सक्सेस स्टोरीज

चीतल मछली पालन कर मत्स्य गोपाल बने दशरथ मल्लाह

भोपाल : गुरूवार, फरवरी 22, 2018, 16:10 IST

अमेरिका और बांग्लादेश में पाई जानी वाली दुर्लभ प्रजाति की मछली चीतल को सतना जिले की आबो-हवा में पाल कर मत्स्य कृषक दशरथ मल्लाह न केवल सबको हैरान कर दिया है, बल्कि इसके साथ ही मत्स्य पालन की तकनीक सीख कर चीतल मछली के कारोबार से हुए मुनाफे से अपनी बदहाल जिंदगी को खुशहाल जिंदगी में बदल लिया है।

सतना नई बस्ती के रहने वाले दशरथ मल्लाह तालाब में कतला और राहु मछली पालते थे। इससे उन्हे कम मुनाफा ही हो पाता था। मछली पालन में नई तकनीक अपनाकर अपने जीवन में बदलाव लाना चाहते थे। उन्होंने बिहार जाकर चीतल मछली पालन की जानकारी ली और मछली का बीज ले आए। बस यहीं से उन्हें अपनी जिंदगी का मकसद मिल गया। इसके बाद उन्होने मत्स्य पालन विभाग से बदखर के तालाब को लीज पर ले कर मछली पालन शुरू कर दिया।

अमेरिका और बांग्लादेश की आबो-हवा के विपरित सतना के वातावरण में चीतल मछली पालन किसान दशरथ के लिए चुनौती भरा काम था। उन्होने अपने अनुभव और मत्स्य विभाग की सलाह पर मछलियों के लिए खुराक तैयार की। खुराक में मछलियों को सुखा कर उनका पाउडर बनाया और मछलियों की खुराक में मिला दिया। खुराक के इस मिश्रण से तालाब मे पल रही मछलियों की संख्या और आकार तेजी से बढ़ने लगा।

दशरथ के तालाब में 7 से 8 किलो वजन तक की चीतल मछलियाँ हजारों की तादाद में पल रही हैं। चीतल मछली में भरपूर प्रोटीन के साथ कई औषधीय गुण होते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में चीतल मछली 800 से 1000 रूपये और स्थानीय बाजार में 300 से 500 रूपये प्रति किलो के भाव पर बिक जाती है। किसान दशरथ को मत्स्य पालन विभाग से 15 दिन का प्रशिक्षण भी मिला है। उन्हें 60 हजार रूपये का ऋण भी प्राप्त हुआ है। इसके साथ ही जाल और नाव में भी उन्हें मछली पालन के लिए विभागीय मदद मिली है। मत्स्य विभाग ने किसान दशरथ की तकनीक से प्रभावित होकर उन्हें मत्स्य गोपाल उपाधि दी है दशरथ को आत्मा परियोजना में 10 हजार रूपये का पुरस्कार भी मिल चुका है।

मत्स्य विभाग ने दशरथ को रोल मॉडल बना कर उनकी तकनीक का प्रदेश भर में प्रचार करने का कार्यक्रम तैयार किया है। सतना जिले के कई मत्स्य पालक किसान दशरथ से प्रभावित होकर चीतल मछली पालन का मन बना चुके हैं।

सक्सेस स्टोरी (सतना)


मुकेश मोदी/राजेश सिंह
शाहपरी, सज्जाद और नासिर का माफ हुआ बकाया बिजली बिल
आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर
प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक
श्रमिक सुनीता, संध्या और शशि को मिले पक्के घर
गरीबों, जरूरतमंदों का भोजनालय बनी दीनदयाल रसोई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...