सक्सेस स्टोरीज

प्रधानमंत्री सड़कें बनने से ग्रामीणों को साहूकारों से मिली मुक्ति

भोपाल : बुधवार, अगस्त 8, 2018, 15:03 IST

प्रदेश के आदिवासी अंचल में प्रधानमंत्री सड़क जनजातीय समाज की आर्थिक आजादी का सबब बन रही है। इन अंचलों में रहने वाले गरीब परिवार अब स्थानीय साहूकारों के चंगुल से निकल कर शहरों में अपनी फसल बेच रहे हैं। कुछ ऐसा ही नजारा है छिंदवाड़ा और उमरिया के जिले का।

उमरिया जिले के करकेली विकासखण्ड मुख्यालय से लगभग 50 कि.मी. दूर निर्मित की गई चार प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क बनने से 17 ग्रामों की 15 हजार से अधिक अनुसूचित जनजाति वर्ग की आबादी को स्थानीय साहूकारों और दलालों के चुंगल से मुक्ति मिल गई है। ग्राम घोघरी से छतैनी, मगर, गाजर, हर्रवाह, से बुढ़िया, केरपानी, मझौली, बिलासपुर से जलधरा गाजर तथा कल्दा से बिछिया ग्रामों को बारहमासी बढ़िया सड़क मिली है।

दूरस्थ आदिवासी अंचल में बसे इन ग्रामों में विकास की रोशनी अब आने लगी है। ग्रामों में 108 जननी एक्सप्रेस, एम्बुलेंस और यात्रा के लिये बसों तथा छोटी ट्रेवल्स गाड़ियों का आना-जाना तेज हो गया है। बच्चों को स्कूल आने-जाने की सुविधा मिली है। इस पिछड़े क्षेत्र के किसान अब अपनी फसलों को कृषि उपज मंडी में लाकर बेचने लगे हैं। पहले शहरों से व्यापारी आता था और अपनी मर्जी की दरों पर फसल खरीदकर ले जाता था। इन सड़कों के बन जाने से किसानों को फसल का मनचाहा दाम भी मिल रहा है।

छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्णा विकासखण्ड के ग्राम बेलगांव दवामी में 78.09 लाख रूपये लागत से बनाई गई प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क ने 450 से अधिक ग्रामवासियों के जीवन में विकास की नई रोशनी पैदा कर दी है। पाढुर्णा बेलगांव दवामी के जाम नदी पर पुल और 1.80 कि.मी. डामरीकृत सड़क ने गाँव में स्वास्थ, शिक्षा, व्यापार के नये मार्ग खोल दिए हैं। अब शासन की योजनाओं का लाभ गाँव के लोगों को मिल रहा है। किसानों की फसलें भी आसानी से पाढुर्णा गल्ला मड़ी पहुँच रही है। यह क्षेत्र कपास, संतरा के उत्पादन के लिए पहचाना जाता है। प्रधानमंत्री सड़क बेलगाँव दवामी के निवासियों की आर्थिक उन्नति का मार्ग बन गई है।


सक्सेस स्टोरी (उमरिया, छिंदवाड़ा)


अनिल वशिष्ठ
कॉलेज में पढ़ रही है अब धारे गाँव की बेटियाँ
आदिवासी महिलाओं ने अपनाया कड़कनाथ पालन व्यवसाय
आजीविका मिशन से 25 लाख महिलाएँ बनीं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से बचपन के हुनर को बनाया जीने का सहारा
मासूम अखिलेश को आरबीएसके टीम ने ह्रदय रोग से दिलाई मुक्ति
विशेषज्ञों की सलाह पर कृषि को लाभकारी बना रहे किसान
गरीबों के लिये मुसीबत में सहारा बन रही संबल योजना
बिजली माफी से खिले गरीबों के चेहरे
स्व-रोजगार योजनाओं से आत्म-निर्भरता की ओर बढ़ता युवा वर्ग
मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी योजना से प्रसन्न है कमजोर वर्ग
मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना ने दिलवाया आत्म-सम्मान
डॉ. रूपाली का है अब अपना क्लीनिक
ई-रिक्शा से रवि रैकवार की आमदनी हुई दोगुनी
प्रधानमंत्री सड़कें बनने से ग्रामीणों को साहूकारों से मिली मुक्ति
रवि ने साइबर कैफे से पाई आत्म-निर्भरता
गरीबों का संबल बनी मुख्यमंत्री जन-कल्याण और स्व-रोजगार योजना
रेवाराम के परिवार का संबल बने 4 लाख रुपये
समाधान एक दिन में योजना से समय पर मिल रहीं लोक सेवायें
आत्म-निर्भर बने युवा नरेन्द्र, दिलीप और शरीफ
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से गंगाराम बने साड़ी व्यापारी
बुरे वक्त का सहारा बनी संबल योजना
स्नेह सरोकार की मदद से सुपोषित हो रहे बच्चे
स्वस्थ जिंदगी बितायेंगी शिखा और माही
मिस्टर एम.पी. मोहन और दुला का बकाया बिल माफ
लल्ला कोल, हरीराम चढ़ार को भी मिला पक्का घर
रोशनी क्लीनिक की मदद से परमार दम्पत्ति को मिला संतान सुख
एक सड़क से रूका 7 गाँवों का पलायन
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से बेकरी के मालिक बने मोहम्मद जैद खान
दु:ख की घड़ी में शगुनबाई का सहारा बनी संबल योजना
प्रधानमंत्री आवास योजना से साकार हुए गरीबों के पक्के घर के सपने
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...