सक्सेस स्टोरीज

पीएमएवाय में पक्का मकान मिलते ही हुई कल्याणी सुहागरानी की बेटी की शादी

भोपाल : शुक्रवार, मई 11, 2018, 14:37 IST

रोटी, कपड़ा और मकान हर इंसान और परिवार की बुनियादी जरूरत है। गरीब आदमी मेहनत-मजदूरी कर रोटी और कपड़े की व्यस्था तो कर लेता है, लेकिन उसका मकान का सपना अधूरा ही रह जाता है। प्रधानमंत्री आवास योजना से गरीबों का यह सपना भी पूरा होता नजर आ रहा है। इस योजना में सभी वर्गों के गरीब और जरूरतमंद लोगों को शामिल किया गया है।

सागर जिले की ग्राम पंचायत गुगवारा देवरी की कल्याणी (विधवा) सुहागरानी गौड़ का कच्चा, टूटा-फूटा घर होने के कारण बेटी का रिश्ता होते-होते टूट जाता था। एक दिन सुहागरानी को प्रधानमंत्री आवास योजना की जानकारी मिली, तो वह सभी जरूरी कागज लेकर पंचायत में पहुँची। वर्ष 2016-17 में उसे पक्का मकान की स्वीकृति मिली, लगभग 6-7 माह में ही उसका पक्का मकान बनकर तैयार हो गया। कल्याणी सुहागरानी ने अपने पक्के मकान से अपनी बिटिया का रिश्ता एक अच्छे घर में तय किया और शान से शादी की।

डिण्डौरी जिले की जनपद पंचायत अमरपुर के ग्राम बरसिंघा माल के उत्तम सिंह खेती-बाड़ी से बड़ी मुश्किल से परिवार का भरण-पोषण कर रहे थे। उनके पास इतना पैसा नहीं था कि पक्का मकान बनवा सकें। उनका पक्के मकान का सपना प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा हुआ। उनको एक लाख 60 हजार रूपये स्वीकृत हुए, तीन किश्तों में राशि मिली। आज उत्तम सिंह पत्नि और दो बच्चों के परिवार के साथ पक्की छत के नीचे आनंद से रहते हैं।

होशंगाबाद जिले में बाबई जनपद के ग्राम बगलोन के बुजुर्ग महेश ने पक्के मकान की कभी कल्पना भी नहीं की थी। कच्ची झोपड़ी में परिवार के साथ रहते थे। ग्राम सचिव ने जब इस योजना में महेश को शामिल किया, तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं था। उन्हें एक लाख 20 हजार रूपये में प्रधानमंत्री आवास बनवा कर दिया।

सिवनी जिले के ग्राम नरेला के मथुरा प्रसाद लघु कृषक परिवार से ताल्लुक रखते हैं। अपनी कमजोर आर्थिक स्थिति के कारण कच्चे मिट्टी के मकान में रहते थे। प्रधानमंत्री आवास योजना में उन्हें पक्का मकान बनाने के लिये डेढ़ लाख रुपये मिले, तो उन्होंने सुंदर पक्का मकान बनवाया। साथ ही, स्वच्छ भारत मिशन का लाभ लेकर घर के आंगन में 12 हजार रुपये से एक सुव्यवस्थित शौचालय भी बनवाया। प्रधानमंत्री आवास योजना से मथुरा प्रसाद का जीवन-स्तर बढ़ गया है।

झाबुआ जिले के राणापुर विकासखण्ड के ग्राम पुलावा के बापू ने प्रधानमंत्री आवास के साथ शौचालय बनवाकर अपने जीवन-स्तर में वृद्धि की है। मजदूरी से परिवार का गुजारा चलाने वाले बापू के लिये पक्का मकान, मुंगेरीलाल के हसीन सपनों जैसा था। एक कमरे के मिट्टी के मकान में रहने वाला बापू अब सीमेंट-कांक्रीट की छत वाले पक्के मकान में रहता है। इसे मकान में शौचालय निर्माण हो जाने से खुले में शौच जाने की परेशानी से भी निजात मिल गई है। अब गरीब ग्रामीण बापू को न तो छत टपकने का डर है, न मौसम बदलने का और न ही जहरीले जानवर के काटने का डर है।

सक्सेस स्टोरी (सागर, डिण्डोरी, होशंगाबाद, सिवनी, झाबुआ)


दुर्गेश रायकवार
सुलोचना ने प्रारब्ध से जीती जिन्दगी की ज़ंग
दिव्यांगों को मिल रहे नि:शुल्क उपकरण
अंजू और छगन को वास्तव में मिला सपनों का पक्का घर
बकाया बिजली माफी से चाय वाले विजय को मिली राहत
प्रसूति सहायता से जच्चा और बच्चा दोनों ही हैं स्वस्थ
मुस्कराने लगी है मासूम कामिनी, सुनने लगे है बुजुर्ग बगदीराम
सत्तर वर्षीय चरवाहे जागेश्वर ने ली पशु नस्ल सुधार की जिम्मेदारी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना ने मासूम भावना और प्रियंका को दी नई जिंदगी
अनार की फसल से सँवरी ओमप्रकाश की आर्थिक स्थिति
15 हजार गरीब बिजली उपभोक्ताओं के माफ हुए 651 लाख
कॉलेज में पढ़ रही है अब धारे गाँव की बेटियाँ
आदिवासी महिलाओं ने अपनाया कड़कनाथ पालन व्यवसाय
आजीविका मिशन से 25 लाख महिलाएँ बनीं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से बचपन के हुनर को बनाया जीने का सहारा
मासूम अखिलेश को आरबीएसके टीम ने ह्रदय रोग से दिलाई मुक्ति
विशेषज्ञों की सलाह पर कृषि को लाभकारी बना रहे किसान
गरीबों के लिये मुसीबत में सहारा बन रही संबल योजना
बिजली माफी से खिले गरीबों के चेहरे
स्व-रोजगार योजनाओं से आत्म-निर्भरता की ओर बढ़ता युवा वर्ग
मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी योजना से प्रसन्न है कमजोर वर्ग
मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना ने दिलवाया आत्म-सम्मान
डॉ. रूपाली का है अब अपना क्लीनिक
ई-रिक्शा से रवि रैकवार की आमदनी हुई दोगुनी
प्रधानमंत्री सड़कें बनने से ग्रामीणों को साहूकारों से मिली मुक्ति
रवि ने साइबर कैफे से पाई आत्म-निर्भरता
गरीबों का संबल बनी मुख्यमंत्री जन-कल्याण और स्व-रोजगार योजना
रेवाराम के परिवार का संबल बने 4 लाख रुपये
समाधान एक दिन में योजना से समय पर मिल रहीं लोक सेवायें
आत्म-निर्भर बने युवा नरेन्द्र, दिलीप और शरीफ
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से गंगाराम बने साड़ी व्यापारी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...