आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

स्वस्थ शरीर, स्वस्थ मन और स्वस्थ वातावरण ही आनंद का आधारभूत तत्व- सुश्री ठाकुर

आनंद का आधार विषय पर ऑनलाइन वेबिनार 

भोपाल : शनिवार, मई 15, 2021, 18:33 IST

भारतीय सत्य सनातन वैदिक संस्कृति के अनुसार स्वस्थ शरीर, स्वस्थ मन और स्वस्थ वातावरण ही आनंद का आधारभूत तत्व है। अपना रहन-सहन, खान-पान, आचार-व्यवहार को शुद्ध, सात्विक और संस्कार युक्त रखने से सच्चे आनंद की प्राप्ति होगी। निःसंदेह इससे वातावरण भी शुद्धाधिशुद्ध बनते हुए बेहतर स्थितियों को प्राप्त करेंगा। यह बात संस्कृति, पर्यटन और आध्यात्म मंत्री सुश्री ठाकुर ने राज्य आनंद संस्थान द्वारा यूनिवर्सल ह्यूमन वैल्यूज टीम के सहयोग से 'आनंद का आधार, स्वस्थ मन, स्वस्थ शरीर, स्वस्थ वातावरण' विषय पर आयोजित ऑनलाइन वेबिनार में उद्बोधन के दौरान कही। राज्य आनंद संस्थान के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अखिलेश अर्गल सहित अन्य अधिकारी और देश के विभिन्न क्षेत्रों से बुद्धिजीवी वेबिनार से जुड़े रहें।

मंत्री सुश्री ठाकुर ने कहा कि एक पेड़ 10 डिग्री तापमान कम करता है और 10 हजार लीटर पानी अपने भीतर समाहित करता है। कोरोना महामारी से मुक्त होने का 'पर्यावरण शुद्धि' ही बेहतर माध्यम है। वातावरण शुद्ध होगा तो हम सब स्वस्थ होंगे, सुखी होंगे, निरोगी होंगे। मंत्री सुश्री ठाकुर ने संपूर्ण समाज से वृक्षारोपण करने और पर्यावरण की शुद्धि के लिए सूर्योदय और सूर्यास्त के वक्त अग्निहोत्र की दो आहुतियाँ डालने का आह्वाहन किया। उन्होंने कहा कि अग्निहोत्र से उत्पन्न औषधि युक्त धुआँ पर्यावरण के प्रदूषण को समाप्त करेगा और बेहतर स्वास्थ्य की दिशा में हम सब को आगे लेकर जाएगा। सभी स्वस्थ रहे, सभी आनंदित रहे, क्योंकि स्वस्थ मस्तिष्क और स्वस्थ शरीर ही स्वस्थ वातावरण के निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

मुख्य उद्बोधन अतिथि डॉ. रजनीश अरोड़ा ने कहा कि मानव के जीवन का फैलाव चार आधारभूत क्षेत्रों में है। एक मानव स्वयं में, अपने परिवार में, अपने समाज में तथा संपूर्ण अस्तित्व में विस्तारित होकर आनंद पूर्वक जीवन जी सकता है। इसके लिए सर्वप्रथम मन का स्वस्थ होना आवश्यक है। स्वस्थ मन से आशय सही भाव विचार, सत्य का ज्ञान और प्रेम का भाव होना है। आनंद का दूसरा आधार स्वस्थ शरीर है। स्वस्थ शरीर से आशय बीमारियों, भय, चिंता का न होना है। तीसरा आधार स्वस्थ वातावरण है। स्वस्थ वातावरण से आशय स्वस्थ समृद्ध परिवार है, जिसमें परस्पर संबंधों में सही समझ व एक दूसरे की केयर करना शामिल है। स्वस्थ वातावरण के साथ चौथे आधार स्वस्थ समाज की भी महत्वपूर्ण भूमिका है। इसमें न्याय व्यवस्था एवं सर्वजन हिताय-सर्वजन सुखाय का भाव निहित है। यदि हम इन चारों आधारों को मजबूत करते हैं तो चारों तरफ आनंद व्याप्त हो सकता है।


अनुराग उइके
Post a Comment

समय से पूरी की जाएँ सभी सीवरेज परियोजनाएँ
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रियों से की वन-टू-वन चर्चा
कोरोना मुक्ति में होगी युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका
वैक्सीनेशन जैसा पुनीत कार्य दूसरा नहीं
कोविड-19 की दूसरी लहर पर काबू के बाद अब शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन का लक्ष्य
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बादाम का पौधा लगाया
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सर संघ संचालक श्री के.एस. सुदर्शन की जयंती पर किया माल्यार्पण 
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महारानी लक्ष्मी बाई को किया नमन
दतिया में 50 लाख से बनेगी सर्व-सुविधायुक्त आधुनिक सब्जी मण्डी - डॉ. मिश्रा
मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना क्रियान्वयन के संबंध में निर्देश जारी
आपदा प्रबंधन की तैयारियों के लिये ट्रेनिंग व मॉकड्रिल का आयोजन
मोतीझील फीडर के डिस्ट्रीब्यूशन ट्रांसफार्मर पर लापरवाही के चलते विद्युत कंपनी ने की दो कार्यपालन यंत्री, 3 सहायक यंत्री एवं तीन कनिष्ठ यंत्री पर कार्रवाई
इंदौर जिले का महू बन रहा पूर्णतः स्मार्ट मीटर वाला पहला शहर
किसानों से धोखाधड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जायेगा - मंत्री श्री पटेल
कोरोना वैक्सीनेशन महा-अभियान को अपनी भागीदार से सफल बनायें- राज्य मंत्री श्री यादव
योजना के कार्यस्थलों का करें नियमित निरीक्षण
रोजगार गतिविधियों के सृजन से आत्म-निर्भर बनेगा मध्यप्रदेश- लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव
वैक्सीनेशन कराएं और दूसरो को भी प्रेरित करें : राज्य मंत्री श्री परमार
राज्य मंत्री श्री परमार ने स्कूल शिक्षा विभाग की ऑनलाइन अनुकंपा नियुक्ति प्रबंधन प्रणाली का शुभारंभ किया
राज्य आनंद संस्थान ने किया बच्चों के लिए ऑनलाइन आनंद सभा का आयोजन
वैक्सीन से नहीं घबराए वृद्धाश्रम के वृद्ध
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
गाँव-गाँव जाना है - कोरोना मुक्त बनाना है
वैक्सीनेशन के लिये ग्रामीणों को पीले चावल दिये
कोरोना की रोकथाम के लिये ट्रांसजेंडर्स की अद्भुत पहल
देवास में 102 वर्षीय मिट्ठू बाई ने लगवाया कोरोना का टीका
1