सक्सेस स्टोरीज

ग्रामीण महिलाओं को मिल रहा है सम्मानजनक रोजगार

भोपाल : शुक्रवार, अक्टूबर 20, 2017, 17:47 IST

ग्राम लोही जिला रीवा में आजीविका केन्द्र में 7 स्व-सहायता समूहों द्वारा हाथकरघा के माध्यम से कपड़ा निर्माण किया जा रहा है। इन स्व-सहायता समूहों से अनुसूचित जाति-जनजाति वर्ग की 35 महिलाएँ जुड़ी हुई हैं। इन महिलाओं ने अब तक 270 मीटर कपड़ा बुना है। समूह की प्रत्येक महिला को औसत रूप से 4500 रुपये की प्रति माह आमदनी हो रही है।

ग्राम लोही और मऊगंज के ढेरा में 21 स्व-सहायता समूहों की महिलाएँ टेडीबियर बना रही हैं। प्रत्येक महिला को 3 से 4 टेडीबियर बनाने पर औसत रूप से 200 रुपये तक की प्रतिदिन आमदनी हो रही है। इन स्व-सहायता समूहों से 90 ग्रामीण महिलाएँ जुड़ी हुई हैं। ग्राम लोही मे 2 स्व-सहायता समूह की 10 महिलाएँ प्रति माह करीब 4 हजार साबुन बनाकर आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हो रही हैं। रीवा जिले के जोरी और खीरा ग्राम की 180 महिलाएँ अगरबत्ती निर्माण कार्य में संलग्न हैं। इस समूह की महिलाएँ प्रति मशीन प्रति दिन एक क्विंटल तक अगरबत्ती बना रही हैं। इनके द्वारा तैयार अगरबत्ती को अक्षर अगरबत्ती के नाम से जाना जाता है। अक्षर ब्राण्ड की अगरबत्ती की रीवा के बाजार में अपनी विशिष्ट पहचान बन गई है।

ग्राम भानपुर और खाम्हा की स्व-सहायता समूह की महिलाएँ गोबर से गमले का निर्माण कर रही हैं। गमला निर्माण कार्य में 9 स्व-सहायता समूह की 45 महिलाएँ जुड़ी हुई हैं। यह महिलाएँ 25 मशीनों से प्रति माह एक लाख से अधिक गमले तैयार कर रही हैं। उद्यानिकी और वन विभाग ने इन महिलाओं के स्व-सहायता समूह को 5 लाख गमलों को तैयार करने का आर्डर दिया है। स्व-सहायता समूह से जुड़ी ये महिलाएँ आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर तो हुई हैं, साथ ही इनके परिवार की माली हालत भी अच्छी हो गई है। इनके परिवारों की गाँव में प्रतिष्ठा भी बढ़ी है। रीवा जिले में ग्रामीण महिलाओं को इतना कारगर रोजगार उपलब्ध कराने का सशक्त माध्यम है अन्त्योदय ग्रामीण आजीविका मिशन।

सफलता की कहानी (रीवा)


मुकेश मोदी
दीनदयाल रसोई में पाँच रुपये में मिल रहा भरपेट स्वादिष्ट भोजन
आजीविका मिशन ने गरीब परिवारों को बनाया आर्थिक रूप से सशक्त
"नैचुरल हनी" ब्राँड शहद के मालिक हैं युवा किसान अनिल धाकड़
बच्चों की गंभीर बीमारियों का हुआ मुफ्त इलाज
प्रेमसिंह और राधेश्याम की पक्के मकान की चाह पूरी हो गई
टमाटर की खेती से किसान लखनलाल की आर्थिक स्थिति हुई मजबूत
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
श्रमिकों के आये अच्छे दिन, मिले पक्का मकान
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने घर की अभिलाषा
श्रमिक पर्वतलाल और महेश को भी मिला पक्का घर
मछली विक्रेता की बेटी मनीषा ने शूटिंग में बनाया विश्व रिकॉर्ड
समाधान एक दिन में योजना से आम आदमी को मिली राहत
दुर्लभ और विलुप्त पौधों की प्रजातियों को संरक्षित कर रहे हैं दिनेश गजानन
अलीराजपुर जिले को निरक्षरता के कलंक से मुक्त कर रहा सक्षम अभियान
कमलेश रजक और मेंतीबाई को मिला शौचालययुक्त पक्का घर
सोलर पंप से बची बिजली, कम हुई खेती की लागत
चित्रकूट की गौशाला में किया जा रहा है गौवंश नस्ल सुधार
कृषक रूपेश ने मक्का खेती से कमाया दोगुना फायदा
बकाया बिजली बिल माफी से गरीबों को मिली राहत
उज्जवला योजना से खुशहाल हुई रम्मोबाई, राजाबेटी, वर्षा और सुनीता की जिन्दगी
बुढ़ापे का सहारा बना प्रधानमंत्री आवास योजना में मिला पक्का घर
खेती के साथ पशुपालन कर रही है महिला कृषक शाँति
समाधान एक दिन योजना से तुरंत मिल रहे दस्तावेज
सरकारी मदद के बलबूते पर जिन्दगी को दी नई दिशा
हिमांशु और शीर्ष अब सुन सकते हैं माँ की आवाज़
ह्रदय रोगी बच्चों को मिली नि:शुल्क चिकित्सा
प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरी हुई अपने पक्के घर की अभिलाषा
बड़वाह के किसान प्रकाश ने अजमेरी गुलकंद से बढ़ाया पान का जायका
स्व-रोजगार योजनाओं से व्यवसायी बने शिवनारायण, चेतराम और मो. अवसार
कृषक गणपत लाल ने खेत में बनाया प्याज भण्डार-गृह
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...