social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

पॉलीथीन का विकल्प डी-कम्पोजिबल बैग बनाती हैं महिलायें

भोपाल : शनिवार, दिसम्बर 23, 2017, 19:21 IST

दूसरों के घरों में झाड़ू-पोंछा और बर्तन मांजने वाली महिलायें दीनदयाल राष्ट्रीय आजीविका मिशन से मिली मदद से अब पॉलीथिन बैग के विकल्प के रूप में विशेष डी-कम्पोजिबल थैले बनाने का काम कर आत्मनिर्भर हो गई हैं। साथ ही अपने शहर ग्वालियर को पॉलीथिन मुक्त बनाने में भी जुटी हैं।

ग्वालियर शहर की हरिशंकरपुरम कॉलोनी में नगर निगम ने कम्युनिटी हॉल में इन महिलाओं को फिलहाल अपना कारोबार चलाने के लिये जगह दी है। चंद्रबदनी नाका एवं उससे सटी अन्य मलिन बस्तियों की निवासी 15 महिलाओं ने आस वेलफेयर फाउण्डेशन की मदद से अपना स्व-सहायता समूह गठित किया है। इस संस्था की प्रमुख श्रीमती अनुराधा घोड़के ने समूह की महिलाओं को समूह संचालन का प्रशिक्षण भी दिलवाया है।

मध्यप्रदेश सरकार ने पर्यावरण संरक्षण को ध्यान में रखकर पॉलीथिन बैग के इस्तेमाल को रोकने का फैसला किया है। महिलाओं का यह समूह सरकार की इस मंशा को पूरा करने में जुटा है। नगर निगम ग्वालियर ने राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत इस महिला समूह को तीन सिलाई मशीन दिलाई हैं। समूह द्वारा निर्मित विशेष कपड़े के थैले पूरी तरह डी-कम्पोजिबल हैं, जो इस्तेमाल के बाद आसानी से नष्ट किए जा सकते हैं। जाहिर है कि पॉलीथिन बैग की तरह ये पर्यावरण को हानि नहीं पहुँचाते। साथ ही प्रदूषण और गंदगी का कारण भी नहीं बनते।

समूह की अध्यक्ष राधा झा और सचिव छुट्टन सहित सभी महिलायें प्रतिदिन साथ काम करती हैं। नियमित बैठक कर अपनी आर्थिक गतिविधि को और ऊँचाईयाँ देने पर विचार मंथन करती हैं। समूह की इन सदस्यों का जीवन स्तर अब तेजी से सुधर रहा है।

आस वेलफेयर फाउण्डेशन की प्रमुख अनुराधा घोड़के बताती हैं कि समूह द्वारा निर्मित कपड़े के लगभग साढ़े तीन हजार थैले नगर निगम ने खरीद लिए हैं। शहर के कारोबारियों और दुकानदारों को भी यह थैले खरीदने के लिये प्रोत्साहित किया जा रहा है। इस महिला स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित थैले ग्वालियर शहर को पॉलीथिन मुक्त बनाने में अहम भूमिका निभा रहे हैं।

सफलता की कहानी (ग्वालियर)


हितेन्द्र भदौरिया/बिन्दु सुनील
बीकानेरी पापड़ बन रहे हैं पन्ना की पहचान
प्रधानमंत्री आवास में चैन की नींद सो पा रहे हैं हितग्राही
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से निशा को मिली नई जिंदगी
खेतिहर मजदूर कमलेश जाटव मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से हुए आत्म-निर्भर
मंशाराम ने पत्नी से 45 वर्ष पहले के वादे को पूरा किया
सोलर पम्प से रूपवती की खेती लाभ का धंधा बनी
प्रधानमंत्री सड़क से ग्राम गांगपुर बना रमणीक स्थल
स्व-सहायता समूह से जुड़कर सशक्त महिला बनी अनीता
गरीबों के हमदर्द हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री
कम्बाइन हारवेस्टर और व्हील स्प्रेयर अविष्कार के लिये पुरस्कृत होंगे कृषक राजपाल
खानाबदोशों को प्रधानमंत्री आवास योजना में मिले पक्के घर
फिर से मुस्कुराने लगी है मासूम गरिमा
जैविक खेती और वर्मी कम्पोस्ट यूनिट से सालाना मुनाफा हुआ 5 लाख
मासूम नमन को मुख्यमंत्री बाल हदय उपचार योजना से मिला नया जीवन
मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से स्वावलम्बी बनते लोग
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों के घर फिर हुए रौशन
मछली पालन और पशुपालन से करोड़पति बने वर्मा बंधु
केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री वीरेन्द्र कुमार ने सराही प्रधानमंत्री आवास की गुणवत्ता
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने बदली नन्ही सविता की जिंदगी
कुपोषण से मुक्त हुआ छोटू ; यूनीसेफ के रिकार्ड में दर्ज हुई अनुसुईया
मासूम सीता, गीता और मीनाक्षी के होठों पर आई मुस्कान : रीतेश पैरों पर खड़ा हुआ
अनाज-दालों के साथ सब्जी से आई रामरतन के जीवन में खुशहाली
प्रधानमंत्री आवास योजना ने बढ़ाया लक्ष्मणदास का मान सम्मान
कुपोषण से मुक्ति के अभियान में मुनगा (सुरजना) से मिल रही कामयाबी
मासूम बच्चों को गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलवा रहीं स्वास्थ्य योजनायें
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से कैलाश धुर्वे बने इलेक्ट्रानिक्स व्यवसायी
मुख्यमंत्री बिजली बिल माफी स्कीम से गरीबों के घरों में आयी खुशहाली
आदिवासी युवक उमाशंकर को झोपड़ी की जगह पर ही मिला पक्का मकान
20 लाख से अधिक का लेन-देन कर रही है बैक-सखियाँ
विलुप्त बाघों ने पन्ना टाइगर रिजर्व को बनाया शोध एवं अध्ययन केन्द्र
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...