social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

खरगोन में है प्रदेश का पहला रंगीन मछली उत्पादन केंद्र

भोपाल : रविवार, दिसम्बर 3, 2017, 14:22 IST

घर को सुंदर बनाने में गृहणियों की पहली पसंद फिश एक्वेरियम ही होता है। यह बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि फिश एक्वेरियम की रंगीन मछलियों के बीज भी फार्म में ही उत्पन्न होते है।

ऐसी ही करीब 30 प्रकार की रंगीन मछलियों की प्रजाति का उत्पादन केंद्र सरफराज खान ने मत्स्य विभाग के सहयोग से खरगोन के प्रेमनगर में वर्ष 2009 में शुरू किया। खरगोन के सरफराज खान के मछली पालन के शौक को पूरा करने का संघर्ष भी उतना ही रोचक है। वे स्कूल से सीधे खरगोन की ओंडल नदी पर सिर्फ मछलियों को दाना खिलाने जाया करते थे। कुछ समय के बाद खराब आर्थिक स्थिति के कारण सरफराज खान ने ठेला लेकर शहर के फुटपाथ पर मात्र 550 रूपए के 7 फिश पॉट से अपना रंगीन मछली फार्म का सपना पूरा करने का पहला कदम रखा।

वर्ष 2009 में सरफराज खान को मत्स्य विभाग की मत्स्य कृषक विकास अभिकरण योजना द्वारा 8 लाख का लोन और 90 हजार रुपये का अनुदान स्वीकृत हुआ। इससे इन्होंने रंगीन मछलियों का बीज उत्पादन केंद्र बना लिया। खरगोन शहर के पास के गांव प्रेमनगर में एक एकड़ जमीन खरीदी और फार्म तैयार किया। इसके लिए कुआं खुदवाया और ट्यूबवेल पंप की व्यवस्था भी की। इसके बाद इन्हें विभाग द्वारा भुवनेश्वर की केंद्रीय फ्रेशवॉटर एक्वॉकल्चर संस्थान, मरीन प्रोडॅक्ट एक्सपोर्ट डेवलपमेंट अथॉरिटी के कोच्ची केंद्र और नई दिल्ली में प्रशिक्षण के लिए भेजा गया। इसके बाद सरफराज ने वो कर दिखाया जो प्रदेश में पहला उभरता रंगीन मछली बीज उत्पादन केंद्र बन गया।

पूरे मध्यप्रदेश में रंगीन मछली बीज उत्पादन के केवल 2 केंद्र है। उनमें से एक के मालिक सरफराज खान है जो प्रदेश में पहला है। सरफराज प्रदेश में 7 फ्रेंचाइजी के सहयोगी हैं और खरगोन में इनका सुंदर-सा फिश हॉउस भी है। अब सरफराज खान प्रदेश में कार्यरत दो रंगीन मछली बीज उत्पादन केंद्र में एक के मालिक है।

प्रेमनगर में सरफराज के फार्म पर आज गोल्ड फिश, एंजल, चिचलेड, मौली, गप्टी और कार्प, कामन कॉर्प सहित प्लेटी प्रजाति की कई प्रकार की मछलियां है। इनकी एक-एक प्रजाति में 100-100 प्रकार की मछलियां होती है। उनको इस बात की ज्यादा खुशी है कि एक समय वो ओंडल नदी में मौली और गप्टी को दाना खिलाते थे। आज वो बैंकाक की कार्प, ब्रुजल और एंजल तथा एक दर्जन से अधिक रंगीन मछलियों को दाना देते है। सरफराज के फार्म की मछलियां अब मुंबई, चेन्नई और कलकत्ता के बाजार की ज़ीनत हैं। अब सरफराज शुद्ध रूप से प्रतिमाह 40 से 50 हजार की कमाई करने के साथ 5 लोगों को रोजगार भी उपलब्ध करवा रहे है।


दुर्गेश रायकवार
पन्ना जिले में बेसहारा बच्चों का सहारा बनी फॉस्टर केयर योजना
जड़ी-बूटियाँ बनीं चित्रकूट की वनवासी महिलाओं का आर्थिक संबल
खुशी से फूले नहीं समा रहे इन्द्राना के चौधरी दम्पत्ति
अब के बरस सावन में जानकी बाई चैन से रहेगी अपने पक्के घर में
सोचा नहीं था कि आज ही कान की मशीन मिल जायेगी
बीकानेरी पापड़ बन रहे हैं पन्ना की पहचान
प्रधानमंत्री आवास में चैन की नींद सो पा रहे हैं हितग्राही
मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से निशा को मिली नई जिंदगी
खेतिहर मजदूर कमलेश जाटव मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से हुए आत्म-निर्भर
मंशाराम ने पत्नी से 45 वर्ष पहले के वादे को पूरा किया
सोलर पम्प से रूपवती की खेती लाभ का धंधा बनी
प्रधानमंत्री सड़क से ग्राम गांगपुर बना रमणीक स्थल
स्व-सहायता समूह से जुड़कर सशक्त महिला बनी अनीता
गरीबों के हमदर्द हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री
कम्बाइन हारवेस्टर और व्हील स्प्रेयर अविष्कार के लिये पुरस्कृत होंगे कृषक राजपाल
खानाबदोशों को प्रधानमंत्री आवास योजना में मिले पक्के घर
फिर से मुस्कुराने लगी है मासूम गरिमा
जैविक खेती और वर्मी कम्पोस्ट यूनिट से सालाना मुनाफा हुआ 5 लाख
मासूम नमन को मुख्यमंत्री बाल हदय उपचार योजना से मिला नया जीवन
मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना से स्वावलम्बी बनते लोग
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों के घर फिर हुए रौशन
मछली पालन और पशुपालन से करोड़पति बने वर्मा बंधु
केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री वीरेन्द्र कुमार ने सराही प्रधानमंत्री आवास की गुणवत्ता
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम ने बदली नन्ही सविता की जिंदगी
कुपोषण से मुक्त हुआ छोटू ; यूनीसेफ के रिकार्ड में दर्ज हुई अनुसुईया
मासूम सीता, गीता और मीनाक्षी के होठों पर आई मुस्कान : रीतेश पैरों पर खड़ा हुआ
अनाज-दालों के साथ सब्जी से आई रामरतन के जीवन में खुशहाली
प्रधानमंत्री आवास योजना ने बढ़ाया लक्ष्मणदास का मान सम्मान
कुपोषण से मुक्ति के अभियान में मुनगा (सुरजना) से मिल रही कामयाबी
मासूम बच्चों को गंभीर बीमारियों से छुटकारा दिलवा रहीं स्वास्थ्य योजनायें
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...