सक्सेस स्टोरीज

झोपड़ियों में गुजरी पीढ़ियाँ, अब मिले पक्के घर

भोपाल : मंगलवार, मार्च 6, 2018, 17:16 IST

प्रदेश के ग्रामीण अंचलों में झोपड़ी में रहने वाले गरीब परिवारों का पक्के मकान का सपना प्रधानमंत्री आवास योजना के माध्यम से पूरा हो रहा है। झाबुआ जिले के ग्राम करडावद छोटी ग्राम के आलू पिता हवजी कहते हैं कि मजदूरी से घर ही नहीं चलता था, खुद का मकान बनाना तो सपना था। जिंदगी गुजर गई झोपड़ी में रहते-रहते। धूप, बरसात, कीड़े-मकोड़े तथा जानवरों के डर के साये में जीते रहे। पिछले वर्ष प्रधानमंत्री आवास योजना में इन्हें झोपड़ी की जगह पक्का मकान मिला, तब जीवन में खुशी आई।

गुना जिला के सकतपुर गाँव के पप्पू सिंह तीन पीढ़ियों से कच्चे झोपड़ों में जीवन बिता रहे थे। मजदूर परिवार की इन तीन पीढ़ियों को जब प्रधानमंत्री आवास योजना में पक्का मकान मिला, तब इन्हें जीवन का सुखद अहसास हुआ है। पप्पू के पिता बलवंत सिंह एवं दादा घासीराम तो निराश हो चुके थे। पप्पू भी खुद को असहाय मान बैठा था, पक्का मकान बनाना उसके वश में नहीं था। एक दिन ग्राम पंचायत से उसे सूचना मिली कि सरकार मुफ्त में देगी पक्का मकान। पप्पू को भरोसा नहीं हुआ लेकिन प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना ने पप्पू का खुद का पक्का मकान का सपना साकार कर दिया है। पप्पू के पिता बलवंत सिंह कहते हैं कि हमारी कई पीढ़ियों ने मिट्टी की टपरियों में ही जीवन बिता दिया, पर सरकार ने हमारा सपना सच कर दिया। अब नई पीढ़ी चैन से जीवन बिता सकेगी।

सामान्यत: ग्रामीणजन अपनी शिकायतों को दर्ज कराने के लिए कलेक्टर से मुलाकात करते हैं, किन्तु विदिशा जिले की तहसील लटेरी की दूरस्‍थ पंचायत महावन के क्राम नेवली के लाल सिंह अपना प्रधानमंत्री आवास दिखाने के लिये कलेक्टर से मिले।

हितग्राही लाल सिंह ने कलेक्टर श्री अनिल सुचारी को बताया कि मैने अपने आवास का निर्माण करा लिया है, अब मैं पक्के मकान का मालिक हो गया हूँ। लाल सिंह ने कलेक्टर से अपने आवास पर चलने का आग्रह किया। कलेक्टर जब लाल सिंह के मकान पर पहुँचे, तो देखते ही रह गए। मकान के चारों ओर साफ-सफाई और घर में हर चीज व्यवस्थित थी। शौचालय में बकायदा पानी की व्यवस्था थी। लाल सिंह ने बताया कि उसने दो महीने में आवास बनाकर पूर्ण किया है।

देवास जिले कन्नौद में कच्ची झोपड़ी में रहने वाले मुमताज और सलीम को प्रधानमंत्री आवास योजना से पक्का आशियाना मिल रहा है। कन्नौद नगर में इन्ही की तरह के 473 परिवारों के लिये भी प्रधानमंत्री आवास योजना में पक्के मकान बनाये जा रहे हैं। हिग्राहियों को धनराशि आवंटन की कार्यवाही पूर्ण कर ली गई है।



महेश दुबे
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
हिमांशु और शीर्ष अब सुन सकते हैं माँ की आवाज़
ह्रदय रोगी बच्चों को मिली नि:शुल्क चिकित्सा
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने पक्के घर की अभिलाषा
बड़वाह के किसान प्रकाश ने अजमेरी गुलकंद से बढ़ाया पान का जायका
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...