सक्सेस स्टोरीज

डेयरी और गौशाला का मालिक है ग्रेजुएट शैलेष

भोपाल : मंगलवार, अक्टूबर 31, 2017, 16:40 IST
 

शैलेष श्रीवास्तव ग्रेजुएट है। वर्ष 2015 तक अनूपपुर जिले के अंतर्गत अमरकंटक में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय केन्द्रीय विश्वविद्यालय के प्रवेश-द्वार पर ढाबा चलाता था। आज 10 गायों की डेयरी का मालिक है, गौशाला भी तैयार कर ली है और विश्वविद्यालय के पास ही सांई डेली नीड्स एवं डेयरी के नाम से दुकान भी चलाता है। रोज 150 किलो गाय का दूध विश्वविद्यालय के स्टॉफ और आसपास के निवासियों को बेचता है। शैलेष को डेयरी और गौशाला का मालिक बनने में आचार्य विद्यासागर योजना का योगदान मिला।

केन्द्रीय विश्वविद्यालय, अमरकंटक के प्रवेश द्वार पर ढाबा चलाते हुए शैलेष ने महसूस किया कि विश्वविद्यालय परिसर से बाजार दूर होने के कारण विश्वविद्यालय परिवार और वहाँ के केंटीन संचालक को आवश्यकतानुसार दूध नहीं मिल पाता है। विश्वविद्यालय के प्राध्यापकों ने शैलेष को डेयरी खोलने की सलाह दी, शैलेष ने भी इसके लिए अपना मन बना लिया। पशु चिकित्सा विभाग के स्थानीय अधिकारी से डेयरी व्यवसाय की तकनीकी जानकारी और जोखिम के बारे में चर्चा की क्योंकि उसके लिए यह व्यवसाय एकदम नया था।

शैलेष की रुचि और लगन से प्रभावित होकर पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारी ने आचार्य विद्यासागर योजना में ऋण प्रकरण तैयार कराया और सेंट्रल बैंक ऑफ इण्डिया की लालपुर शाखा से 8 लाख रुपये का ऋण भी स्वीकृत कराया। ऋण राशि में एक लाख 50 हजार रुपये शासकीय अनुदान शामिल है।

पशु चिकित्सा विभाग ने शैलेष को दुधारु पशुओं की देखरेख, भोजन, चिकित्सा, रहने की व्यवस्था, दूध संग्रहण एवं वितरण आदि के बारे में बहुत अच्छी तरह समझाइश दी, जानकारी उपलब्ध कराई तथा प्रशिक्षण भी दिलवाया। शैलेष ने शुरू में पंजाब से होलीस्टीन (एचएफ) नस्ल की 5 गायें खरीदीं। प्राप्त प्रशिक्षण के अनुसार गायों की सेवा की तो हर गाय रोजाना 10 से 15 लीटर तक दूध देने लगी। यह दूध विश्वविद्यालय कैम्पस में ही अच्छे दाम पर बिकने लगा। छह माह बाद ही शैलेष को बैंक ने स्वीकृत ऋण की दूसरी किश्त की राशि दी तो उसने फिर 5 गाय खरीदीं।

ग्रेजुएट शैलेष श्रीवास्तव अब तक गायों की देखरेख और डेयरी संचालन में पारंगत हो चुका था। अब उसे गायों से रोजाना 150 लीटर दूध मिलने लगा है। शैलेष ने अपनी दुधारु गायों के भोजन के लिए डेयरी के पास की जमीन में पर्याप्त हरा चारा लगाया है और गौशाला भी तैयार कर ली है। खाली समय का उपयोग करने के लिए सांई डेली नीड्स एवं डेयरी के नाम से दुकान भी खोल ली है। इस दुकान में शैलेष अपने ढाबे तथा दूध से बनी खाद्य सामग्री कम दाम पर बेचता है।

सफलता की कहानी (अनूपपुर)


राजेश मलिक
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
हिमांशु और शीर्ष अब सुन सकते हैं माँ की आवाज़
ह्रदय रोगी बच्चों को मिली नि:शुल्क चिकित्सा
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने पक्के घर की अभिलाषा
बड़वाह के किसान प्रकाश ने अजमेरी गुलकंद से बढ़ाया पान का जायका
स्व-रोजगार योजनाओं से व्यवसायी बने शिवनारायण, चेतराम और मो. अवसार
कृषक गणपत लाल ने खेत में बनाया प्याज भण्डार-गृह
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...