुर

1990-91

12.

डॉ. शिवमंगलसिंह सुमन

1991-92

13.

श्री विनोद कुमार शुक्ल

1993-94

14.

श्री ज्ञानरंजन

1994-95

15.

श्री हरिनारायण व्यास

1996-97

16.

श्री भगवत रावत

1997-98

17.

श्री विष्णु खरे

1998-99

18.

श्री इकबाल मज़ीद

1999-00

19.

श्री मंजूर एहतेशाम

2000-01

20.

श्री विष्णु नागर

2001-02

21.

श्री राजेश जोशी

2002-03

22.

श्री विनय दुबे

2003-04

23.

श्री निदा फाज़ली

2004-05

24.

श्रीमती मालती जोशी

2005-06

25.

डॉ. देवेन्द्र दीपक

2006-07

26.

डा. आनंद कुमार पयासी

2007-08

संस्कृति विभाग प्रमुखत: प्रदेश में महत्वपूर्ण साहित्यकारों, कलाकारों, विशेषज्ञों, संस्थाओं आदि की प्रतिवर्ष विधावार सूचियाँ बनाता है। लोक और नागर प्रदर्शनकारी कलाओं के चक्र में प्रतिवर्ष संगीत, नृत्य, रंगमंच और लोककलाओं के क्षेत्र में क्रमानुसार वर्ग-विशेष के पुरस्कार के लिए एक कलानुशासन को चुना जाता है और उससे संबंधित सूची में शामिल व्यक्तियों और संस्थाओं से निर्धारित प्रपत्र पर समयावधि के अन्दर नामांकन भेजने को कहा जाता है। रूपंकर कलाओं के अन्तर्गत वर्ग विशेष में नागर अथवा लोक रूपंकर कलाओं के लिए नामांकन आमंत्रित किए जाते हैं। सामान्यत: तीन वर्ष के चक्र में एक वर्ष लोक रूपंकर कलाओं को सम्मान के लिए चुना जाता है। साहित्य में भी इसी तरह प्रतिवर्ष नामांकन आमंत्रित करने की प्रक्रिया का अनुसरण किया जाता है। साहित्य के क्षेत्र में पाँच वर्ष में एक बार यह सम्मान उर्दू साहित्य के लिए दिया जाता है। संकलित नामांकन विशेषज्ञों की एक चयन समिति के समक्ष विचारार्थ रखे जाते हैं। वर्ष विशेष के लिए मध्यप्रदेश शासन द्वारा गठित चयन समिति में दूसरे कलानुशासन के ऐसे विशेष भी शामिल किए जाते हैं, जिनकी संबंधित कला में गहरी रुचि हो। चयन समिति को अनुशंसित नामों के अलावा, अपने विवेक से अन्य नाम चुनने की भी स्वतंत्रता है। मध्यप्रदेश शासन का प्रयत्न है कि साहित्य और कलाओं के क्षेत्र में प्रदेश की सृजन प्रतिभा ने जो श्रेष्ठ अजिर्त किया है उसकी व्यापक पहचान बने और ऐसे कला साहित्य मनीषियों को, जो मध्यप्रदेश की समकालीन संस्कृति को अपने मूल्यवान अवदान से समृद्ध कर रहे हैं, एक कल्याणकारी राज्य, समूचे प्रदेश के नागरिकों की ओर से सम्मानित करें। राज्य शासन ने चयन समिति की अनुशंसा को अपने लिए बंधनकारी माना है।

शिखर सम्मान संबंधित क्षेत्र में सृजनात्मकता, उत्कृष्टता, दीर्घसाधना और वर्तमान में सृजन-सक्रियता के निविर्वाद मानदण्डों के आधार पर दिया जाता है। यह सम्मान कलाकार/साहित्यकार के समग्र रचनात्मक अवदान के लिए देय है न कि उसकी किसी कृति विशेष के लिए। शिखर सम्मान सिर्फ सृजनात्मक उपलब्धियों के लिए है, शोध अथवा अकादमिक कार्य के लिए नहीं।

शिखर सम्मान (रूपंकर कलाएँ)

1.

श्री डी.जे. जोशी

1980-81

2.

श्री जयदेव बघेल

1981-82

3.

श्री रमेश पटेरिया

1982-83

4.

श्री विष्णु चिंचालकर

1983-84

5.

श्री गोविन्दराम झारा

1984-85

6.

श्री जनगण सिंह श्याम

1984-85

7.

श्री एल.एस. राजपूत

1985-86

8.

श्री पेमा फत्या

1986-87

9.

सुश्री भूरी बाई

1986-87

10.

श्री वामन ठाकरे

1987-88

11.

श्री मदन भटनागर

1988-89

12.

सुश्री मिट्ठी बाई

1989-90

13.

सुश्री सुन्दरी बाई रजवार

1989-90

14.

श्री राममनोहर सिन्हा

1990-91

15.

श्री श्रेणिक जैन

1991-92

16.

श्री बेलगूर मण्डावी

1993-94

17.

श्री अमृतलाल वेगड़

1994-95

18.

श्री सचिदा नागदेव

1996-97

19.

श्री नरीन नाथ

1997-98

20.

श्री सुशील पाल

1998-99

21.

श्री इब्राहीम खत्री

1999-00

22.

श्री विवेक

2000-01

23.

श्री यूसुफ

2001-02

24.

श्रीमती कृष्णा वर्मा

2002-03

25.

श्री ओ.पी. खरे

2003-04

26.

श्री रॉबिन डेविड

2004-05

27.

श्री नर्मदा प्रसाद तेकाम

2005-06

28.

सुश्री शोभा घारे

2006-07

29.

डा. लक्ष्मीनारायण भावसार

2007-08

शिखर सम्मान (प्रदर्शनकारी कलाएँ)

1.

पंडित कातिर्कराम

1980-81

2.

श्री सत्यदेव दुबे

1981-82

3.

पण्डित कुमार गंधर्व

1982-83

4.

श्री झाडूराम देवांगन

1983-84

5.

श्री रामसहाय पाण्डे

1983-84

6.

श्री हबीब तनवीर

1984-85

7.

सुश्री असगरी बाई

1985-86

8.

श्री कल्याणदास महन्त

1986-87

9.

श्री बाला साहेब पूछवाले

1987-88

10.

श्री पद्मशंकर

1988-89

11.

श्री लक्ष्मीनारायण रजक

1988-89

12.

श्री प्रभात गांगुली

1989-90

13.

उस्ताद अब्दुल हलीम जाफर खाँ

1990-91

14.

गुरु बर्मनलाल

1991-92

15.

श्री बंसी कौल

1993-94

16.

उस्ताद अब्दुल लतीफ खाँ

1994-95

17.

श्री सिद्धेश्वर सेन

1996-97

18.

श्री रंजीत कपूर

1997-98

19.

श्री शंकर होम्बल

1998-99

20.

श्री प्रभाकर चिंचोरे

1999-00

21.

श्री ओमप्रकाश शर्मा

2000-01

22.

सुश्री गुलवर्धन

2001-02

23.

पं. रामलाल

2002-03

24.

पं. लक्ष्मण कृष्णराव पण्डित

2003-04

25.

श्री प्रहलाद सिंह टिपाणिया

2004-05

26.

श्री अलखनंदन

2005-06

27.

डॉ. पुरू दाधीच

2006-07

28.

श्री बसंत रामभाऊ शेवलीकर

2007-08

 
 

 

Copyright 2006 Department of Public Relations. All rights reserved, Disclaimer, Privacy Policy
Site Designed and Maintained by CRISP, Bhopal, (M.P.) INDIA