सक्सेस स्टोरीज

प्राथमिक शाला के बच्चे कर रहे हैं डिजिटल माध्यम से पढ़ाई

भोपाल : बुधवार, फरवरी 21, 2018, 15:28 IST

सागर जिले के देवरी विकासखण्ड में एक गाँव है समनापुर जादो। यहाँ की प्राथमिक शाला के विद्यार्थियों को डिजिटल माध्यम से शिक्षा दी जा रही है। शाला में बच्चे एलसीडी और लेपटॉप के जरिये शिक्षा हासिल कर रहे हैं। जिले के इस पहले डिजिटल विद्यालय में बच्चे अंग्रेजी भाषा, कर्सिव हेण्ड-रायटिंग में लिखना सीख रहे हैं। नये और रोचक तरीके से वे गणित के गुणा, भाग, जोड़, घटाना बहुत अच्छे से समझकर सीख रहे हैं। डिजिटल माध्यम की मदद से बच्चे पहाड़ा, गिनती, स्पेलिंग, कविताएँ आदि बड़ी आसानी से याद कर लेते हैं। जिला प्रशासन के अधिकारी जब शाला में पहुँचे तो तीसरी कक्षा के छात्र सत्येन्द्र ने जिस फुर्ती से 19 का पहाड़ा सुनाया, वे दंग रह गये।

डिजिटल शिक्षा के माध्यम से गाँव में शिक्षा का स्तर बढ़ा है। इस शाला में कई ऐसे बच्चे हैं, जिन्होंने प्रायवेट स्कूल छोड़कर इस शाला में प्रवेश लिया है। यह शाला जिले में मॉडल के रूप में पहचान स्थापित कर रही है। शाला की सफलता से उत्साहित होकर जिला प्रशासन और शिक्षा विभाग जिले में इस प्रकार की एक और शाला जल्दी ही शुरू करने की कार्यवाही कर रहा है।

स्वच्छता में बगदा गाँव बना मिसाल:- दतिया जिले में भाण्डेर विकासखण्ड से 15 किलोमीटर दूर है गाँव बगदा। स्वच्छता अभियान से इस गाँव की तस्वीर ही बदल गई है। सभी गलियों में सी.सी. सड़क है। नाली और सड़कें बिलकुल साफ-सुथरी हैं। पूरे गाँव में शौचालय बने हुए हैं, जिनमें स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाता है। कुछ समय पहले बाहर जाने वाले ग्रामीणों को शौचालय के इस्तेमाल की आदत भी पड़ गई है।

गाँव के करन सिंह, भगवत सिंह, मुन्नालाल, अरविंद आदि कहते हैं कि अब हमें हमारा गाँव बहुत अच्छा लगता है। बच्चे भी सफाई से रहना सीख रहे हैं। इससे बीमारियों में भी कमी आयी है। पहले गाँव में घुसते ही गली में कीचड़, घूरा और कूड़ा-कचरा दिखता था। स्वच्छता अभियान के बाद हमारी गलियाँ इतनी साफ हो गई हैं कि ऐसा लगता है मानो हम किसी शहरी कस्बे में घूम रहे हैं।

 सक्सेस स्टोरी (सागर)


सुनीता दुबे
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से युवा बन रहे हैं सफल व्यवसायी
फार्म पौण्ड और स्प्रिंकलर से सिंचाई कर बढ़ाया फसल उत्पादन
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
हिमांशु और शीर्ष अब सुन सकते हैं माँ की आवाज़
ह्रदय रोगी बच्चों को मिली नि:शुल्क चिकित्सा
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने पक्के घर की अभिलाषा
बड़वाह के किसान प्रकाश ने अजमेरी गुलकंद से बढ़ाया पान का जायका
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...