सक्सेस स्टोरीज

मछली पालन और पशुपालन से करोड़पति बने वर्मा बंधु

भोपाल : मंगलवार, जुलाई 10, 2018, 14:55 IST

धार जिले के सुन्द्रेल ग्राम निवासी दो भाई रमेशचन्द्र वर्मा और कैलाशचन्द्र वर्मा सरकारी योजनाओं की मदद से आज जाने-माने मछली बीज व्यवसायी बन गये हैं। इन्होंने गाँव में अपनी 7 बीघा जमीन पर मछली विभाग के सहयोग से 2 लाख 18 हजार रुपये का लोन लेकर कच्चे फिश पॉण्ड बनाकर मछली बीज उत्पादन का व्यवसाय शुरू किया था।

मछली पा लन विभाग की योजनाओं में मिले ऋण और अनुदान की मदद से वर्मा बंधु ने अपने व्यवसाय को 120 बीघा क्षेत्र तक बढ़ा लिया है। आज इनके पास 40 पक्की नर्सरियाँ और हेचरीज हैं। इनके द्वारा उत्पादित मछली बीज प्रदेश के साथ-साथ महाराष्ट्र के विभिन्न अंचलों में भी बिकते हैं। वर्मा बंधु के मछली बीज मत्स्य महासंघ के गाँधी सागर, बाण सागर, इंदिरा सागर, ओंकारेश्वर, कोलार, हलाली और बारना जलाशयों को मछलियों के फिंगरलिंग की आपूर्ति करते हैं।

वर्मा बंधु मछली के कॉमन कॉर्प, मेजर कॉर्प, उतला, रोहू, मृगल आदि मत्स्य बीज का उत्पादन कर रहे हैं। इनकी नर्सरीज और हेचरीज को कुएँ के अलावा सीधे नर्मदा नदी से पाइप लाइन बिछाकर पानी की पूर्ति की जा रही है। इन्होंने वर्ष 2017-18 में मछली के 8560 लाख स्पॉन और 2890 लाख फ्राई बीजों का उत्पादन कर प्रदेश में निजी मत्स्य बीज उत्पादन के क्षेत्र में रिकार्ड स्थापित किया है। वर्मा बंधु ने मछली बीज उत्पादन व्यवसाय के साथ-साथ अब पशुपालन का व्यवसाय भी शुरू कर दिया है। आज इनके पास 40 भैंस, गाय और बैल हैं।

राज्य शासन की मछली पालन और पशुपालन योजनाओं का भरपूर लाभ उठाकर वर्मा बंधु की सालाना आय 30 लाख रुपये तक पहुँच गई है। कभी कच्चे घर में रहकर मछली पालन का छोटा-मोटा व्यवसाय करने वाले इन भाइयों ने व्यवसाय की कमाई से ही आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित घर बनाया है। वर्मा बंधु की तरक्की राज्य शासन की योजनाओं की सार्थकता का सशक्त प्रमाण है।

 सक्सेस स्टोरी(धार)


महेश दुबे
स्टॉप डेम बनने से करनपुरा वासियों को मिली राहत
बकाया बिजली बिल माफी से गुल्फाम, जगन्नाथ, देवीदयाल, इब्राहिम के घरों में हुआ उजाला
सहाना का सहारा बनी "संबल योजना"
हाथों-हाथ मूल निवासी प्रमाण-पत्र पाकर खुश हुई शिवानी
बकाया बिल माफी से किसान महेन्द्र, मंगल और सुगर सिंह को मिली बड़ी राहत
सरकारी स्कूलों में डिजिटल बोर्ड पर पढ़ रहे बच्चे
पन्ना जिले में बेसहारा बच्चों का सहारा बनी फॉस्टर केयर योजना
जड़ी-बूटियाँ बनीं चित्रकूट की वनवासी महिलाओं का आर्थिक संबल
खुशी से फूले नहीं समा रहे इन्द्राना के चौधरी दम्पत्ति
अब के बरस सावन में जानकी बाई चैन से रहेगी अपने पक्के घर में
सोचा नहीं था कि आज ही कान की मशीन मिल जायेगी
बीकानेरी पापड़ बन रहे हैं पन्ना की पहचान
प्रधानमंत्री आवास में चैन की नींद सो पा रहे हैं हितग्राही
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से निशा को मिली नई जिंदगी
खेतिहर मजदूर कमलेश जाटव मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से हुए आत्म-निर्भर
मंशाराम ने पत्नी से 45 वर्ष पहले के वादे को पूरा किया
सोलर पम्प से रूपवती की खेती लाभ का धंधा बनी
प्रधानमंत्री सड़क से ग्राम गांगपुर बना रमणीक स्थल
स्व-सहायता समूह से जुड़कर सशक्त महिला बनी अनीता
गरीबों के हमदर्द हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री
कम्बाइन हारवेस्टर और व्हील स्प्रेयर अविष्कार के लिये पुरस्कृत होंगे कृषक राजपाल
खानाबदोशों को प्रधानमंत्री आवास योजना में मिले पक्के घर
फिर से मुस्कुराने लगी है मासूम गरिमा
जैविक खेती और वर्मी कम्पोस्ट यूनिट से सालाना मुनाफा हुआ 5 लाख
मासूम नमन को मुख्यमंत्री बाल हदय उपचार योजना से मिला नया जीवन
मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से स्वावलम्बी बनते लोग
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों के घर फिर हुए रौशन
मछली पालन और पशुपालन से करोड़पति बने वर्मा बंधु
केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री वीरेन्द्र कुमार ने सराही प्रधानमंत्री आवास की गुणवत्ता
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने बदली नन्ही सविता की जिंदगी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...