आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.
"आजादी का अमृत महोत्सव"

मंत्री सुश्री ठाकुर ने 1857 के मुक्ति संग्राम के शहीदों को किया नमन

 

भोपाल : रविवार, मई 9, 2021, 20:34 IST

संस्कृति, पर्यटन और आध्यात्म मंत्री सुश्री उषा ठाकुर ने 1857 के 'मुक्ति संग्राम' के अमर वीर शहीदों को नमन किया है। सुश्री ठाकुर ने आजादी के अमृत महोत्सव पर 1857 के 'मुक्ति संग्राम' के अमर शहीदों को स्मरण करते हुए कहा कि मंगल पांडे से शुरू करूं या मेरठ के गलियारों से हाहाकारों से शुरू करूं या हर-हर बम के नारों से तो क्यों न इसको शुरू करूं भारत माँ के जयकारों से। मंत्री सुश्री ठाकुर ने कहा कि हमारे क्रांतिवीरों ने अपना तन-मन-धन, सर्वस्व देश की स्वतंत्रता को समर्पित किया। 'वंदे-मातरम' नाम का यह महामंत्र, उन्हें वेद मंत्रों से भी अधिक वंदनीय था। उन्होंने देश की संस्कृति और राष्ट्र की अस्मिता, मान-सम्मान के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया।

सुश्री ठाकुर ने अमर शहीद मंगल पांडे सहित संपूर्ण क्रांतिकारियों को कोटि-कोटि नमन किया और प्रभु से प्रार्थना की कि उनके जैसी त्याग बुद्धि हमें भी दें। हमें ऐसी हिम्मत, ऐसी ताकत, ऐसा साहस दें जिससे हम स्वतंत्र देश की व्यवस्थाओं को सुधार सकें और अपने पूर्वजों की पावन परंपराओं का निर्विघ्न निरंतर निर्वहन करते रहें। सुश्री ठाकुर ने सभी से यह प्रण करने का आह्वाहन किया कि अगर देश हित में मरना पड़े, मुझको सहस्त्रों बार भी, तो भी मैं इस कष्ट को निजी ध्यान में न लाऊं कभी। हे ईश्वर, इस भारतवर्ष में सहस्त्र बार मेरा जन्म हो सदा ही, कारण सदा ही मृत्यु का देशों उपकारक कर्म हो। 'जय हिंद'

सुश्री ठाकुर ने कहा कि भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के इतिहास में इस लड़ाई को 'मुक्ति संग्राम' के नाम से जाना जाता है। इस संग्राम ने भारतीयों में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ विद्रोह का बिगुल बजा दिया था और पूरे देश की जनता इस संग्राम में शामिल हो गई थी। सुश्री ठाकुर ने कहा कि ऐसा कहा जाता है कि आजादी जब अपनी जड़े जगाती है, तब तेजी से एक विकासशील और स्वतंत्र नींव बन जाती है। ब्रिटिश शासन के अत्याचार और शोषण से परेशान भारतीय जनता ने इस लड़ाई के जरिये ब्रिटिश शासन की नींव हिला दी। जात-पात और धर्म से ऊपर उठकर आजादी की इस लड़ाई में समाज के हर वर्ग ने हिस्सा लिया और 'मुक्ति संग्राम' ने राष्ट्रीय आंदोलन का रूप ले लिया। इस विद्रोह का परिणाम यह हुआ कि भारत में असंगठित राजा महाराजा, सामंत और रियासतें जो बिखरी पड़ी थी, उन सब में राष्ट्रवाद तथा भारत के पुनःनिमार्ण का बीज बो दिया।


अनुराग उइके
Post a Comment

समय से पूरी की जाएँ सभी सीवरेज परियोजनाएँ
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रियों से की वन-टू-वन चर्चा
कोरोना मुक्ति में होगी युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका
वैक्सीनेशन जैसा पुनीत कार्य दूसरा नहीं
कोविड-19 की दूसरी लहर पर काबू के बाद अब शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन का लक्ष्य
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बादाम का पौधा लगाया
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सर संघ संचालक श्री के.एस. सुदर्शन की जयंती पर किया माल्यार्पण 
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महारानी लक्ष्मी बाई को किया नमन
दतिया में 50 लाख से बनेगी सर्व-सुविधायुक्त आधुनिक सब्जी मण्डी - डॉ. मिश्रा
मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना क्रियान्वयन के संबंध में निर्देश जारी
आपदा प्रबंधन की तैयारियों के लिये ट्रेनिंग व मॉकड्रिल का आयोजन
मोतीझील फीडर के डिस्ट्रीब्यूशन ट्रांसफार्मर पर लापरवाही के चलते विद्युत कंपनी ने की दो कार्यपालन यंत्री, 3 सहायक यंत्री एवं तीन कनिष्ठ यंत्री पर कार्रवाई
इंदौर जिले का महू बन रहा पूर्णतः स्मार्ट मीटर वाला पहला शहर
किसानों से धोखाधड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जायेगा - मंत्री श्री पटेल
कोरोना वैक्सीनेशन महा-अभियान को अपनी भागीदार से सफल बनायें- राज्य मंत्री श्री यादव
योजना के कार्यस्थलों का करें नियमित निरीक्षण
रोजगार गतिविधियों के सृजन से आत्म-निर्भर बनेगा मध्यप्रदेश- लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव
वैक्सीनेशन कराएं और दूसरो को भी प्रेरित करें : राज्य मंत्री श्री परमार
राज्य मंत्री श्री परमार ने स्कूल शिक्षा विभाग की ऑनलाइन अनुकंपा नियुक्ति प्रबंधन प्रणाली का शुभारंभ किया
राज्य आनंद संस्थान ने किया बच्चों के लिए ऑनलाइन आनंद सभा का आयोजन
वैक्सीन से नहीं घबराए वृद्धाश्रम के वृद्ध
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
गाँव-गाँव जाना है - कोरोना मुक्त बनाना है
वैक्सीनेशन के लिये ग्रामीणों को पीले चावल दिये
कोरोना की रोकथाम के लिये ट्रांसजेंडर्स की अद्भुत पहल
देवास में 102 वर्षीय मिट्ठू बाई ने लगवाया कोरोना का टीका
1