कहानी सच्ची है

लॉकडाउन में बच्चों को लुभा रहा अनूठा बाल साहित्य संसार

भोपाल : सोमवार, मई 18, 2020, 18:13 IST

    विश्वव्यापी कोरोना महामारी ने आज बच्चों की दुनिया को घर के अंदर सीमित कर दिया है। जिसे ज्यादा तीव्रता से महसूस करते हैं वे बच्चे जो कि बाल देखरेख संस्थाओं में रहते हैं। इनका अपना कोई परिवार भी नहीं, ऐसी जटिल परिस्थितियों में इनके अवसाद व मनोसामाजिक समस्याओं से ग्रसित होने की अधिक संभावनाएं होती हैं। इन मासूम निराश्रित बच्चों को लगातार स्वस्थ मनोरंजन और बौद्धिक विकास की आवश्यकता को समझते हुए छिंदवाड़ा की महिला एवं बाल विकास विभाग कि जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती कल्पना तिवारी ने ऐसे बच्चों के लिए एक अभिनव पहल की है।

श्रीमती तिवारी ने 'साहित्य बच्चों के लिए' नाम से एक सोशल मीडिया समूह सृजित किया है। जिसमें ऐसे बच्चों को उनकी बाल सुलभ मनोवृत्ति और सपनों को विभिन्न बाल साहित्य की विधाओं के माध्यम से परिकल्पनाओं के उड़ान के पंख और हौसले दिये हैं।
इस समूह में देश के जाने-माने बाल साहित्यकारों को एक मीडिया मंच पर एकत्रित किया गया है, जो अपनी कला से बाल गीत, बाल कथा-कहानियाँ, बाल पहेलियाँ, रेडियो व वीडियो एपिसोड और फेसबुक उदगार के जागरूकता एपिसोड से समृद्ध व रोचक सामग्री साझा कर रहे हैं। विभाग द्वारा बच्चों को एक नवीन कार्यक्रम 'बाल रंग' प्रतिदिन लगातार प्रस्तुत किया जा रहा है। बच्चों द्वारा भी इस कार्यक्रम को बड़ी रुचि व उत्साह से देखा-सुना जा रहा है। इसके माध्यम से बच्चे गीत गायन, कहानी श्रवण को चित्रों में उकेरना, अभिनयन जैसी सजीव नई कला सीख रहे है।


बिन्दु सुनील
पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन से धान की रोपाई हुई आसान
मनरेगा में रोजगार मिलने से मजदूरों का जीवन यापन हो गया आसान
घर वापसी से मजदूरों के चेहरे पर लौटी रोनक
मरणासन्न हालत में लाया गया तेंदुआ स्वस्थ्य होकर वापस जंगल पहुँचा
लॉकडाउन में बच्चों को लुभा रहा अनूठा बाल साहित्य संसार
उपचार के साथ अपनत्व का एहसास दिला रही नर्सें
जरूरतमंदों की निस्वार्थ सेवा कर रही है अर्चना परमार
लॉकडाउन में चाचा-भतीजे ने महज तीन दिन में खोदा 20 फिट कुआँ
जिन्होंने हमें स्वस्थ किया, मालिक उन्हें भी स्वस्थ रखे
जरूरतमंदों को राशन बांटने के लिये आगे आये आनंदक
स्वप्रेरणा से समाज सेवा में हाजिर है रेणुका सोलंकी
स्वस्थ होकर 13 मरीज खुशी-खुशी लौटे घर
गेहूँ उपार्जन प्रक्रिया में महिला स्व-सहायता समूहों की भागीदारी
अपने दायित्वों का पूरी गंभीरता से निर्वाह कर रहे कोरोना वारियर्स पी एम देशमुख एवं राजेन्द्र कुमार भलावी
बेहतर सुविधाओं के साथ फसल बेचकर खुशहाल हो रहे हैं किसान
कन्टेंमेंट क्षेत्र में सर्वे कर रही है आँगनवाड़ी कार्यकर्ता
मनरेगा में 80623 श्रमिकों को मिला रोजगार
सप्ताह में एक बार कुछ घंटों के लिए परिवार से मिल पाती हैं तहसीलदार
कोरोना के संकट की घड़ी में अधिकारी-कर्मचारी बने मददगार
तेलंगाना में फँसे शिवपुरी जिले के 23 विद्यार्थी पहुँचे अपने घर
श्योपुर जिले के राजस्थान में फँसे 343 श्रमिकों को सरकार ने पहुँचाया अपने घर
कोरोना योद्धाओं के लिए शुभम ने बनाई सेनिटाईजर मशीन 
गरीब निराश्रितों के लिए 953 किसानों ने किया 96 क्विंटल अन्न दान
अन्य राज्यों के फँसे मजदूर बसों से हुए अपने घरों को रवाना
मामाजी ने भेजी है बस तो अब चिन्ता किस बात की, हम पहुँचेंगे अपने गाँव
रविवार को पढ़ाई हुई और अधिक रोचक
बैंकों ने भी कोरोना संकट में निभाई सामाजिक जिम्मेदारियाँ
कोरोना की जंग में जी-जान से जुटे हैं अधिकारी-कर्मचारी
कोरोना से जंग में कर्मवीर योद्धा बन डाक्टर्स कर रहे समर्पित सेवा
देवास जिले में 11 मरीज स्वस्थ होकर पहुंचे घर
1 2 3 4 5