सक्सेस स्टोरीज

बड़वानी में स्व-सहायता समूह की महिलाएँ करेंगी सड़कों का रख-रखाव

भोपाल : शुक्रवार, फरवरी 23, 2018, 16:19 IST

बड़वानी में नवाचार के तहत महिलाओं के 4 स्व-सहायता समूहों को 2 सड़कों के रख-रखाव की जिम्मेदारी सौंपी गई है। ग्रुप के सदस्यों द्वारा सौंपी गई जिम्मेदारी सही तरीके से निभाने पर मध्यप्रदेश ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण उन्हें प्रति किलोमीटर 23 हजार 3 सौ रूपये का भुगतान प्रति वर्ष करेगा।

इस नवाचार के तहत बड़वानी-बंधान रोड़-अम्बापानी की 8.9 किलोमीटर लम्बी सड़क मॉ दुर्गा, मॉ गंगा और श्रीराम स्व-सहायता समूह को तथा अम्बापानी से कालाखेत की 1.62 किलोमीटर लम्बी सड़क जय मॉ लक्ष्मी स्व-सहायता समूह को सौपी गई है। सड़क निर्माण एजेंसी मध्यप्रदेश ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण बड़वानी एवं संबंधित स्व-सहायता समूह के मध्य अनुबंध किया गया है।

अनुबंध की शर्तें: स्व-सहायता समूह को सौंपी गई इन सड़कों का अगले 5 वर्ष तक संबंधित स्व-सहायता समूह रख-रखाव करेगा। समूह के सदस्यों द्वारा सड़क के किनारे उगी झाड़ियों को वर्ष में एक बार साफ किया जाएगा। वर्षा उपरान्त सड़कों के किनारों पर पटरियों को मिट्टी से भरा जाएगा। सड़क पर निर्मित पुल-पुलिया-रपटों पर पानी के निकासी वाले मार्गों की वर्ष में कम से कम दो बार सफाई की जाएगी। सड़क पर लगे संकेतकों, मार्ग पर आने वाले अवरोधों की पुताई एवं लिखाई समूह करेगा। सड़क के प्रत्येक 200 मीटर पर लगे दूरी बताने वाले पत्थरों की पुताई कराना, सड़क के दोनों ओर कच्ची एवं पक्की नालियों की सफाई आवश्यकतानुसार करवाना अनुबंध में सम्मलित है।

प्रशिक्षण:सड़कों के संधारण कार्य के पर्यवेक्षण के लिये सहायक प्रबंधक/उपयंत्री स्तर के अधिकारी को प्रभारी नियुक्त किया जायेगा। नियुक्त प्रभारी अधिकारी द्वारा सूचना पटलों पर लिखे जाने वाले विवरण का प्रारूप उपलब्ध कराने के साथ-साथ, अपेक्षित संधारण कार्य के प्रशिक्षण के लिए सड़क के किसी भी 200 मीटर भाग को चुनकर (जिसमें पुलिया आदि भी हो) समक्ष में मानक मापदण्डों अनुसार स्व-सहायता समूह से संधारण कार्य करवाया जायेगा । बाद में संधारण दल इन्हीं मानकों के अनुसार संधारण कार्य करेगा ।

भुगतान की प्रक्रिया: इस संधारण कार्य के लिये संबंधित स्व-सहायता समूह को प्रथम वर्ष 23 हजार 3 सौ रूपये प्रति किलोमीटर, द्वितीय वर्ष 24 हजार 2 सौ रूपये प्रति किलोमीटर, तृतीय वर्ष 25 हजार 6 सौ रूपये प्रति किलोमीटर, चतुर्थ वर्ष 26 हजार 5 सौ रूपये प्रति किलोमीटर, पंचम वर्ष 27 हजार 5 सौ रूपये प्रति किलोमीटर का भुगतान किया जायेगा।

भुगतान का तरीका: ऐसे पहुंच मार्ग जिनमें एकल ग्राम लाभान्वित है, उन पर संधारण दल को संधारण कार्यो का भुगतान संबंधित ग्राम संगठन के माध्यम से किया जायेगा।ऐसे पहुंच मार्ग जिनमें एक से अधिक ग्राम लाभान्वित हैं, वहाँ पर संधारण दल को संधारण कार्यो का भुगतान संबंधित क्लस्टर लेवल फेडरेशन के माध्यम से किया जायेगा। संधारण दल द्वारा किये गये संधारण कार्य का भुगतान प्रत्येक दो माह में किया जायेगा । यह भुगतान चेक के माध्यम से ही हो सकेगा।

आगे गैस ऐजेंसी, विद्युत देयक संबंधी कार्य भी दिये जायेंगे: जिला कलेक्टर ने बताया कि आगे चलकर जिले की स्व-सहायता समूह की महिलाओं को गैस ऐजेंसी का संचालन, विद्युत देयकों की वसूली, आंगनवाड़ियों में सप्लाई होने वाले पूरक पोषण आहार देने जैसे कार्य भी सौंपे जा सकेंगे। न्यू इण्डिया के तहत देश के 100 जिलो में चयनित बड़वानी जिले में कुपोषण, मातृ-मृत्यु दर को कम करना, स्वच्छता का संदेश घर-घर पहुंचाने में भी स्व-सहायता समूह की महिलाएं अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हुए बेहतर परिणाम लाने में मददगार होंगी।

 सक्सेज स्टोरी (बड़वानी)


राजेश पाण्डेय/स्वरेश सिलावट
शाहपरी, सज्जाद और नासिर का माफ हुआ बकाया बिजली बिल
आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर
प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक
श्रमिक सुनीता, संध्या और शशि को मिले पक्के घर
गरीबों, जरूरतमंदों का भोजनालय बनी दीनदयाल रसोई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...