सक्सेस स्टोरीज

मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड

भोपाल : बुधवार, सितम्बर 12, 2018, 14:07 IST

मध्यप्रदेश शूटिंग अकादमी की खिलाड़ी मनीषा कीर ने वर्ल्ड चैपियनशिप में शूटिंग में रजक पदक हासिल किया है। मनीषा वर्ल्ड चैपियनशिप में रजक पदक हासिल करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गयी हैं। खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने मनीषा को हार्दिक बधाई देते हुए उसे उज्जवल भविष्य की शुभकानाएँ दी हैं। श्रीमती सिधिंया ने कहा है कि मध्यप्रदेश की बेटियाँ दुनिया जीतने का जज्बा रखती हैं।

भोपाल की 18 वर्षीय मनीषा गोरेगाँव में रहती है। आठ भाई-बहनों में से एक मनीषा पहले दिन की शुरूआत भोपाल के बड़े तालाब में मछली पकड़ने में अपने पिता की मदद करने से करती थी। पाँच बेटी और तीन बेटों वाले परिवार में पिता श्री कैलाश कीर पर इन विपरीत परिस्थितियों में बच्चों को पढ़ाना मुश्किल था। एक दिन मनीषा अपनी बहन के साथ म.प्र. शूटिंग अकादमी में चल रही टेलेंट सर्च ट्राइल्स देखने पहुँची। ओलम्पिक खिलाड़ी तथा म.प्र. शूटिंग अकादमी में प्रशिक्षक श्री मनशेर सिंह की नजर जब मनीषा पर पड़ी, तो उन्होंने मनीषा को शूटिंग करने को कहा। बिना किसी पूर्व प्रशिक्षण के मनीषा ने राइफल से टारगेट पर निशाना साधकर श्री सिंह को अचंभित कर दिया। उस दिन से मनीषा शूटिंग अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही है।

तीन सालों में मनीषा ने तीन नेशनल और दो इंटरनेशनल इवेंट में हिस्सा लिया। अब तक 10 पदक हासिल किये हैं। मनीषा के पिता कहते हैं कि मछली बेचकर जो आमदनी होती है, उससे बड़ी मुश्किल से परिवार का पेट भर पाता हूँ। खेल तो भूल जाओ, बच्चों को स्कूल भेजना ही मुश्किल है। वे कहते हैं शूटिंग क्या होती है, मुझे नहीं पता। बस इतना पता है कि बिटिया ने प्रदेश और देश का नाम रौशन किया है ।

मनीषा कहती है अब उसका लक्ष्य वर्ष 2020 टोक्यो ओलम्पिक में भारत को पदक दिलाना है। वह कहती है कि पिता के साथ मछली पकड़ने की तकनीक को समझा, जिसमें बहुत सब्र और तेज नज़र की जरूरत होती है। यह तकनीक मुझे शूटिंग में मददगार साबित हुई। प्रशिक्षक श्री मनशेर सिंह कहते हैं कि मनीषा की सीखने और तकनीक को प्रतिस्पर्धाओं में उपयोग करने की क्षमता अद्भुत है।


बिन्दु सुनील
स्व-सहायता समूह बनाकर ग्रामीण महिलाएँ बनीं आत्म-निर्भर
शासन से मिली सहायता तो नीरज पहुंचे विदेश पढ़ाई करने
राजबहोट में दस मिनट में मिला विकलांग पेंशन का लाभ
वॉटर शेड परियोजना से खेतों को मिल रहा भरपूर पानी
मासूम भोला की हुई नि:शुल्क चिकित्सा : दस्तक अभियान से स्वस्थ हुआ ओमप्रकाश
आजीविका मिशन से सीमा ने बनाई नई पहचान
राष्ट्रीय कृषि विकास योजना से समृद्ध बनीं महिला किसान जानकी बाई
स्व-रोजगार योजना से कमलेश जाटव बने डेयरी मालिक
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा हुआ अपने घर का सपना
नन्हीं पायल बोलने और सुनने लगी है
प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई और उद्यानिकी विकास योजनाओं से किसान हुए समृद्ध
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से ग्राम औरीना और मुडकी में पहुँची विकास की रोशनी
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिल रहा संबल
मनरेगा की मदद से कृषक गोविंद के खेतों में बना कूप और तालाब
तत्काल आवश्यक दस्तावेज मिलने से आम आदमी को मिली राहत
गुलाब की खेती से सालाना 10-12 लाख कमा रहे युवा किसान आशीष
शाहपरी, सज्जाद और नासिर का माफ हुआ बकाया बिजली बिल
आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर
प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक
श्रमिक सुनीता, संध्या और शशि को मिले पक्के घर
गरीबों, जरूरतमंदों का भोजनालय बनी दीनदयाल रसोई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...