सक्सेस स्टोरीज

रेवाराम के परिवार का संबल बने 4 लाख रुपये

भोपाल : मंगलवार, अगस्त 7, 2018, 14:51 IST

मजदूरी से परिवार का भरण-पोषण करने वाले रेवाराम के गुजरने के बाद संबल योजना में मिली मदद से परिवार सदमे के साथ आर्थिक तंगी से भी उबर रहा है। खरगोन जिले के हीरापुर टिमरनी निवासी 32 वर्षीय मजदूर रेवाराम खरते की गत 28 अप्रैल को मजदूरी के दौरान आकस्मिक मृत्यु हो गई थी। खरगोन शहर में अमृत योजना में खुदाई करते समय रेवाराम पर पाइप गिर गया था। अचानक टूट पड़ी इस आपदा से रेवाराम की पत्नी द्वारिकाबाई, पिता गारदा और दो छोटे-छोटे बच्चों की स्थिति काफी दयनीय हो गयी थी।

संयोगवश रेवाराम मुख्यमंत्री जन-कल्याण योजना (संबल) में पंजीयन करवा चुका था। यह योजना ही उसके परिवार का सबसे बड़ा सहारा बनी। योजना में परिवार को दिवंगत रेवाराम की अंत्येष्टि के लिये 5 हजार रूपये के साथ 4 लाख रुपये अनुग्रह राशि भी संबल योजना में मिल गई है। द्वारिकाबाई कहती हैं कि यह सरकारी सहायता न होती, तो ससुर की दवाई और बच्चों का पालन-पोषण असंभव हो गया था।

खरगोन जिले में संबल योजना में अब तक 624 परिवारों को लाभ मिला है। इनमें 312 को अंत्येष्टि सहायता, 265 को आकस्मिक मृत्यु पर अनुग्रह सहायता और 46 परिवारों को दुर्घटना में मृत्यु पर अनुग्रह सहायता प्रदान की गई है।


सक्सेस स्टोरी (खरगोन)


सुनीता दुबे
कॉलेज में पढ़ रही है अब धारे गाँव की बेटियाँ
आदिवासी महिलाओं ने अपनाया कड़कनाथ पालन व्यवसाय
आजीविका मिशन से 25 लाख महिलाएँ बनीं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से बचपन के हुनर को बनाया जीने का सहारा
मासूम अखिलेश को आरबीएसके टीम ने ह्रदय रोग से दिलाई मुक्ति
विशेषज्ञों की सलाह पर कृषि को लाभकारी बना रहे किसान
गरीबों के लिये मुसीबत में सहारा बन रही संबल योजना
बिजली माफी से खिले गरीबों के चेहरे
स्व-रोजगार योजनाओं से आत्म-निर्भरता की ओर बढ़ता युवा वर्ग
मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी योजना से प्रसन्न है कमजोर वर्ग
मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना ने दिलवाया आत्म-सम्मान
डॉ. रूपाली का है अब अपना क्लीनिक
ई-रिक्शा से रवि रैकवार की आमदनी हुई दोगुनी
प्रधानमंत्री सड़कें बनने से ग्रामीणों को साहूकारों से मिली मुक्ति
रवि ने साइबर कैफे से पाई आत्म-निर्भरता
गरीबों का संबल बनी मुख्यमंत्री जन-कल्याण और स्व-रोजगार योजना
रेवाराम के परिवार का संबल बने 4 लाख रुपये
समाधान एक दिन में योजना से समय पर मिल रहीं लोक सेवायें
आत्म-निर्भर बने युवा नरेन्द्र, दिलीप और शरीफ
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से गंगाराम बने साड़ी व्यापारी
बुरे वक्त का सहारा बनी संबल योजना
स्नेह सरोकार की मदद से सुपोषित हो रहे बच्चे
स्वस्थ जिंदगी बितायेंगी शिखा और माही
मिस्टर एम.पी. मोहन और दुला का बकाया बिल माफ
लल्ला कोल, हरीराम चढ़ार को भी मिला पक्का घर
रोशनी क्लीनिक की मदद से परमार दम्पत्ति को मिला संतान सुख
एक सड़क से रूका 7 गाँवों का पलायन
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से बेकरी के मालिक बने मोहम्मद जैद खान
दु:ख की घड़ी में शगुनबाई का सहारा बनी संबल योजना
प्रधानमंत्री आवास योजना से साकार हुए गरीबों के पक्के घर के सपने
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...