सक्सेस स्टोरीज

मासूम सीता, गीता और मीनाक्षी के होठों पर आई मुस्कान : रीतेश पैरों पर खड़ा हुआ

भोपाल : शनिवार, जुलाई 7, 2018, 14:09 IST

प्रदेश में संचालित स्वास्थ्य सेवाएँ मासूम बच्चों को विकलांगता, कुपोषण जैसी गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलाने में कारगर साबित हो रही हैं। यह स्वास्थ्य सेवाएँ गरीब और जरूरतमंद परिवारों को नि:शुल्क उपलब्ध करवाई जा रही हैं। इन सेवाओं से अधिक से अधिक मासूमों को लाभान्वित करने में स्वास्थ्य विभाग और महिला-बाल कल्याण विभाग की मैदानी टीम पूरी संजीदगी के साथ काम कर रही है।

सिवनी जिले के विकासखण्ड घंसौर की दुर्गा झारिया ने जुड़वा बेटियों को जन्म दिया, परिवार से खुशी और उत्साह का माहौल था, लेकिन जुड़वा बहनें कटे-फटे होठों की बीमारी से ग्रसित थीं। परिवार ने इन बच्चों का आँगनवाड़ी में आयोजित स्वास्थ्य शिविर में दिखाया। इस शिविर में दोनों बच्चियों के होठों की मुस्कान प्रोजेक्ट के अंतर्गत नि:शुल्क सर्जरी की गई। आज दोनों मासूम बच्चियों को इस जन्मजात विक्रृति से छुटकारा मिल गया है। अब ये बच्चियाँ सामान्य बच्चियों की तरह सुंदर दिखाई देती हैं।

देवास जिले के ग्राम पटलावदा में श्रमिक लाड़ली बाई और गुलनाज के परिवार में जन्मी मीनाक्षी कुपोषण और कटे-फटे होठ की जन्मजात विक्रृति से ग्रस्त थी। परिवार के सदस्यों ने जब बच्ची को चिकित्सकों को दिखाया, तो चिकित्सकों ने पूरी जाँच करने के बाद पहले उसे कुपोषण से मुक्त करने और उसके बाद होठों की सर्जरी करने का निर्णय लिया। मासूम मीनाक्षी को जब कुपोषण से मुक्त कराने और सर्जरी के लिये अस्पताल में भर्ती कराया गया, उस समय उसकी उम्र एक माह 13 दिन थी, वजन एक किलो 740 ग्राम था और ऊँचाई 47 सेंटीमीटर थी। इस कारण यह बच्ची अति कुपोषण की श्रेणी में आ रही थी। मीनाक्षी को 21 दिन तक पोषण पुनर्वास केन्द्र में रखा गया। जब वह 6 माह 29 दिन की हो गई, तब इसका वजन भी 5 किलो 370 ग्राम हो गया था और ऊँचाई भी 60 सेंटीमीटर हो चुकी थी। अब मीनाक्षी सामान्य बच्चों की श्रेणी में आ गई थी। इसके बाद मीनाक्षी के कटे-फटे होठों की शासकीय योजना के अंतर्गत नि:शुल्क सर्जरी की गई। सफल सर्जरी के कारण यह बच्ची अब स्वस्थ है।

बैतूल जिले के विकासखण्ड प्रभातपट्टन के ग्राम गेहूँबारसा निवासी सुखचंद मेश्राम का 5 वर्षीय पुत्र रीतेश बचपन से ही पैरों के टेड़ेपन की बीमारी से ग्रसित था। चिकित्सकों की सलाह पर जिला अस्पताल में इस बच्चे का ऑपरेशन हुआ। ऑपरेशन के 4 दिनों बाद 17 अप्रैल, 2018 को बच्चे को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अब मासूम रीतेश अपने पैरों पर चलकर स्कूल जाने लगा है।


अरूण राठौर
स्व-सहायता समूह बनाकर ग्रामीण महिलाएँ बनीं आत्म-निर्भर
शासन से मिली सहायता तो नीरज पहुंचे विदेश पढ़ाई करने
राजबहोट में दस मिनट में मिला विकलांग पेंशन का लाभ
वॉटर शेड परियोजना से खेतों को मिल रहा भरपूर पानी
मासूम भोला की हुई नि:शुल्क चिकित्सा : दस्तक अभियान से स्वस्थ हुआ ओमप्रकाश
आजीविका मिशन से सीमा ने बनाई नई पहचान
राष्ट्रीय कृषि विकास योजना से समृद्ध बनीं महिला किसान जानकी बाई
स्व-रोजगार योजना से कमलेश जाटव बने डेयरी मालिक
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा हुआ अपने घर का सपना
नन्हीं पायल बोलने और सुनने लगी है
प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई और उद्यानिकी विकास योजनाओं से किसान हुए समृद्ध
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से ग्राम औरीना और मुडकी में पहुँची विकास की रोशनी
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिल रहा संबल
मनरेगा की मदद से कृषक गोविंद के खेतों में बना कूप और तालाब
तत्काल आवश्यक दस्तावेज मिलने से आम आदमी को मिली राहत
गुलाब की खेती से सालाना 10-12 लाख कमा रहे युवा किसान आशीष
शाहपरी, सज्जाद और नासिर का माफ हुआ बकाया बिजली बिल
आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर
प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक
श्रमिक सुनीता, संध्या और शशि को मिले पक्के घर
गरीबों, जरूरतमंदों का भोजनालय बनी दीनदयाल रसोई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...