सक्सेस स्टोरीज

प्रदेश के किसानों को उद्यानिकी फसल से मिली आर्थिक समृद्धि

भोपाल : गुरूवार, फरवरी 22, 2018, 16:15 IST
 

मध्यप्रदेश में किसानों की आय दोगुनी करने के मकसद से किसानों को परम्परागत फसल के साथ-साथ उद्यानिकी फसलों को लेने के लिये प्रोत्साहित किया जा रहा है। प्रदेश के अनेक किसानों ने उद्यानिकी फसलों के जरिये खेती से आर्थिक समृद्धि हासिल की है। 

 झाबुआ- जिले के राणापुर ब्लॉक के ग्राम छायन सेमनखेड़ी के किसान खिम सिंह ने उद्यानिकी फसल से अच्छा मुनाफा मिलने की बात सुनी तो उन्होंने अपनी कृषि भूमि में ड्रिप पद्धति से सिंचाई कर मिर्ची की फसल लगाई। मिर्ची की फसल से उन्हें 50 हजार रुपये की अतिरिक्त आय हुई जबकि परम्परागत फसल लगाने से 10-15 हजार रुपये की ही वार्षिक आय हो पाती थी। किसान खिमसिंह ने खेत में ड्रिप एरीगेशन और मल्चिंग का उपयोग किया। इस कार्य में उन्हें उद्यानिकी विभाग ने सहयोग दिया। आज उनके खेत में गिलकी, बैंगन और भिण्डी की बढ़िया फसल लहलहा रही है। जिले के मेघनगर ब्लॉक के ग्राम नौगांवा के किसान लल्लू सिंह ने भी अपने खेत में उद्यानिकी फसल लगाई है। उन्हें इसके लिये उद्यानिकी विभाग की ओर से 55 हजार रुपये का शासकीय अनुदान मिला है। वे अपने खेत में ड्रिप एरीगेशन का उपयोग कर रहे हैं। किसान लल्लू सिंह को पिछले साल प्याज, लहसुन, मिर्च, गोभी, बैंगन और टमाटर की फसल बेचने से अच्छी आमदनी हुई है।

सिंगरौली- ग्राम अमलोरी के किसान धीरेन्द्र सिंह ने उद्यानिकी विभाग की सलाह पर ड्रिप एरीगेशन के साथ उद्यानिकी फसल ली। ड्रिप एरीगेशन से 60 से 70 प्रतिशत तक पानी की बचत हुई। प्लास्टिक मल्चिंग के उपयोग से खरपतवार पर भी नियंत्रण पाया जा चुका है। धीरेन्द्र सिंह के खेत में उद्यानिकी फसल देखकर क्षेत्र के अन्य किसानों ने भी उद्यानिकी फसल लेने का मन बनाया है।

राजगढ़- सारंगपुर तहसील के ग्राम पिपल्यादेव के किसान दिनेश कुमार नागर बताते हैं कि वे पौने दो हेक्टेयर कृषि भूमि पर परम्परागत फसल लिया करते थे। सब खर्च घटाने के बाद बमुश्किल बचत हो पाती थी। इसके बाद उन्होंने उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों की सलाह पर पौने चार बीघा जमीन पर संतरा का बगीचा तैयार किया। विभाग की सलाह पर संतरे के पौधों के बीच में उन्होंने पपीते के पौधे भी लगाये। इससे उन्हें अच्छा मुनाफा हुआ। मुनाफे की रकम से उद्यानिकी विभाग की संकर सब्जी विस्तार योजना में 2000 वर्ग मीटर में पॉली-हाउस स्थापित किया। पॉली-हाउस में उन्होंने मिर्ची, टमाटर एवं अन्य सब्जी की खेती प्रारंभ की। आज क्षेत्र में उनकी पहचान प्रगतिशील कृषक के रूप में बन गई है। किसान दिनेश को पूर्व में जहाँ सालभर में केवल एक लाख रुपये की आमदनी हो पाती थी, आज उसी कृषि भूमि पर उन्हें 4 से 5 लाख रुपये की वार्षिक आमदनी हो रही है। जिले के खिलचीपुर विकासखण्ड के देवली सांगा गाँव के 52 वर्षीय किसान शंकरलाल कई वर्षों से धनिया, संतरा और प्याज जैसी उद्यानिकी फसल ले रहे हैं। नवीन तकनीक की जानकारी के अभाव के कारण उन्हें इन फसलों से वाजिब दाम नहीं मिल पाते थे। उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों ने नई-नई तकनीकों की जानकारी किसान शंकरलाल को दी तो उनके खेत में उद्यानिकी फसलों की पैदावार ज्यादा बढ़ गई। किसान शंकरलाल ने उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों की मदद से 25 मीट्रिक टन क्षमता का प्याज गृह भण्डार बनवाया है। इसके लिये उन्हें लगभग 88 हजार रुपये का अनुदान भी मिला है। पिछले साल आधा हेक्टेयर भूमि पर प्याज की फसल बोई थी। इससे उन्हें करीब 110 क्विंटल प्याज का उत्पादन मिला। बाजार में प्याज की अधिक आवक होने के कारण प्याज के भाव बाजार में काफी नीचे तक चले गये थे। उन्होंने केवल 10 क्विंटल प्याज बेची, बाकी प्याज उन्होंने भण्डार-गृह में सुरक्षित रख ली। इसके बाद बाजार में प्याज के दाम में सुधार आया और दाम बढ़कर 20 से 25 रुपये प्रति किलोग्राम तक हो गये। भण्डार की गई प्याज सुरक्षित थी और उन्हें इसके बाजार में अच्छे दाम भी मिले। इससे उन्हें डेढ़ लाख रुपये का मुनाफा हुआ। किसान शंकरलाल बताते हैं कि किसानों को भण्डार-गृह बनाने के लिये भी आगे आना होगा, जिससे उन्हें उपज के सही दाम मिल सकें।

भोपाल- बैरसिया विकासखण्ड के ग्राम कालरा के किसान कमल सिंह कुशवाह ने आधुनिक तकनीक को अपनाकर उद्यानिकी फसल के रूप में आलू की खेती की शुरूआत की। कमल सिंह ने प्रथक्करण दूरी के साथ पौधे 20-25 सेंटीमीटर और कतार में 45-60 सेंटीमीटर दूरी पर लगाये। इससे इनका आलू का उत्पादन आधा एकड़ में 55-60 क्विंटल प्राप्त हुआ, जबकि पूर्व में आधा एकड़ के खेत में 40-45 क्विंटल आलू का उत्पादन मिला करता था। कमल सिंह ने उद्यानिकी की अन्य फसल के लिये विभाग से सम्पर्क किया है।

 कटनी- जिले के ढीमरखेड़ा विकासखण्ड के ग्राम मुरवारी में रहने वाले लव की लाइफ उद्यानिकी फसलों के बेहतर उत्पादन से खुशहाल हो गई है। पिछले दो सालों से उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों के मार्गदर्शन में लव कुमार ज्योतिषी अपने 2 हेक्टेयर के खेत में से एक हेक्टेयर में उद्यानिकी फसल लगा रहे हैं। लव कुमार को उद्यानिकी फसल से वर्षभर में ढाई लाख रुपये की आमदनी भी हो रही है। लव कुमार को उद्यानिकी विभाग ने अनुदान पर ट्रेक्टर बिथ रोटावेटर दिया गया है। अब लव कुमार ने अपनी पूरी 2 हेक्टेयर भूमि पर सब्जी उत्पादन करने की कार्य-योजना बना ली है। लव कुमार बताते हैं कि रोटावेटर से मिट्टी के बारीक टुकड़े हो जायेंगे। ट्रेक्टर बिथ रोटावेटर पाटा का काम भी करेगा। इससे जमीन भी लेबल हो पायेगी और 8 से 10 दिनों तक जमीन में नमी बनी रहेगी।

 सक्सेस स्टोरी (झाबुआ, सिंगरौली, राजगढ़, भोपाल, कटनी)


मुकेश मोदी
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
हिमांशु और शीर्ष अब सुन सकते हैं माँ की आवाज़
ह्रदय रोगी बच्चों को मिली नि:शुल्क चिकित्सा
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने पक्के घर की अभिलाषा
बड़वाह के किसान प्रकाश ने अजमेरी गुलकंद से बढ़ाया पान का जायका
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...