सक्सेस स्टोरीज

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना से स्वप्निल बनी सफल उद्यमी

भोपाल : बुधवार, मार्च 7, 2018, 16:08 IST

मध्यप्रदेश में राज्य सरकार की स्वरोजगार योजनायें युवाओं के साथ-साथ महिलाओं को भी आर्थिक रूप से सशक्त बनाने में सहायक सिद्ध हो रही हैं। अब तो शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू महिलायें भी इन योजनाओं के माध्यम से घर बैठे अपना सम्मानजनक व्यवसाय संचालित कर रही हैं। ऐसी ही एक गृहणी हैं आगर-मालवा जिले की श्रीमती स्वप्निल रत्नाकर। इन्होने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना की मदद से आगर-मालवा में कोटा रोड पर अपना 'यशस्वी अगरबत्ती कारखाना' स्थापित किया है।

श्रीमती स्वप्निल का यह कारखाना मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में मिली 20 लाख रूपये की ऋण राशि से स्थापित हो सका है। इस ऋण राशि पर राज्य सरकार ने 4.50 लाख रूपये का अनुदान इन्हें दिया है। इस कारखाने में स्वप्निल ने अनेक महिलाओं को रोजगार भी उपलब्ध करवाया है। यहां सभी महिलायें हैं, जो मिलजुलकर खुशबूदार अगरबत्ती और धूपबत्ती बनाती हैं। इनकी बनाई अगरबत्ती और धूपबत्ती की आगर-मालवा जिले के साथ-साथ इन्दौर, उज्जैन, राजस्थान, और मुम्बई आदि शहरों में भी खूब मांग है। श्रीमती स्वप्निल रत्नाकर ने अपने इस कारखानें में हाल ही में स्व-सहायता समूह की 40 अन्य महिलाओं को प्रशिक्षण देकर आत्म-निर्भर बनाया है।

नेमीचंद ने बढ़ाया डिस्टिल वाटर कारोबार : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना की मदद से ही 26 साल की उम्र में सफल उद्यमी बने हैं राजगढ़ जिले के नेमीचंद पटीदार। यह युवक जीरापुर ब्लाक के तलेन कस्बे में डिस्टिल वाटर निर्माण का प्लांट चलाता था। इस व्यवसाय से मुश्किल से 10 हजार रूपये महीना की कमाई हो पाती थी। संयुक्त परिवार होने के कारण परिवार में इतना कम आर्थिक योगदान इन्हें अच्छा नहीं लग रहा था।

नेमीचंद ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना का लाभ लिया और अपने डिस्टिल वाटर के कारोबार को बढ़ाने के लिये आवेदन किया। योजना में 6 लाख रूपये ऋण मिला। साथ ही, 1 लाख 80 हजार रूपये की अनुदान राशि का लाभ भी मिला।

इस वित्तीय मदद से नेमीचंद ने 60 हजार रूपये में डी.एम. प्लांट, 2 लाख 20 हजार रूपये में आर.ओ. प्लांट, 1 लाख 20 हजार रूपये में चिलर प्लांट और 2 लाख रूपये में वाटर केम्पर स्थापित कर शुद्ध पेयजल प्रदाय का व्यवसाय प्रारंभ किया। इस प्रयास से नेमीचंद की मासिक आय में चार गुना से अधिक की वृद्धि हुई। आय बढ़ने से नेमीचंद ने चार पहिया वाहन और मोटर सायकिल भी खरीद ली है। अपने व्यवसाय को सफलता पूर्वक चलाने के लिये 3 अन्य लोगों को रोजगार भी दिया है। साथ ही, 9 हजार रूपये बैंक की किश्त भी आसानी से हर माह लौटा रहा है।

सक्सेस स्टोरी (आगर-मालवा,राजगढ़)


राजेश पांण्डेय
शाहपरी, सज्जाद और नासिर का माफ हुआ बकाया बिजली बिल
आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर
प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक
श्रमिक सुनीता, संध्या और शशि को मिले पक्के घर
गरीबों, जरूरतमंदों का भोजनालय बनी दीनदयाल रसोई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...