आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

कोविड-19 के बाद सामाजिक बदलावों पर चिंतन की जरूरत - मंत्री श्री सखलेचा

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस पर वर्चुअल संवाद 

भोपाल : मंगलवार, मई 11, 2021, 21:18 IST

कोविड-19 महामारी के बाद समाज के रहन-सहन और चिंतन में परिवर्तन होगा।  परंपरा और संस्कार प्रधान भारतीय समाज मे लॉकडाउन संक्रमण को रोकने का विकल्प हो सकता है लेकिन अंतिम समाधान नहीं है। यह विचार विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री तथा सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा  मंगलवार को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस पर  कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। 

मंत्री श्री सखलेचा ने  कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है इसी दिन 1998 में भारत ने पोखरण में सफल परमाणु परीक्षण से अपनी प्रौद्योगिकी क्षमता और प्रतिभा का परिचय दुनिया भर को दिया था।

उन्होंने  कहा कि यह प्रश्न सहज ही किया जा सकता है कि कोविड-19 के बाद समाज का भावी स्वरूप कैसा होगा। महामारी के इस चुनौतीपूर्ण दौर में सांस्कृतिक मूल्यों और संस्कारों को बचाने की दिशा में विचार मंथन की जरूरत है। उन्होंने कहा कि प्रौद्योगिकी दिवस पर हमें भावी तकनीकी चुनौतियों पर भी गौर करना होगा।

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस का आयोजन भारत की आजादी के 75 वर्ष के संदर्भ में किया गया था। वर्चुअल आयोजन का विषय  आत्मनिर्भर भारत और कोविड-19 में विज्ञान और वैज्ञानिकों की भूमिका था।

इस अवसर पर विज्ञान भारती दिल्ली के राष्ट्रीय संगठन मंत्री श्री जयंत सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि बहुत कम लोगों को मालूम है कि गांधीजी से भी पहले भारतीय वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु ने सत्याग्रह शुरू किया था। उन्होंने भौतिकी मैं मौलिक खोज से अंग्रेजों की सोच बदली। जगदीश चंद्र बसु, आशुतोष मुखर्जी, प्रफुल्ल चंद्र राय, मेघनाथ साह, सत्येंद्र नाथ बोस आदि भारतीय वैज्ञानिकों का आजादी के आंदोलन में योगदान रहा। श्री जयंत सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि 11 मई के सफल परमाणु परीक्षण ने यह रेखांकित कर दिया कि भारतीय प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आत्मनिर्भर हो चुका है।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद मैपकास्ट के महानिदेशक डॉ.अनिल कोठारी ने कहा कि स्वदेशी प्रौद्योगिकी के माध्यम से देश आत्म निर्भरता की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि परिषद ने कोविड-19 के दौर में प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के अंतर्गत प्रदेशवासियों को फीवर क्लीनिक, वेंटिलेटर और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने में योगदान किया है। 

भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (आईसर), भोपाल के निदेशक प्रोफेसर शिवा उमापति ने कहा कि कोविड-19 के दौरान सांस्कृतिक परिवर्तन दिखाई दिया है। स्वदेशी वैक्सीन और ऑक्सीजन का उत्पादन यह रेखांकित करता है कि भारत आत्मनिर्भर हो गया है। विज्ञान भारती मध्य भारत प्रांत के प्रेसिडेंट डॉ. अमोद गुप्ता ने कहा कि आज का दिन यह दर्शाता है कि भारत अनेक क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी में आत्म-निर्भर हो चुका है जिसका फायदा समाज को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से जुड़ी भ्रामक जानकारी से उत्पन्न डर को दूर करने की जरूरत है। आम लोगों को सही समय पर प्रमाणित और वैज्ञानिक जानकारियां उपलब्ध कराने की आवश्यकता है। 

वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद मैप कास्ट भोपाल एवं विज्ञान भारती के संयुक्त तत्वावधान में किया गया।


राजेश बैन
Post a Comment

मुख्यमंत्री श्री चौहान से केंद्रीय मंत्री श्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने मुलाकात की
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुख्य न्यायाधीश श्री रफ़ीक़ से सौजन्य भेंट की
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बुधनी में 300 बिस्तरों वाले कोविड-19 सेंटर का किया शुभारंभ
कोरोना की संभावित तीसरी लहर के लिए नहीं छोड़ेंगे कोई कसर - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान का किया स्वागत
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्मार्ट पार्क में सप्तपर्णी का पौधा लगाया
संभावित तीसरी लहर के लिए सभी आवश्यक तैयारियाँ सुनिश्चित करें : डॉ. मिश्रा
जीएसटी काउंसिल की 44वीं बैठक
विनय नगर में बनेगा प्रदेश का आदर्श विद्युत उपभोक्ता केन्द्र - ऊर्जा मंत्री श्री तोमर
श्रम मंत्री श्री सिंह के अथक प्रयासों से श्री यशवंत सोनी का पार्थिव शरीर रविवार को भारत पहुँचेगा
साढ़े सात नदी होंगी जीवित - मंत्री सुश्री ठाकुर
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
सभी के सहयोग से नीमच जिले में कोरोना पर नियंत्रण पाने में सफल हुए: मंत्री श्री सखलेचा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वर्गीय श्री विजेश लुनावत के परिवार जनों को सांत्वना दी
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूर्व मंत्री श्री दीपक जोशी से भेंट कर उन्हें सांत्वना दी
समाज की मानसिकता सकारात्मक बनाने में युवा शक्ति -कोरोना मुक्ति अभियान मील का पत्थर साबित होगा
प्रदेश में नई तकनीक से होगा भण्डारणः वेयर हाऊस कार्पोरेशन अध्यक्ष श्री राहुल सिंह
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री कुट्टी मेनन के निधन पर शोक व्यक्त किया
1