social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

अटल बाल पालक से सुपोषित हुईं अदिति और काव्या

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 20, 2017, 12:37 IST

 

ढाई वर्ष की अदिति और डेढ़ वर्ष की काव्या का जीवन अटल बाल पालक योजना से कुपोषणमुक्त हो गया है। महिला-बाल विकास विभाग की इस नवाचार योजना ने दोनों बच्चियों को कुपोषित से स्वस्थ बच्चों की श्रेणी में ला खड़ा किया है।

होशंगाबाद जिले की अदिति केवट का जन्म के समय वजन केवल 2.300 ग्राम था। अति कम वजन की अदिति को अटल बाल पालक के रूप में श्री मोहम्मद आदिल फाजिल ने अप्रैल में गोद लिया। महिला-बाल विकास विभाग के अधिकारियों द्वारा अदिति के पिता केवलराम केवट और माता रेखा केवट की काउंसिलिंग कर उन्हें व्यक्तिगत स्वच्छता रखने संबंधी आदतों की जानकारी दी गई। आँगनवाड़ी केन्द्र पर अदिति की नियमित रूप से आयुर्वेदिक तेल से मालिश शुरू की गई। साथ ही उसे विशेष आहार के रूप में पौष्टिक सोया-सत्तू, सोया-बिस्कुट, आँगनवाड़ी केन्द्र पर मीनू के अनुसार नाश्ता एवं भोजन निर्धारित समय पर दिया गया। परिणामस्वरूप अदिति के वजन में बढ़ोत्तरी हुई। अब वर्तमान में उसका वजन 10 किलो 800 ग्राम हो गया है। महिला-बाल विकास विभाग तथा अटल बाल पालक के प्रयासों से अदिति अति कम वजन से सामन्य वजन की श्रेणी में आ गई है। अदिति के माता-पिता आँगनवाड़ी कार्यकर्ता तथा महिला-बाल विकास विभाग की सराहना करते हुए कहते हैं कि आज उनकी बेटी कुपोषण के अभिशाप से मुक्त हो गई है।

ब्यावरा की काव्या राजपूत का वजन भी जन्म के समय मात्र 2 किलोग्राम था। अटल बाल पालक योजना के तहत कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने काव्या को गोद लिया। श्री लवानिया ने उसके पिता कन्हैयालाल और माता संध्या को काव्या को नियमित स्तनपान कराने तथा उन्हें स्वच्छता संबंधी आदतें अपनाने की समझाइश दी। आँगनवाड़ी केन्द्र में प्रतिदिन काव्या की तेल से मालिश शुरू की गई और उसे आँगनवाड़ी केन्द्र के मीनू अनुसार नाश्ता, सोया और नट्स, केला और दूध का पौष्टिक आहार दिया जाने लगा। कलेक्टर के प्रयासों से काव्या अब अति कम वजन की श्रेणी से बाहर आ गई है। काव्या के माता-पिता अपनी बेटी के वर्तमान स्वस्थ जीवन से काफी खुश हैं, क्योंकि वह अब सामान्य बच्चों की तरह अपना जीवन जी रही है

 सफलता की कहानी (होशंगाबाद)     


बिन्दु सुनील
बीकानेरी पापड़ बन रहे हैं पन्ना की पहचान
प्रधानमंत्री आवास में चैन की नींद सो पा रहे हैं हितग्राही
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से निशा को मिली नई जिंदगी
खेतिहर मजदूर कमलेश जाटव मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से हुए आत्म-निर्भर
मंशाराम ने पत्नी से 45 वर्ष पहले के वादे को पूरा किया
सोलर पम्प से रूपवती की खेती लाभ का धंधा बनी
प्रधानमंत्री सड़क से ग्राम गांगपुर बना रमणीक स्थल
स्व-सहायता समूह से जुड़कर सशक्त महिला बनी अनीता
गरीबों के हमदर्द हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री
कम्बाइन हारवेस्टर और व्हील स्प्रेयर अविष्कार के लिये पुरस्कृत होंगे कृषक राजपाल
खानाबदोशों को प्रधानमंत्री आवास योजना में मिले पक्के घर
फिर से मुस्कुराने लगी है मासूम गरिमा
जैविक खेती और वर्मी कम्पोस्ट यूनिट से सालाना मुनाफा हुआ 5 लाख
मासूम नमन को मुख्यमंत्री बाल हदय उपचार योजना से मिला नया जीवन
मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से स्वावलम्बी बनते लोग
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों के घर फिर हुए रौशन
मछली पालन और पशुपालन से करोड़पति बने वर्मा बंधु
केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री वीरेन्द्र कुमार ने सराही प्रधानमंत्री आवास की गुणवत्ता
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने बदली नन्ही सविता की जिंदगी
कुपोषण से मुक्त हुआ छोटू ; यूनीसेफ के रिकार्ड में दर्ज हुई अनुसुईया
मासूम सीता, गीता और मीनाक्षी के होठों पर आई मुस्कान : रीतेश पैरों पर खड़ा हुआ
अनाज-दालों के साथ सब्जी से आई रामरतन के जीवन में खुशहाली
प्रधानमंत्री आवास योजना ने बढ़ाया लक्ष्मणदास का मान सम्मान
कुपोषण से मुक्ति के अभियान में मुनगा (सुरजना) से मिल रही कामयाबी
मासूम बच्चों को गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलवा रहीं स्वास्थ्य योजनायें
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से कैलाश धुर्वे बने इलेक्ट्रानिक्स व्यवसायी
मुख्यमंत्री बिजली बिल माफी स्कीम से गरीबों के घरों में आयी खुशहाली
आदिवासी युवक उमाशंकर को झोपड़ी की जगह पर ही मिला पक्का मकान
20 लाख से अधिक का लेन-देन कर रही है बैक-सखियाँ
विलुप्त बाघों ने पन्ना टाइगर रिजर्व को बनाया शोध एवं अध्ययन केन्द्र
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...