आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

लगातार कम हो रही पॉजिटिविटी दर - रिकवरी दर में निरंतर वृद्धि

कोरोना की चेन को तोड़ने और उपचार व्यवस्थाओं को बढ़ाने लगातार हो रहे प्रयास 

भोपाल : शुक्रवार, मई 14, 2021, 21:48 IST

प्रदेश में कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने और उपचार की बेहतर व्यवस्थाओं के लिये किये जा रहे चहुँमुखी प्रयासों से कोरोना की पॉजिटिविटी दर लगातार कम हो रही है और रिकवरी दर में वृद्धि हो रही है। प्रदेश का पॉजिटिविटी रेट घटकर 11.83 प्रतिशत और रिकवरी रेट 84.47 प्रतिशत हो गया है। पिछले एक माह में प्रतिदिन किये जा रहे टेस्टिंग की संख्या में तेजी से बढ़ोत्तरी की जा रही है। वर्तमान में 65 हजार से अधिक टेस्ट किये जा रहे हैं। गुरूवार 13 मई को रिकार्ड 68 हजार 351 टेस्ट किये गए, जो अब तक की सर्वाधिक दैनिक टेस्ट संख्या है।

राज्य शासन के समन्वित प्रयासों, प्रबंधन एवं चिकित्सकीय सुविधाओं की बढ़ोत्तरी से प्रतिदिन स्वस्थ और संक्रमण मुक्त होने वालों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। गुरुवार 13 मई को 8087 व्यक्ति पॉजिटिव आये और 11 हजार 671 मरीज रिकवर हुए हैं। प्रदेश का रिकवरी रेट 84.47 प्रतिशत रहा। प्रदेश में एक दिन में जितने लोग स्वस्थ हुए हैं, उनमें से 73.7 प्रतिशत ऐसे मरीज हैं जो होम आइसोलेशन में और 6.1 प्रतिशत ऐसे मरीज हैं जो कोविड केयर सेंटर में थे। इस प्रकार 79.8 प्रतिशत मरीज ऐसे हैं जो अस्पताल जाये बिना होम आइसोलेशन और कोविड केयर सेंटर में ही स्वस्थ हो रहे हैं। शेष 20.2 प्रतिशत मरीज अस्पतालों से संक्रमण मुक्त होकर सकुशल अपने घर पहुँचे हैं।

होम आइसोलेशन

प्रदेश में 82 हजार 966 मरीज वर्तमान में होम आइसोलेशन में हैं। इनमें से 95.3 प्रतिशत मरीजों से दूरभाष पर कम से कम एक बार संपर्क किया गया है। अभी तक टेली मेडिसिन सेवा में 49 हजार 463 मरीजों को परामर्श दिया गया। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में होम आइसोलेशन में रहने वाले 99 प्रतिशत मरीजों को मेडिकल किट और हेल्थ ब्रोशर की होम डिलेवरी की जा रही है।

कोविड केयर सेंटर्स

प्रदेश के 52 जिलों में 354 कोविड केयर सेंटर्स प्रारंभ किये जा चुके हैं, जिनमें मंद लक्षणों वाले रोगियों का इलाज किया जा रहा है। इनमें वर्तमान में कुल 21 हजार 988 आइसोलेशन बेड्स और 3231 ऑक्सीजन बेड्स स्थापित किये गए हैं। इसी प्रकार प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में अब तक कुल 22 हजार 404 से अधिक संस्थागत क्वारेंटाइन सेंटर्स बनाये जा चुके हैं, जिनमें लगभग 2 लाख 69 हजार 309 से अधिक बेड्स स्थापित किये गए हैं। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में स्थापित सभी कोविड केयर सेंटर्स/ संस्थागत क्वारेंटाइन सेंटर्स में रहने वाले शत प्रतिशत मरीजों को मेडिकल किट और हेल्थ ब्रोशर प्रदान किये जा रहे हैं।

अस्पताल और विस्तर

प्रदेश में सरकारी क्षेत्र में 315 और निजी क्षेत्र में 530, इस प्रकार कुल 845 कोविड अस्पताल वर्तमान में संचालित हो रहे हैं। एक अप्रैल को प्रदेश में उपलब्ध बेड्स की कुल संख्या 20 हजार 159 थी, जो आज बढ़कर 68 हजार 692 हो गई है। पिछले एक माह में कुल 45 हजार से अधिक बेड्स बढ़ाए गए हैं।

किल कोरोना अभियान

शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने और संभावित कोरोना संक्रमित रोगियों के उपचार के लिये किल कोरोना अभियान-3 का संचालन 7 मई से किया जा रहा है। अभियान में ग्रामीण क्षेत्र के सर्वे के लिये लक्षित जनसंख्या लगभग 6 करोड़ 26 लाख है। सुपरवाईजरी टीम ने संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान कर एक लाख 34 हजार 26 व्यक्तियों को मेडिकल किट प्रदान की गई हैं और 3,604 व्यक्तियों को कोविड केयर सेन्टर और 23 हजार 708 संदिग्ध व्यक्तियों को फीवर क्लीनिक रेफर किया गया हैं। अभियान में 1,818 पॉजीटिव प्रकरणों का चिन्हांकन हुआ है। शहरी क्षेत्र में 'किल कोरोना अभियान-3' के तहत लगभग 2 करोड़ 14 करोड़ जनसंख्या सर्वे लक्षित किया गया हैं। 872 कोविड सहायता केन्द्र स्थापित किये गए हैं। इन कोविड सहायता केन्द्रों पर 64 हजार 873 संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान कर 49 हजार 240 को मेडिकल किट प्रदान की गई हैं और 9,217 संदिग्ध व्यक्तियों को फीवर क्लीनिक रेफर किया गया हैं। अभियान में 1,104 पॉजीटिव प्रकरणों का चिन्हांकन हुआ है।

कोरोना-वॉलेंटीयर्स

कोरोना वॉलेंटियर्स सरकार के साथ कंधे से कन्धा मिलाकर कोविड नियंत्रण में जन-जागरूकता के कार्यों में अहम योगदान दे रहे हैं। प्रदेश भर में कोरोना वॉलेंटियर्स की संख्या अब एक लाख 13 हजार 507 से भी अधिक हो गयी है।

जीवन-अमृत योजना

जीवन-अमृत योजना में अब तक प्रति परिवार 1 लाख 48 हजार 264 काढ़े के पैकेट वितरित कर 3 लाख 70 हजार 660 लोगों को लाभान्वित किया गया है।

योग से निरोग कार्यक्रम

योग से निरोग कार्यक्रम में अब तक 2 हजार 918 योग प्रशिक्षक पंजीकृत हो चुके हैं। इनमें से 2 हजार 531 योग प्रशिक्षकों की 36 हजार 303 होम आइसोलेटेड मरीजों के साथ मैपिंग की गयी। वर्तमान में कुल 2 हजार 390 योग प्रशिक्षक, कुल 15 हजार 146 होम आईसोलेटेड मरीजों को योगाभ्यास आदि ऑनलाइन करवा रहे हैं।

मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना

मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना में प्रदेश के शासकीय अस्पतालों और कोविड केयर सेन्टर में प्रदेश का कोई भी नागरिक भर्ती होकर निःशुल्क इलाज करा सकता हैं। इस कम्पोनेन्ट के तहत गुरूवार 13 मई की स्थिति में 21 हजार 783 मरीज उपचाररत हैं। प्रदेश के चार जिलों इन्दौर, भोपाल, देवास और उज्जैन के प्राइवेट चिकित्सा महाविद्यालय के अस्पतालों में अनुबंधित बिस्तरों पर प्रदेश का कोई भी व्यक्ति भर्ती होकर निःशुल्क उपचार करा सकता हैं। इस कम्पोनेन्ट के तहत 2887 मरीज उपचाररत् हैं। आयुष्मान से सम्बद्ध समस्त अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड की पात्रता रखने वाले परिवार के सभी सदस्यों का निःशुल्क उपचार किया जा रहा हैं। इस कम्पोनेन्ट के तहत 2280 मरीज उपचाररत् हैं।

कोविड-19 उपचार करने वाले 603 निजी चिकित्सालयों में से 188 निजी चिकित्सालय आयुष्मान योजना में पूर्व से संबद्ध हैं। निजी चिकित्सालयों के आयुष्मान से सम्बंध होने के 333 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं, जिसमें से 231 को सम्बद्ध किया जा चुका हैं।

संकट प्रबंधन समूह

प्रदेश के 313 विकासखण्डों में से 253 में विकासखण्ड स्तरीय संकट प्रबंधन समूह एवं 46 हजार 266 ग्रामों में से 38 हजार 934 ग्रामों में ग्राम संकट प्रबंधन समूह का गठन किया जा चुका है। शहरी क्षेत्र में 407 स्थानीय निकायों के 7,568 वार्ड में से 6,646 में वार्ड स्तरीय संकट प्रबंधन समूह गठन किये जा चुके है।


अनुराग उइके
Post a Comment