आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

किल कोरोना अभियान-2, घर-घर सर्वे के लिये मैदान में उतरा अमला

 

भोपाल : सोमवार, मई 3, 2021, 20:40 IST

राज्य सरकार कोरोना मरीजों के उपचार के लिये सभी आवश्यक प्रबंध प्राथमिकता के आधार पर कर रही है। उपचार की सभी व्यवस्थाओं को युद्ध-स्तर पर किया जा रहा है। इसी क्रम में प्रदेश में IITT (Identification, Isolation, Testing, Treatment) की रणनीति के तहत कोविड-19 के नियंत्रण के लिये 24 अप्रैल से 9 मई, 2021 तक प्रदेश के समस्त जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में किल कोरोना अभियान संचालित किया जा रहा है। अभियान में संभावित संक्रमित एवं कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को समुदाय से अलग कर संक्रमण की चेन को तोड़ना है, जिससे कोरोना संक्रमण पर प्रभावी ढंग से नियंत्रण पाया जा सकेगा।

जिला कलेक्टर तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में चयनित हॉट स्पॉट, जहाँ कोविड-19 संक्रमण की दर में वृद्धि हो रही हो, में कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिये गठित दल द्वारा घर-घर जाकर बुखार के लक्षण वाले कोरोना के संभावित रोगियों की खोज की जा रही है। विकासखण्ड सर्वे दल गठित कर अभियान संचालित किया जा रहा है। इस दल में एएनएम, एमपीडब्ल्यू, एमएसडब्ल्यू, आशा कार्यकर्ता एवं अन्य सदस्य शामिल हैं। प्रतिदिन दल द्वारा 100 घरों (जिसमें लगभग पाँच सौ की जनसंख्या) का फीवर सर्वे किया जा रहा है। दल के पास पर्याप्त ट्रिपल लेयर मास्क, पल्स ऑक्सीमीटर, थर्मामीटर, सेनेटाइजर इत्यादि संसाधन भी हैं। सर्वेलेंस कार्य के लिये बहु-उद्देश्यीय स्वास्थ्य कार्यकर्ता/स्वास्थ्य पर्यवेक्षक, एएनएम, बीईई, एलएचव्ही एवं अधिकारियों/अन्य विभागों के अधिकारियों की भी सक्रिय भागीदारी है।

सर्वे दल पिछले 10 दिनों के भीतर सर्दी, खाँसी, बुखार एवं कोविड-19 पॉजिटिव व्यक्ति से सम्पर्क, गले में खराश, बदल दर्द, सिर दर्द के साथ बुखार तथा अति मंद लक्षण वाले पीड़ित मरीजों की पहचान कर उपचार के लिये कोविड केयर सेंटर में रेफर करेंगे, जहाँ पर प्रोटोकाल्अनुसार देखभाल की जायेगी। कोविड केयर सेंटर में भर्ती मरीजों के लक्षणों में वृद्धि होने पर उनका कोविड-19 के लिये सेम्पल लेकर जाँच की जायेगी तथा आवश्यकतानुसार जिला कोविड कमाण्ड सेंटर में रेफर किया जायेगा।


के.के. जोशी
Post a Comment