social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

सुदूरवर्ती वन-ग्रामों में 70 साल बाद पहुंची बिजली

भोपाल : मंगलवार, दिसम्बर 26, 2017, 14:09 IST

नरसिंहपुर जिले के सुदूरवर्ती वन क्षेत्र के 10 गांव आजादी के सत्तर साल बाद भी बिजली की रोशनी से अछूते थे। जिले के विकासखंड चीचली एवं चारंवरपाठा के अंतर्गत ये गांव भैंसा, मुकुंदा, बड़ागांव, छींदखेड़ा, कोटरी, सांवरी, भिलमाढाना राजस्व ग्राम, भिलमाढाना वन ग्राम, टुईयापानी एवं गनेशनगर हैं। घने जंगलों के बीच बसे इन टोलों ने धीरे-धीरे गांव का रूप तो ले लिया, यहां स्कूल बन गये, सरकारी योजनाओं की पहुंच भी हो गई, लेकिन बिजली पहुंचाने में कई बाधाओं का सामना करना पड़ा।

पहाड़ की टेकरी के ऊपर बसे इन ग्रामों में विद्युत लाइन ले जाना अत्यंत दुष्कर कार्य था। इसके लिये पहले भारत सरकार के वन एवं पर्यावरण मंत्रालय से अनुमति ली गई। वनक्षति पूर्ति के रूप में पौधारोपण के लिए 126 लाख रूपये की राशि वन विभाग में जमा की गई। कलेक्टर द्वारा पौधारोपण के लिए सवा 6 एकड़ जमीन वन विभाग को आवंटित की गई। इसके बाद वन विभाग ने अनुमति दी। तब जाकर इन गांवों में विद्युतीकरण का कार्य प्रारंभ किया गया।

इन वन-ग्रामों तक बिजली पहुंचाने के लिए दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत लगभग 6 करोड़ 86 लाख रूपये की लागत से बिजली की अधोसंरचना का निर्माण किया गया और 62 कि.मी. 11 केव्ही लाइन, 10 कि.मी. एलटी लाइन एवं 14 विद्युत ट्रांसफार्मर आदि उपकरण स्थापित किये गये। निर्धारित समय के पहले ही वन-ग्रामों को रोशन कर दिया गया है।

वन-ग्राम सांवरी के निवासी सौ वर्षीय वृद्ध आदिवासी सुकलू ठाकुर कहते है 'बिजली के बारे में सुना तो था, अब जिंदगी में पहली बार गांव में बिजली को देख भी लिया है, दिन जैसा उजाला होता है।' इसी गांव की राजकुमारी बाई, गंगाबाई, रामकुमारी, कमलावती, नन्हीबाई, भूरी बाई, दक्खन आदि सभी ने एक स्वर में कहा कि बिजली आने से गांव में खुशहाली आ गई है। गांव में जल्द ही आटा चक्की लगेगी और उन्हें गेंहूँ पिसाने के लिए जंगली क्षेत्र के दुगर्म रास्तों से दूर तक नहीं जाना पड़ेगा।

पिछले दिनों क्षेत्रीय विधायक श्री संजय शर्मा, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री संदीप पटेल और जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक अध्यक्ष श्री वीरेन्द्र फौजदार जब बिजली का शुभारंभ करने ग्राम सांवरी पहुंचे तो वन ग्राम के लोगों ने खूब स्वागत किया और लोक नृत्य के माध्यम से अपनी खुशी जाहिर की।

सफलता की कहानी (नरसिंहपुर)


ऋषभ जैन/ यशवंत बरारे
बीकानेरी पापड़ बन रहे हैं पन्ना की पहचान
प्रधानमंत्री आवास में चैन की नींद सो पा रहे हैं हितग्राही
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से निशा को मिली नई जिंदगी
खेतिहर मजदूर कमलेश जाटव मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से हुए आत्म-निर्भर
मंशाराम ने पत्नी से 45 वर्ष पहले के वादे को पूरा किया
सोलर पम्प से रूपवती की खेती लाभ का धंधा बनी
प्रधानमंत्री सड़क से ग्राम गांगपुर बना रमणीक स्थल
स्व-सहायता समूह से जुड़कर सशक्त महिला बनी अनीता
गरीबों के हमदर्द हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री
कम्बाइन हारवेस्टर और व्हील स्प्रेयर अविष्कार के लिये पुरस्कृत होंगे कृषक राजपाल
खानाबदोशों को प्रधानमंत्री आवास योजना में मिले पक्के घर
फिर से मुस्कुराने लगी है मासूम गरिमा
जैविक खेती और वर्मी कम्पोस्ट यूनिट से सालाना मुनाफा हुआ 5 लाख
मासूम नमन को मुख्यमंत्री बाल हदय उपचार योजना से मिला नया जीवन
मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से स्वावलम्बी बनते लोग
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों के घर फिर हुए रौशन
मछली पालन और पशुपालन से करोड़पति बने वर्मा बंधु
केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री वीरेन्द्र कुमार ने सराही प्रधानमंत्री आवास की गुणवत्ता
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने बदली नन्ही सविता की जिंदगी
कुपोषण से मुक्त हुआ छोटू ; यूनीसेफ के रिकार्ड में दर्ज हुई अनुसुईया
मासूम सीता, गीता और मीनाक्षी के होठों पर आई मुस्कान : रीतेश पैरों पर खड़ा हुआ
अनाज-दालों के साथ सब्जी से आई रामरतन के जीवन में खुशहाली
प्रधानमंत्री आवास योजना ने बढ़ाया लक्ष्मणदास का मान सम्मान
कुपोषण से मुक्ति के अभियान में मुनगा (सुरजना) से मिल रही कामयाबी
मासूम बच्चों को गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलवा रहीं स्वास्थ्य योजनायें
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से कैलाश धुर्वे बने इलेक्ट्रानिक्स व्यवसायी
मुख्यमंत्री बिजली बिल माफी स्कीम से गरीबों के घरों में आयी खुशहाली
आदिवासी युवक उमाशंकर को झोपड़ी की जगह पर ही मिला पक्का मकान
20 लाख से अधिक का लेन-देन कर रही है बैक-सखियाँ
विलुप्त बाघों ने पन्ना टाइगर रिजर्व को बनाया शोध एवं अध्ययन केन्द्र
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...