सक्सेस स्टोरीज

प्रधानमंत्री आवास योजना से गरीबों को मिल रहे पक्के मकान

भोपाल : बुधवार, फरवरी 21, 2018, 15:35 IST

प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब बेघर लोगों के चेहरे पर सुकुन लाने के साथ उन्हें अपनी जिंदगी बेहतरीन तरीके से बसर करने के लिए एक आश्रय स्थल दिया है। प्रधानमंत्री के “सबका साथ-सबका विकास’’ सपने को साकार करने की कड़ी में टीकमगढ़ जिले की जनपद पंचायत टीकमगढ़ की ग्राम पंचायत सुकवाहा, नीमच जिले की जावद तहसील के ग्राम ढाबा, रायसेन जिले की सिलवानी जनपद के ग्राम डाबरी सहित अन्य जिलों में सफलता की इबारत लिखी जा रही है।

टीकमगढ़ की ग्राम पंचायत सुकवाहा की मोंगिया बस्ती मे रहने वाले सभी अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोग बहुत ही निम्न-स्तर का जीवन-यापन कर रहे थे। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत इन पिछड़े निर्धन परिवारों को अपना आश्रय स्थल प्राप्त हुआ है। इसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी। दैनिक मजदूरी एवं मनिहारी का कार्य करके अपना गुजारा करने वाले लोगों ने प्रधानमंत्री के इस कदम की दिल से सराहना की है और उनको धन्यवाद ज्ञापित किया है। अनुसूचित जनजाति वर्ग के इन लोगों के लिए उनका अपना पक्का घर होना किसी सपने के सच होने जैसा है। 
     ग्राम पंचायत के सरपंच एवं समस्त सरकारी अमले के सहयोग से यहां आवास में लगने वाली सामग्री उपलब्ध करवाई गई। इस बस्ती में बने आवासों की गुणवत्ता की प्रशंसा स्वयं मुख्य अभियंता एवं कार्यपालन यंत्री ने अपने निरीक्षण के दौरान की।

इसी प्रकार नीमच जिले की ग्राम ढाबा निवासी देवीलाल जाटव 55 वर्षों से कच्चे कवेलू के झोपड़ीनुमा मकान में संयुक्त परिवर के साथ रह रहे थे। इस मकान में आये दिन साँप-बिच्छु सहित अन्य जानवरों का भय बना रहता था। प्रधानमंत्री आवास योजना में चयनित होने पर उन्हें 40-40 हजार रुपये की तीन किश्तें मिलीं, जिससे उन्होंने अपने लिये पक्का मकान बनवाया। पक्के मकान निर्माण में 90 दिन की मजदूरी 15 हजार 480 रुपये भी देवीलाल को अलग से प्राप्त हुई। अब वे अपने पक्के मकान में अपनी संयुक्त परिवार के साथ आराम से रह रहे हैं और इनकी सामाजिक प्रतिष्ठा भी बढ़ी है।

सिलवानी के ग्राम डाबरी में हल्के भी उन हितग्राहियों में शामिल हैं जिनका प्रधानमंत्री आवास योजना में पक्के मकान का सपना साकार हुआ है। हल्के बताते है कि अब तक का जीवन कच्चे मकान में गुजारा है। कभी सोचा भी नहीं था कि पक्की छत नसीब होगी। योजना के तहत चयिनत होने और आवास के भौतिक सत्यापन के बाद उनका यह सपना पूरा हुआ और वह अब पक्की छत के नीचे सुकून की नींद ले रहे हैं।

सक्सेस स्टोरी (टीकमगढ़,नीमच,रायसेन)


दुर्गेश रायकवार
शाहपरी, सज्जाद और नासिर का माफ हुआ बकाया बिजली बिल
आजीविका मिशन की ताकत से महिलाओं के लिये प्रेरणा बनी किरणदीप कौर
प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब परिवारों को बनाया पक्के घरों का मालिक
श्रमिक सुनीता, संध्या और शशि को मिले पक्के घर
गरीबों, जरूरतमंदों का भोजनालय बनी दीनदयाल रसोई
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...