आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

"मन के हारे-हार, मन के जीते-जीत हम मिलकर करें कोरोना पर प्रहार- मंत्री श्री पटेल

 

भोपाल : सोमवार, अप्रैल 12, 2021, 20:54 IST

जिले में कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। पर हमें हार नहीं माननी है, क्योंकि 'मन के हारे-हार और मन के जीते-जीत'' की कहावत अनादि अनंत काल से कसौटी पर खरी उतर रही है। इसलिये अधिकारी-कर्मचारियों, एनजीओ के पदाधिकारी, विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी बिना मन में भय लाये, पूरी क्षमता से मानव मात्र पर आई इस विपत्ति में अपने पदीन दायित्वों के साथ-साथ, सामाजिक दायित्व का भी निर्वहन करते रहें, जिससे हमारा जिला भी कोरोना मुक्त हो सके।

सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण मंत्री श्री प्रेम सिंह पटेल ने सोमवार को बड़वानी में आयोजित बैठक एवं वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से जिले के समस्त अधिकारी-कर्मचारियों, एनजीओ के पदाधिकारियों को सम्बोधित करते हुए यह बातें कहीं। उन्होंने बताया कि राज्य शासन ने कोरोना के मददेनजर उन्हें बड़वानी जिले का प्रभार सौंपा है। इस नाते उनका सभी से आव्हान है कि हमें कोरोना से जारी जंग को हर-हाल में जीतना है। इसके लिये जिस भी संसाधन की आवश्यकता होगी, उसे उपलब्ध कराया जायेगा। आवश्यकता है हमें लोगो को समझाकर, अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण कराने की। इस दौरान उन्होंने सभी अधिकारी-कर्मचारियों द्वारा किये जा रहे प्रयासों की प्रशंसा करते हुए विश्वास व्यक्त किया कि हम कोरोना के खिलाफ जारी जंग को अवश्य जीतेंगे।

कलेक्टर श्री शिवराज सिंह वर्मा ने बताया कि जिले को 264 रेमडेसिविर इंजेक्शन मिल चुके हैं और इसकी सप्लाई अब सतत बनी रहेगी। शासन द्वारा बनाई गई गाइड-लाइन अनुसार गंभीर कोरोना संक्रमित रोगियों को आवश्यकता होने पर यह लगाया जायेगा। जिले में बनाये गये कोरोना केयर सेंटर बड़वानी, जामली एवं खेतिया में उपलब्ध बेड की संख्या एवं वर्तमान में भरे बेड की संख्या से भी अवगत कराते हुए बताया कि आवश्यकता पड़ने पर अन्य विकासखण्डो में कोरोना केयर सेंटर प्रारंभ करने की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है।

मंत्री श्री पटेल ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से समस्त एनजीओ से आव्हान किया कि वे भी अपने स्तर से लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिये प्रोत्साहित करें, जिससे 45 वर्ष से अधिक आयु के शत-प्रतिशत लोग कोरोना वैक्सीन लगवाकर जिले को कोरोना मुक्त बनाने के अभियान में अपना योगदान दे सकें।


सुनीता दुबे
Post a Comment