खुशियों की दास्ताँ

सिवनी जिले में शिक्षक बने मेरा विद्यालय-मेरा देवालय मनोवृत्ति के संवाहक

भोपाल : मंगलवार, सितम्बर 3, 2019, 14:29 IST

सिवनी जिले के आदिवासी विकासखण्ड घंसौर के शासकीय हाईस्कूल कटिया के शिक्षकों ने ''मेरी शाला-मेरी जिम्मेदारी'' भावना को आत्मसात कर लिया है। यहाँ के शिक्षक अपनी शाला को देव-स्थान मानते हैं। उन्होंने ''मेरा विद्यालय-मेरा देवालय'' की मनोवृत्ति अपनाकर शाला परिसर की साफ-सफाई की जिम्मेदारी ले ली है। प्राचार्य श्री एस.के.बोपचे के निर्देशन में शाला के शिक्षक प्रतिदिन का चार्ट बनाकर परिसर की सफाई के साथ शौचालय की सफाई भी करते हैं। प्राचार्य भी सोमवार को शाला की सफाई करते हैं।

अब इस हाई स्कूल का परिसर और कक्षाएँ साफ-सुथरी और व्यवस्थित रहती हैं। इससे यहाँ पढ़ रहे बच्चे भी स्वच्छता में सहभागी हो गये हैं। इसी तरह प्राथमिक शाला कुर्मी ठेलमाल भी साफ-सफाई की मिसाल बन गई है। यहाँ के 60 वर्षीय शिक्षक चुरामन सिंह मार्को बीमारी के कारण खड़े होने में असमर्थ हैं। फिर भी अपनी शाला की स्वयं रोजाना साफ-सफाई करते हैं।


(खुशियों की दास्ताँ)


बबीता मिश्रा
आगँनवाड़ी का बाल शिक्षा केन्द्र में परिवर्तन बना बच्चों का आकर्षण
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नोलॉजी के विद्यार्थियों को मृगनयनी एम्पोरियम से जोड़ने का निर्णय
धार जिले में थम्मन तालाब के जीर्णोद्धार से झरने को मिला नया जीवन
राकेश चन्द्रवंशी को दस साल बाद मिला जमीन का मालिकाना हक
सालों बाद 165 लोगों को मिले भू-खण्ड अधिकार-पत्र
ग्रामीणों के सहयोग से प्रिंसिपल ने सरकारी मिडिल स्कूल को बनाया उत्कृष्ट
सिवनी जिले में शिक्षक बने मेरा विद्यालय-मेरा देवालय मनोवृत्ति के संवाहक
मछली पालन व्यवसायी बनीं ग्रामीण महिलायें
अशोकनगर जिले में छात्राओं को 5-एस के लिये प्रेरित कर रहा "शुचिता" अभियान
आदिवासी समुदाय के लिये सोलर लाईट है सूरज की लाईट
ग्रामीणों की बैंक अधिकारी बनी संगीता डामोर और सुनीता सोलंकी
मुरैना जिले के ग्राम खटानेकेपुरा में अब नहीं सूखते कुएँ और हैण्ड-पम्प
बेरोजगारों को सफल व्यवसायी बना रही मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना
शेडनेट हाउस में आम,अमरूद,मसाले,फूलों की खेती से आय में तीन गुना वृद्धि
घर के पास स्कूल - बटोही के जनजातीय बच्चों को मिला तोहफा
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से स्वावलम्बी बने दिव्यांग रामदिनेश
पैडी ट्रांसप्लांटर मशीन से सस्ती और आसान हुई धान रोपाई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से दीपक और विजय बने स्वावलम्बी
ड्रिप इरिगेशन सिस्टम से टमाटर की खेती से सवा लाख का मुनाफा
अनूपपुर के किसान ज्ञान सिंह ने उद्यानिकी फसल से कमाए 4.50 लाख
शाजापुर जिले में लखुंदर नदी पर बना बाँध ; 595 हेक्टेयर में सिंचाई सुनिश्चित
भारत सरकार ने प्रदेश के 4 जिलों में तलाशी काजू की खेती की संभावनाएँ
नि:शुल्क इलाज से सुनने लगी है ओजस्वी, मुस्कुराने लगे हैं नन्दिनी और प्रियांशु
दस्तक अभियान से कुपोषित मासूम दीपिका, सुहाना, मोनिका को मिली नई जिन्दगी
मंदसौर जिले के ग्राम पाड़लिया मारू में प्रति व्यक्ति प्रतिदिन 70 लीटर पेयजल प्रदाय
सहायता राशि में अप्रत्याशित वृद्धि से चिंता-मुक्त हुए गरीब परिवार
मंदसौर जिले के ग्रामीण अंचल में घर-घर नल कनेक्शन
दस्तक अभियान ... आकाश हुआ अति-कुपोषण से मुक्त
इंजीनियर प्रशांत ने पथरीली जमीन पर की फायदेमंद खेती
दोगुनी पेंशन मिलने से खुश है हिनौता गाँव की दिव्यांग दम्पत्ति
1 2