social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

पॉली हाउस में कोलकता के मीठे पान की बेमिसाल खेती

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 28, 2017, 14:28 IST

हरदा जिले के टिमरनी विकास खंड के गांव छिरपुरा के बंसत वर्मा अपने पॉली हाउस में पान की बेमिसाल पैदावर से बहुत खुश हैं। उन्हें पंरपरागत खेती से अलग हटकर किया गया यह प्रयोग अच्छा मुनाफा दे रहा है।

खेती में नए प्रयोग और अच्छा मुनाफा कमाने बंसत ने उद्यानिकी विभाग की योजना के अन्तर्गत पॉली हाउस बनाकर पान की खेती की शुरूआत की। इस खेती में सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण बात यह है कि एक बार पान की बेल लगाने के बाद सालों तक इससे पत्ते ले सकते हैं। बार-बार बीज (बेल) लगाने की आवश्यकता नहीं होती। पंरपरागत खेती से हटकर यह प्रयोग हरदा जिले में पहली बार हुआ है कि जब किसी किसान ने पॉली हाउस बनाकर पान की खेती शुरू की है।

बंसत वर्मा ने 9.37 लाख रुपये से अपना पाली हाउस बनवाया और वहाँ कोलकता की सुप्रसिद्ध सोफिया पान की प्रजाति को पहली बार लगाया। यह संरक्षित खेती है। पॉली हाउस बनाने से पान की फसल तेज गर्मी, पाले और बरसात की वहज से नष्ट नहीं होती। एक बार रोपाई करने के बाद 20 साल तक रोपाई की जरूरत नहीं पड़ती। बसंत वर्मा ने एक हजार वर्ग मीटर के पॉली हाउस में कोलकाता से पान की 10 हजार बीज (बेल) लाकर लगाई। इससे एक साल में चार लाख पान के पत्तों का उत्पादन हुआ। बंसत ने पूर्ण जैविक विधि से पान के पत्ते पैदा किये। इसमें जीवामृत और सरसों की खली, दूध, मठा, नीम तेल का उपयोग किया। इससे लागत में भी भारी कमी आई। सिंचाई के लिए ड्रिप एण्ड फागर लगवाए। इस पान का पत्ता एक रूपये से दो रूपए तक मूल्य में भोपाल, इंदौर, इटारसी, और खण्डवा में बिकता है।

बंसत वर्मा की सफलता से प्रभावित होकर इंदौर और भोपाल में भी किसानों ने चार एकड़ के पॉली हाउस बनवाकर इस पान की प्रजति की पैदावर लेना शुरू कर दिया है।

सफलता की कहानी (हरदा)


बिन्दु सुनील
मंशाराम ने पत्नी से 45 वर्ष पहले के वादे को पूरा किया
सोलर पम्प से रूपवती की खेती लाभ का धंधा बनी
प्रधानमंत्री सड़क से ग्राम गांगपुर बना रमणीक स्थल
स्व-सहायता समूह से जुड़कर सशक्त महिला बनी अनीता
गरीबों के हमदर्द हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री
कम्बाइन हारवेस्टर और व्हील स्प्रेयर अविष्कार के लिये पुरस्कृत होंगे कृषक राजपाल
खानाबदोशों को प्रधानमंत्री आवास योजना में मिले पक्के घर
फिर से मुस्कुराने लगी है मासूम गरिमा
जैविक खेती और वर्मी कम्पोस्ट यूनिट से सालाना मुनाफा हुआ 5 लाख
मासूम नमन को मुख्यमंत्री बाल हदय उपचार योजना से मिला नया जीवन
मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से स्वावलम्बी बनते लोग
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों के घर फिर हुए रौशन
मछली पालन और पशुपालन से करोड़पति बने वर्मा बंधु
केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री वीरेन्द्र कुमार ने सराही प्रधानमंत्री आवास की गुणवत्ता
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने बदली नन्ही सविता की जिंदगी
कुपोषण से मुक्त हुआ छोटू ; यूनीसेफ के रिकार्ड में दर्ज हुई अनुसुईया
मासूम सीता, गीता और मीनाक्षी के होठों पर आई मुस्कान : रीतेश पैरों पर खड़ा हुआ
अनाज-दालों के साथ सब्जी से आई रामरतन के जीवन में खुशहाली
प्रधानमंत्री आवास योजना ने बढ़ाया लक्ष्मणदास का मान सम्मान
कुपोषण से मुक्ति के अभियान में मुनगा (सुरजना) से मिल रही कामयाबी
मासूम बच्चों को गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलवा रहीं स्वास्थ्य योजनायें
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से कैलाश धुर्वे बने इलेक्ट्रानिक्स व्यवसायी
मुख्यमंत्री बिजली बिल माफी स्कीम से गरीबों के घरों में आयी खुशहाली
आदिवासी युवक उमाशंकर को झोपड़ी की जगह पर ही मिला पक्का मकान
20 लाख से अधिक का लेन-देन कर रही है बैक-सखियाँ
विलुप्त बाघों ने पन्ना टाइगर रिजर्व को बनाया शोध एवं अध्ययन केन्द्र
खेती में रेज्डवेड विधि अपना कर किसानों ने लिया दोगुना उत्पादन
बंजर भूमि को फलदार-छायादार पेड़-पौधों से किया हरा-भरा
प्रधानमंत्री आवास योजना में 6 लाख 16 हजार जरूरतमंदों को मिले पक्के मकान
कड़कनाथ योजना से करवाई बेटियों की पढ़ाई
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...