कहानी सच्ची है
कहानी सच्ची है

उपचार के साथ अपनत्व का एहसास दिला रही नर्सें

भोपाल : शुक्रवार, मई 15, 2020, 14:48 IST

कोरोना संक्रमण के नाजुक दौर में मरीजों के बेहतर इलाज के साथ-साथ उनकी देखरेख में लगे चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ और अन्य शासकीय कर्मी अपने कर्त्तव्यों के प्रति समर्पण भाव से जुट कर मरीजों में अपनत्व का भाव जगा रही हैं। सकारात्मक नजरिया मरीजों को स्वस्थ करने में अहम भूमिका निभा रहा है।

महिला डॉक्टर्स, नर्सेस और अन्य महिलाओं कर्मचारी अपने नौनिहाल बच्चों से दूर रहकर मरीजों को स्वस्थ करने में जुटी हैं। नरसिंहपुर जिला अस्पताल में कार्यरत नर्सेस मीना अहिरवार, सीमा पटेल, सुमन उमरेटे, पल्लवी दुपारे, पूजा जाटव, पूजा कहार और किरण बोपचे ऐसे कई नाम हैं जो अपनी ड्यूटी पूरे उत्साह और सुरक्षा संसाधनों के बीच अपने कर्त्तव्यों को निभा रही हैं। कोविड वार्ड के दवा वितरण कक्ष में तैनात रीता ठाकरे न केवल मरीजों को दवाईयाँ देती हैं बल्कि मरीजों को जरूरी सावधानियाँ बरतने की समझाईश भी देती हैं। यासमीन मसीह का कहना है कि सेवा और समर्पण तो नर्सिंग पेशे का मूल मंत्र है। हम सभी की कोशिश रहती है कि मरीजों को बेहतर सेवा मिले और वे जल्दी स्वस्थ होकर अपनों के बीच पहुँचे। गोटेगाँव ब्लाक के श्रीनगर स्वास्थ्य केन्द्र में कार्यरत प्रियंका बिसेन का कहना है कि उनका तीन साल का बेटा बारासिवनी में हैं, किन्तु ड्यूटी में व्यस्त होने से उसे ला नहीं पा रहे। उनका कहना है कि अपने बेटे से तो फिर मिल लेंगे, यदि किसी मरीज को हम ठीक करा लेंगे तो यह सबसे बड़ा काम होगा।

मुरैना में कोरोना महामारी विशेषज्ञ डॉ. अल्पना सक्सेना अपने पाँच साल के बेटे को अपने माता-पिता के घर झाँसी में छोड़ आई हैं। डॉ. सक्सेना ने संकल्प लिया है कि इस महामारी की लड़ाई खत्म करने के बाद घर वापस जायेंगी। इन्होंने बताया कि मुरैना जिला में कोरोना वायरस के केसों की समीक्षा करना, प्रभावितों की मदद करना, पॉजीटिव मरीजों के उपचार में कोई कमी तो नहीं है, इसके लिए विभिन्न विभागों से समन्वय बनाकर पॉजीटिव मरीज को हर हाल में बचाने के सभी तरह के जतन करना उनकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया है।

हरदा जिले के सिराली तहसील में पटवारी के पद पर कार्यरत लक्ष्मी अहिरवार अपने छह साल के बेटे को पति के पास छोड़कर रोजाना अपनी ड्यूटी निभाने निकल पड़ती है। श्रीमती अहिरवार के कार्यक्षेत्र में तीन ग्राम कालकुंड, डगांवा, और भटपुरा हैं। पिछले दिनों भटपुरा गाँव में तीन कोरोना संक्रमित मरीज पाये गये। जिससे गाँव को कंटेनमेंट एरिया घोषित कराने के बाद पूरी तरह लॉकडाउन कराया और चेकपोस्ट की निगरानी भी की जा रही हैं। कंटेनमेंट एरिया बनाए जाने पर गाँव के लोग इन्हें फोन पर जरूरी वस्तुओं की माँग करते हैं और कोटवार एवं संबंधित टीम के माध्यम से समस्याओं का समाधान भी करवा रही है।


राहुल बासनिक/शाक्यवार/ऋषभ जैन
पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन से धान की रोपाई हुई आसान
मनरेगा में रोजगार मिलने से मजदूरों का जीवन यापन हो गया आसान
घर वापसी से मजदूरों के चेहरे पर लौटी रोनक
मरणासन्न हालत में लाया गया तेंदुआ स्वस्थ्य होकर वापस जंगल पहुँचा
लॉकडाउन में बच्चों को लुभा रहा अनूठा बाल साहित्य संसार
उपचार के साथ अपनत्व का एहसास दिला रही नर्सें
जरूरतमंदों की निस्वार्थ सेवा कर रही है अर्चना परमार
लॉकडाउन में चाचा-भतीजे ने महज तीन दिन में खोदा 20 फिट कुआँ
जिन्होंने हमें स्वस्थ किया, मालिक उन्हें भी स्वस्थ रखे
जरूरतमंदों को राशन बांटने के लिये आगे आये आनंदक
स्वप्रेरणा से समाज सेवा में हाजिर है रेणुका सोलंकी
स्वस्थ होकर 13 मरीज खुशी-खुशी लौटे घर
गेहूँ उपार्जन प्रक्रिया में महिला स्व-सहायता समूहों की भागीदारी
अपने दायित्वों का पूरी गंभीरता से निर्वाह कर रहे कोरोना वारियर्स पी एम देशमुख एवं राजेन्द्र कुमार भलावी
बेहतर सुविधाओं के साथ फसल बेचकर खुशहाल हो रहे हैं किसान
कन्टेंमेंट क्षेत्र में सर्वे कर रही है आँगनवाड़ी कार्यकर्ता
मनरेगा में 80623 श्रमिकों को मिला रोजगार
सप्ताह में एक बार कुछ घंटों के लिए परिवार से मिल पाती हैं तहसीलदार
कोरोना के संकट की घड़ी में अधिकारी-कर्मचारी बने मददगार
तेलंगाना में फँसे शिवपुरी जिले के 23 विद्यार्थी पहुँचे अपने घर
श्योपुर जिले के राजस्थान में फँसे 343 श्रमिकों को सरकार ने पहुँचाया अपने घर
कोरोना योद्धाओं के लिए शुभम ने बनाई सेनिटाईजर मशीन 
गरीब निराश्रितों के लिए 953 किसानों ने किया 96 क्विंटल अन्न दान
अन्य राज्यों के फँसे मजदूर बसों से हुए अपने घरों को रवाना
मामाजी ने भेजी है बस तो अब चिन्ता किस बात की, हम पहुँचेंगे अपने गाँव
रविवार को पढ़ाई हुई और अधिक रोचक
बैंकों ने भी कोरोना संकट में निभाई सामाजिक जिम्मेदारियाँ
कोरोना की जंग में जी-जान से जुटे हैं अधिकारी-कर्मचारी
कोरोना से जंग में कर्मवीर योद्धा बन डाक्टर्स कर रहे समर्पित सेवा
देवास जिले में 11 मरीज स्वस्थ होकर पहुंचे घर
1 2 3 4 5