सक्सेस स्टोरीज

खानाबदोशों को प्रधानमंत्री आवास योजना में मिले पक्के घर

भोपाल : गुरूवार, जुलाई 12, 2018, 22:32 IST

किसी जमाने में मध्यप्रदेश के श्रमिकों के लिये खुद का पक्का मकान दिवा-स्वप्न हुआ करता था, आज ऐसा नहीं है। प्रधानमंत्री आवास योजना से श्रमिकों का यह सपना अब हकीकत बन गया है। मुरैना जिले में इस योजना ने खानाबदोशों को भी पक्का मकान देकर स्थाई निवासी बना दिया है। अब प्रदेश में श्रमिक और गरीबों को यह भरोसा हो गया है कि सरकार उनके अपने घर के सपने को हकीकत में बदल रही है।

मुरैना जिले के छौंदा ग्राम में खानाबदोशों के 10 परिवार कल तक कच्चे झोपड़ों में रहकर, लोहे से खुर्पी, हँसिया और चिमटा जैसे सामान बनाकर, बेचकर गुजारा कर रहे थे। स्थानीय प्रशासन ने जब इनसे बात की, तो अहसास हुआ कि ये परिवार खानाबदोशी की पुश्तैनी परम्परा को छोड़कर एक जगह बसना चाहते हैं, ताकि इनके बच्चे अच्छे से पढ़-लिख सकें, लेकिन इनके पास घर बनाने के लिये न तो जमीन थी और न ही पैसा।

प्रशासन ने इन खानाबदोशों को प्रधानमंत्री आवास (शहरी) योजना के दायरे में लिया और सभी परिवारों को 30×30 वर्गफुट रहवासी जमीन का पट्टा दिया और घर बनाने के लिये ढाई-ढाई लाख रुपये भी दिये। आज ये सभी परिवार अपने नये घरों में बस गये हैं। इन परिवारों के मुखिया मिठ्ठू, राजू, बेताल, लाखन, पप्पू, सनी, नैना, जबरसिंह, सियाराम और रमेश अब मुरैना जिले के निवासी बन गये हैं। इन्हीं परिवारों में से एक बेताल की पत्नी पूजा अपना पक्का घर मिलने से अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहती है कि हमें अपनी शादी होने पर इतनी खुशी नहीं हुई थी, जितनी आज अपना स्थाई पक्का घर मिलने से हुई है।

बुरहानपुर जिले में शाहपुर निवासी प्रकाश जंजालकर ने प्रधानमंत्री आवास योजना में पक्का मकान बनाने के लिये मिली ढाई लाख रुपये की आर्थिक सहायता में अपने पास से डेढ़ लाख रुपये और मिलाकर सुंदर पक्का घर बना लिया है। इस घर में शौचालय भी है। अब प्रकाश अपनी पत्नी वंदना और दो बेटों के साथ इस घर में खुशी-खुशी जीवन बिता रहे हैं।

प्रकाश श्रमिक है और अभी तक टीन के छप्पर वाले कच्चे घर में गुजारा करता रहा है। अभी कुछ दिन पहले ही इसके मकान के निर्माण का काम पूरा हुआ, जिसमें उसने खुद मजदूरी भी की। मकान बनते ही प्रकाश सपरिवार अपने पक्के घर में शिफ्ट हो गया है।

सक्सेस स्टोरी (बुरहानपुर, मुरैना)


महेश दुबे​
स्व-सहायता समूह बनाकर ग्रामीण महिलाएँ बनीं आत्म-निर्भर
शासन से मिली सहायता तो नीरज पहुंचे विदेश पढ़ाई करने
राजबहोट में दस मिनट में मिला विकलांग पेंशन का लाभ
वॉटर शेड परियोजना से खेतों को मिल रहा भरपूर पानी
मासूम भोला की हुई नि:शुल्क चिकित्सा : दस्तक अभियान से स्वस्थ हुआ ओमप्रकाश
आजीविका मिशन से सीमा ने बनाई नई पहचान
राष्ट्रीय कृषि विकास योजना से समृद्ध बनीं महिला किसान जानकी बाई
स्व-रोजगार योजना से कमलेश जाटव बने डेयरी मालिक
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा हुआ अपने घर का सपना
नन्हीं पायल बोलने और सुनने लगी है
प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई और उद्यानिकी विकास योजनाओं से किसान हुए समृद्ध
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से ग्राम औरीना और मुडकी में पहुँची विकास की रोशनी
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिल रहा संबल
मनरेगा की मदद से कृषक गोविंद के खेतों में बना कूप और तालाब
तत्काल आवश्यक दस्तावेज मिलने से आम आदमी को मिली राहत
गुलाब की खेती से सालाना 10-12 लाख कमा रहे युवा किसान आशीष
शाहपरी, सज्जाद और नासिर का माफ हुआ बकाया बिजली बिल
आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर
प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक
श्रमिक सुनीता, संध्या और शशि को मिले पक्के घर
गरीबों, जरूरतमंदों का भोजनालय बनी दीनदयाल रसोई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...