सक्सेस स्टोरीज

गरीबों के हमदर्द हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री

भोपाल : शुक्रवार, जुलाई 13, 2018, 22:19 IST

बिजली बिल के बोझ से बेहाल असंगठित श्रमिक और गरीबी रेखा के नीचे जीवन बसर करने वाले लोग मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी योजना के लिये मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की तारीफ करते हुए नहीं थक रहे। इन सभी का दिल से मानना है कि हमारे मुख्यमंत्री संवेदनशील और गरीबों के हमदर्द हैं।

जबलपुर की कोकिला बाई यादव 58 हजार 209 रुपये के बिजली बिल माफी के बाद बेइन्तहा खुश हैं। उन्होंने कहा कि मैं इतनी बड़ी राशि चुका नहीं पाने से बहुत परेशान थी। सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझको इतनी बड़ी सहायता मिलेगी और मात्र 200 रुपये प्रति माह की दर पर मेरा घर बिजली से रौशन होगा। पेशे से मजदूर कमलेश चौधरी का 17 हजार 765 रुपये का बिजली बिल माफ हुआ है। कमलेश के साथ-साथ श्रमिक प्रहलाद राजपूत, नीलू सोनकर, शेख महबूब, मंजू बाई कोल, मनोज चौहान, दीपक कुमार आदि कहते हैं कि हजारों रुपये के बिजली बिल ने हमारी नींद हराम कर दी थीं। अब हम मुख्यमंत्री की सहृदयता से चैन से रह सकते हैं।

सवा लाख से अधिक का बिजली बिल माफ

दमोह में गनेशी-महेश कोरी का एक लाख 26 हजार रुपये, शेख नईम का 25 हजार, मोहम्मद असलम का 41 हजार 563 और अब्दुल तोहिद का 34 हजार 444 रुपये का बिजली बिल माफ होने से क्षेत्र में बिन त्यौहार खुशी का आलम है।

उमरिया के ग्राम बेली निवासी प्रभु बैगा 57 हजार 242 रुपये का बिजली बिल माफ होने से मुख्यमंत्री को दुआएँ दे रहे हैं। वनोपज, लकड़ी बेचकर चरवाहे का काम करने वाले प्रभु बैगा कहते हैं कि मुख्यमंत्री ने भगवान की तरह सहारा दिया है, वरना मैं तो कर्जे में डूब जाता। प्रभु बैगा ने बताया कि 17-18 साल पहले बिजली का कनेक्शन यह सोचकर लिया था कि मिट्टी के तेल पर खर्चा होने वाले 20-30 रुपये से बिल भर दिया करूंगा। पर आर्थिक तंगी के चलते बिजली देयक की राशि धीरे-धीरे बढ़ती गई और सामर्थ्य से बहुत बाहर हो गई। प्रभु ने बताया कि सरकार द्वारा दिसम्बर 2017 से योजना में पत्नी को भी 1000 रुपये की राशि दी जा रही है। अब खाने-पीने और छोटी-मोटी जरूरतें पूरी हो जाती हैं।


सुनीता दुबे
स्व-सहायता समूह बनाकर ग्रामीण महिलाएँ बनीं आत्म-निर्भर
शासन से मिली सहायता तो नीरज पहुंचे विदेश पढ़ाई करने
राजबहोट में दस मिनट में मिला विकलांग पेंशन का लाभ
वॉटर शेड परियोजना से खेतों को मिल रहा भरपूर पानी
मासूम भोला की हुई नि:शुल्क चिकित्सा : दस्तक अभियान से स्वस्थ हुआ ओमप्रकाश
आजीविका मिशन से सीमा ने बनाई नई पहचान
राष्ट्रीय कृषि विकास योजना से समृद्ध बनीं महिला किसान जानकी बाई
स्व-रोजगार योजना से कमलेश जाटव बने डेयरी मालिक
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा हुआ अपने घर का सपना
नन्हीं पायल बोलने और सुनने लगी है
प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई और उद्यानिकी विकास योजनाओं से किसान हुए समृद्ध
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से ग्राम औरीना और मुडकी में पहुँची विकास की रोशनी
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिल रहा संबल
मनरेगा की मदद से कृषक गोविंद के खेतों में बना कूप और तालाब
तत्काल आवश्यक दस्तावेज मिलने से आम आदमी को मिली राहत
गुलाब की खेती से सालाना 10-12 लाख कमा रहे युवा किसान आशीष
शाहपरी, सज्जाद और नासिर का माफ हुआ बकाया बिजली बिल
आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर
प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक
श्रमिक सुनीता, संध्या और शशि को मिले पक्के घर
गरीबों, जरूरतमंदों का भोजनालय बनी दीनदयाल रसोई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...