कहानी सच्ची है

मनरेगा में रोजगार मिलने से मजदूरों का जीवन यापन हो गया आसान

भोपाल : सोमवार, जून 1, 2020, 14:58 IST

मजदूरों को अपने गाँव में ही काम मिलता रहे तो उन्हें बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दमोह जिले की ग्राम पंचायत सेमरा लखरौनी के निवासी हरिदास पाल और उनके भाई झलकन की कहानी कुछ इस तरह की है। इन दोनों को परिवार सहित मनरेगा में रोजगार मिलने से जीवन यापन अब आसान हो गया है।

हरिदास पाल पिछले पाँच साल से धार जिले के पीथमपुर में एक दवा कंपनी में काम कर रहा था और इसका भाई अहमदाबाद की एक दवा कंपनी में काम करता था। मार्च महीने में कोरोना महामारी के कारण दोनों अपने घर सेमरा लखरौनी आ गए। एहतियात के तौर पर 14 दिन तक क्वारेंनटाईन किया गया। इस अवधि के बीत जाने के बाद इन्हें रोजी-रोटी की दरकार थी। ऐसे में गाँव के जनप्रतिनिधि ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने श्रमिकों को जॉब कार्ड बनाकर मनरेगा से रोजगार दिलाने की बात कही है, तो ग्राम पंचायत के रोजगार सहायक से सम्पर्क कर तुम लोगों को काम मिल सकता है। दोनों भाईयों ने रोजगार सहायक से सम्पर्क किया। कुछ दिन बाद नवीन जॉब कार्ड के साथ स्थानीय स्तर पर ही कपिलधारा कूप पर कार्य करने के लिए उन्हें एवं उनके परिवार के सदस्यों को मजदूरी पर रख लिया गया। ग्राम पंचायत में काम मिलने से उनका जीवन यापन आसान हुआ। हरिदास पाल का कहना है कि ऐसे ही गाँव में काम मिलता रहेगा तो फिर हमें बाहर जाने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।


सुनील वर्मा/ ऋषभ जैन
मनरेगा में रोजगार मिलने से मजदूरों का जीवन यापन हो गया आसान
घर वापसी से मजदूरों के चेहरे पर लौटी रोनक
मरणासन्न हालत में लाया गया तेंदुआ स्वस्थ्य होकर वापस जंगल पहुँचा
लॉकडाउन में बच्चों को लुभा रहा अनूठा बाल साहित्य संसार
उपचार के साथ अपनत्व का एहसास दिला रही नर्सें
जरूरतमंदों की निस्वार्थ सेवा कर रही है अर्चना परमार
लॉकडाउन में चाचा-भतीजे ने महज तीन दिन में खोदा 20 फिट कुआँ
जिन्होंने हमें स्वस्थ किया, मालिक उन्हें भी स्वस्थ रखे
जरूरतमंदों को राशन बांटने के लिये आगे आये आनंदक
स्वप्रेरणा से समाज सेवा में हाजिर है रेणुका सोलंकी
स्वस्थ होकर 13 मरीज खुशी-खुशी लौटे घर
गेहूँ उपार्जन प्रक्रिया में महिला स्व-सहायता समूहों की भागीदारी
अपने दायित्वों का पूरी गंभीरता से निर्वाह कर रहे कोरोना वारियर्स पी एम देशमुख एवं राजेन्द्र कुमार भलावी
बेहतर सुविधाओं के साथ फसल बेचकर खुशहाल हो रहे हैं किसान
कन्टेंमेंट क्षेत्र में सर्वे कर रही है आँगनवाड़ी कार्यकर्ता
मनरेगा में 80623 श्रमिकों को मिला रोजगार
सप्ताह में एक बार कुछ घंटों के लिए परिवार से मिल पाती हैं तहसीलदार
कोरोना के संकट की घड़ी में अधिकारी-कर्मचारी बने मददगार
तेलंगाना में फँसे शिवपुरी जिले के 23 विद्यार्थी पहुँचे अपने घर
श्योपुर जिले के राजस्थान में फँसे 343 श्रमिकों को सरकार ने पहुँचाया अपने घर
कोरोना योद्धाओं के लिए शुभम ने बनाई सेनिटाईजर मशीन 
गरीब निराश्रितों के लिए 953 किसानों ने किया 96 क्विंटल अन्न दान
अन्य राज्यों के फँसे मजदूर बसों से हुए अपने घरों को रवाना
मामाजी ने भेजी है बस तो अब चिन्ता किस बात की, हम पहुँचेंगे अपने गाँव
रविवार को पढ़ाई हुई और अधिक रोचक
बैंकों ने भी कोरोना संकट में निभाई सामाजिक जिम्मेदारियाँ
कोरोना की जंग में जी-जान से जुटे हैं अधिकारी-कर्मचारी
कोरोना से जंग में कर्मवीर योद्धा बन डाक्टर्स कर रहे समर्पित सेवा
देवास जिले में 11 मरीज स्वस्थ होकर पहुंचे घर
कोरोना संक्रमण में भी निर्बाध जारी है गेहूँ उपार्जन
1 2 3 4 5