सक्सेस स्टोरीज

बालाघाट में मूलचंद ने की केले की खेती की शुरूवात

भोपाल : रविवार, फरवरी 11, 2018, 15:18 IST

बालाघाट जिला मध्यप्रदेश में धान की खेती के लिये पहचाना जाता है। जिले के ग्राम नरसिंगा के किसान मूलचन्द भी वर्षों से अपने खेत में धान की खेती कर रहे हैं। किसान मूलचन्द को धान की खेती से पिछले कुछ वर्षों से कम मुनाफा मिल रहा था। इसकी चर्चा उन्होंने अपने क्षेत्र के उद्यानिकी अधिकारी से की। उद्यानिकी अधिकारी ने उन्हें नई तकनीक के साथ केले की खेती करने की सलाह दी।

किसान मूलचन्द गजभिये ने टीसू कल्चर, जी-09 प्रजाति के 600 केले के पौधे अपने खेत में लगाये। उनके द्वारा लगाये गये ज्यादातर केले के पौधे सही सलामत हैं। मूलचन्द ने बताया कि केले की फसल लगाने में 60 हजार रुपये की राशि खर्च हुई है। उन्हें प्रति पौधे पर 30 किलोग्राम तक केला फल मिलेगा। मूलचन्द को अनुमान है कि उद्यानिकी अधिकारी के मार्गदर्शन में उन्हें 4 लाख रुपये तक की आमदनी होगी। किसान मूलचन्द ने केले के खेत के पास ही मुर्गी पालन के लिये पोल्ट्री फार्म भी खोला है। वे मुर्गियों की बीट का उपयोग केले की फसल में खाद के रूप में कर रहे हैं। इससे केले के पौधे अच्छी स्थिति में है।

बालाघाट में अभी केले की कुल मांग का केवल 2 प्रतिशत उत्पादन ही होता है। मांग की बाकी पूर्ति जिले के बाहर से की जाती है। आज मूलचंद के खेत में लगे केले के पौधों को देखकर क्षेत्र के अन्य किसानों ने भी पूछताछ शुरू कर दी है। इन किसानों ने भी अपने खेत के कुछ हिस्से में केले की फसल लेने का निर्णय लिया है। उद्यानिकी विभाग बालाघाट जिले में केले की खेती को बढ़ावा देने के लिये प्रयास कर रहा है।

सक्सेस स्टोरी(बालाघाट)


मुकेश मोदी
सत्तर वर्षीय चरवाहे जागेश्वर ने ली पशु नस्ल सुधार की जिम्मेदारी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना ने मासूम भावना और प्रियंका को दी नई जिंदगी
अनार की फसल से सँवरी ओमप्रकाश की आर्थिक स्थिति
15 हजार गरीब बिजली उपभोक्ताओं के माफ हुए 651 लाख
कॉलेज में पढ़ रही है अब धारे गाँव की बेटियाँ
आदिवासी महिलाओं ने अपनाया कड़कनाथ पालन व्यवसाय
आजीविका मिशन से 25 लाख महिलाएँ बनीं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से बचपन के हुनर को बनाया जीने का सहारा
मासूम अखिलेश को आरबीएसके टीम ने ह्रदय रोग से दिलाई मुक्ति
विशेषज्ञों की सलाह पर कृषि को लाभकारी बना रहे किसान
गरीबों के लिये मुसीबत में सहारा बन रही संबल योजना
बिजली माफी से खिले गरीबों के चेहरे
स्व-रोजगार योजनाओं से आत्म-निर्भरता की ओर बढ़ता युवा वर्ग
मुख्यमंत्री बकाया बिजली बिल माफी योजना से प्रसन्न है कमजोर वर्ग
मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना ने दिलवाया आत्म-सम्मान
डॉ. रूपाली का है अब अपना क्लीनिक
ई-रिक्शा से रवि रैकवार की आमदनी हुई दोगुनी
प्रधानमंत्री सड़कें बनने से ग्रामीणों को साहूकारों से मिली मुक्ति
रवि ने साइबर कैफे से पाई आत्म-निर्भरता
गरीबों का संबल बनी मुख्यमंत्री जन-कल्याण और स्व-रोजगार योजना
रेवाराम के परिवार का संबल बने 4 लाख रुपये
समाधान एक दिन में योजना से समय पर मिल रहीं लोक सेवायें
आत्म-निर्भर बने युवा नरेन्द्र, दिलीप और शरीफ
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से गंगाराम बने साड़ी व्यापारी
बुरे वक्त का सहारा बनी संबल योजना
स्नेह सरोकार की मदद से सुपोषित हो रहे बच्चे
स्वस्थ जिंदगी बितायेंगी शिखा और माही
मिस्टर एम.पी. मोहन और दुला का बकाया बिल माफ
लल्ला कोल, हरीराम चढ़ार को भी मिला पक्का घर
रोशनी क्लीनिक की मदद से परमार दम्पत्ति को मिला संतान सुख
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...