कहानी सच्ची है
कहानी सच्ची है

पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन से धान की रोपाई हुई आसान

भोपाल : बुधवार, जुलाई 22, 2020, 19:32 IST

खेती में उन्नत तकनीक और आधुनिक कृषि यंत्रों का इस्तेमाल कर कम लागत में अधिक मुनाफा कमाने की बात को समझते हुए किसान अब कृषि कार्य में मशीनों का उपयोग करने लगे हैं। ऐसी ही एक प्रगतिशील किसान हैं जबलपुर जिले के पाटन विकासखंड के ग्राम दिधौरा की सरला देवी पल्हा। जो खेत में धान की रोपाई के लिए पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन का उपयोग कर रही हैं। हाथ से रोपा लगाने की तुलना में इस मशीन से कम समय में खेत में धान की रोपाई हो जाती है। मजदूरी की भी बचत हो रही है। धान की खेती की लागत कम और उत्पादन अधिक होता है।

धान की रोपाई कर रहे सरला देवी पल्हा के पुत्र आनंद मोहन पल्हा ने बताया कि पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन से धान रोपाई की लागत करीब एक हजार रुपए प्रति एकड़ आती है। साथ ही मजदूरों से एक एकड़ धान की रोपाई करवाने पर करीब 4 हजार रुपए की लागत आती थी और 15 से 20 मजदूरों की एक टोली दिन भर में मात्र एक एकड़ खेत की ही रोपाई कर पाते थे। इस प्रकार मशीन से धान की रोपाई से करीब तीन हजार रुपए प्रति एकड़ की बचत हो रही है।

पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन को सरला देवी के पौत्र कुशाग्र पल्हा चला रहे थे, जो शासकीय इंजीनियरिंग कॉलेज जबलपुर के पांचवें सेमेस्टर के आईटी संकाय के छात्र हैं। कुशाग्र ने खुशी से चहकते हुए बताया कि कालेज बंद है तो खेती-किसानी में परिवार का हाथ बंटा रहा हूं। इस मशीन से एक साथ छह लाईनों में धान की रोपाई हो जाती है। मशीन द्वारा एक दिन में 8 से 10 एकड़ के खेत में आसानी से रोपाई हो जाती है। कृषक आनंद मोहन पल्हा ने बताया कि हाथ से धान का रोपा लगाने के लिए मजदूरों को समस्या का भी सामना करना पड़ता था। लेकिन पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन से अब यह समस्या दूर हो गई है।

यान मार्क जापानी कंपनी की यह मशीन राईड ऑन टॉप फोर व्हील टाईप है। इसे केवल एक व्यक्ति ही चलाता है। इसमें 21 एचपी का इंजन है, जिसके कारण यह मशीन काली मिट्टी में भी आसानी से रोपाई कर पाती है एवं कीचड़ में भी नहीं फंसती है। डीजल की खपत करीब तीन लीटर प्रति घंटे है। इस मशीन से कतार से कतार की दूरी 11 इंच तथा पौधे से पौधे की दूरी 6, 8, 10 एवं 12 इंच रखी जा सकती है। इसी प्रकार रोपा के दौरान पौधों की संख्या भी अपनी इच्छा के अनुसार रखी जा सकती है। सहायक संचालक कृषि इंदिरा त्रिपाठी ने बताया कि पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन की कीमत 14 लाख 40 हजार है, जिस पर कृषि अभियांत्रिकी विभाग द्वारा सरला देवी पल्हा को पांच लाख रुपए का शासकीय अनुदान प्रदान किया गया है। मशीन से धान की रोपाई से जहां पल्हा परिवार प्रसन्न है वहीं आसपास के किसानों में भी इस मशीन के प्रति उत्सुकता है।


मनोज श्रीवास्तव/नीरज शर्मा
पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन से धान की रोपाई हुई आसान
मनरेगा में रोजगार मिलने से मजदूरों का जीवन यापन हो गया आसान
घर वापसी से मजदूरों के चेहरे पर लौटी रोनक
मरणासन्न हालत में लाया गया तेंदुआ स्वस्थ्य होकर वापस जंगल पहुँचा
लॉकडाउन में बच्चों को लुभा रहा अनूठा बाल साहित्य संसार
उपचार के साथ अपनत्व का एहसास दिला रही नर्सें
जरूरतमंदों की निस्वार्थ सेवा कर रही है अर्चना परमार
लॉकडाउन में चाचा-भतीजे ने महज तीन दिन में खोदा 20 फिट कुआँ
जिन्होंने हमें स्वस्थ किया, मालिक उन्हें भी स्वस्थ रखे
जरूरतमंदों को राशन बांटने के लिये आगे आये आनंदक
स्वप्रेरणा से समाज सेवा में हाजिर है रेणुका सोलंकी
स्वस्थ होकर 13 मरीज खुशी-खुशी लौटे घर
गेहूँ उपार्जन प्रक्रिया में महिला स्व-सहायता समूहों की भागीदारी
अपने दायित्वों का पूरी गंभीरता से निर्वाह कर रहे कोरोना वारियर्स पी एम देशमुख एवं राजेन्द्र कुमार भलावी
बेहतर सुविधाओं के साथ फसल बेचकर खुशहाल हो रहे हैं किसान
कन्टेंमेंट क्षेत्र में सर्वे कर रही है आँगनवाड़ी कार्यकर्ता
मनरेगा में 80623 श्रमिकों को मिला रोजगार
सप्ताह में एक बार कुछ घंटों के लिए परिवार से मिल पाती हैं तहसीलदार
कोरोना के संकट की घड़ी में अधिकारी-कर्मचारी बने मददगार
तेलंगाना में फँसे शिवपुरी जिले के 23 विद्यार्थी पहुँचे अपने घर
श्योपुर जिले के राजस्थान में फँसे 343 श्रमिकों को सरकार ने पहुँचाया अपने घर
कोरोना योद्धाओं के लिए शुभम ने बनाई सेनिटाईजर मशीन 
गरीब निराश्रितों के लिए 953 किसानों ने किया 96 क्विंटल अन्न दान
अन्य राज्यों के फँसे मजदूर बसों से हुए अपने घरों को रवाना
मामाजी ने भेजी है बस तो अब चिन्ता किस बात की, हम पहुँचेंगे अपने गाँव
रविवार को पढ़ाई हुई और अधिक रोचक
बैंकों ने भी कोरोना संकट में निभाई सामाजिक जिम्मेदारियाँ
कोरोना की जंग में जी-जान से जुटे हैं अधिकारी-कर्मचारी
कोरोना से जंग में कर्मवीर योद्धा बन डाक्टर्स कर रहे समर्पित सेवा
देवास जिले में 11 मरीज स्वस्थ होकर पहुंचे घर
1 2 3 4 5