आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

अग्नि-सुरक्षा संबंधी प्रावधानों का करें सख्ती से पालन - नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह

 

भोपाल : रविवार, फरवरी 28, 2021, 17:28 IST

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने निर्देशित किया है कि प्रशासन द्वारा अग्नि-सुरक्षा संबंधी जो प्रावधान किये गये हैं, उनका सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाये। भूमि विकास नियम-2012 के प्रावधानों में सितम्बर-2020 में संशोधन कर अग्नि-सुरक्षा संबंधी प्रावधानों को और अधिक उपयुक्त बनाया गया है।

अग्नि-सुरक्षा के लिये भवन स्वामियों की जिम्मेदारी 

आयुक्त टाउन एवं कंट्री प्लानिंग श्री अजीत कुमार ने जानकारी दी है कि अग्नि-सुरक्षा के लिये भवन स्वामियों के लिये जिम्मेदारी निर्धारित की गई है। छतों या बेसमेंट में किसी रसोई की अनुमति नहीं होगी। छतों पर ज्वलनशील पदार्थ का भण्डारण नहीं किया जा सकेगा। एफआरपी (Fibre reinforced plastic) का उपयोग करके छत या छज्जे के ऊपर किसी अस्थाई छत की अनुमति नहीं होगी। निर्माण की ज्वलनशील सामग्री जैसे लकड़ी, फॉम पेनलिंग, कालीन आदि का उपयोग मार्ग, गलियारों या सीढ़ियों में नहीं किया जायेगा।

सक्षम प्राधिकारी

अग्नि-सुरक्षा संबंधी प्रावधानों को लागू करवाने के लिये सक्षम प्राधिकारी नगरीय निकाय के आयुक्त अथवा मुख्य नगर पालिका अधिकारी होंगे। नियमों में प्रावधानित सुरक्षा उपाय लागू करवाने एवं ऑडिट रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं करने पर भवन स्वामियों को दी गई एनओसी रद्द करने का अधिकार सक्षम प्राधिकारी को होगा। आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास द्वारा निर्देशित अग्नि-शमन संबंधी सभी प्रावधानों को लागू करने की जिम्मेदारी भी सक्षम प्राधिकारी की होगी।

राष्ट्रीय भवन कोड (एनबीसी) में निर्धारत मानकों के अनुरूप ही गैस बैंक स्थापित किया जाये। वाणिज्यिक एवं अन्य भवनों में मुख्य विद्युत पैनल एवं डी.जी. चेन्ज ओवर और मेन सप्लाई पैनल केबिनेट, क्लीन एजेंट, गैस फायर, सुप्रेशन सिस्टम से संरक्षित होना आवश्यक है। सभी मंजिल की सीढ़ियों और गलियारों में धुएँ के वेंटिलेशन के लिये प्राकृतिक या यांत्रिक व्यवस्था की जाये। राष्ट्रीय भवन संहिता में उल्लिखित भवनों का फायर ऑडिट वर्ष में एक बार किया जायेगा। भवन का स्वामी प्रत्येक वित्तीय वर्ष की 30 जून तक अग्नि-शमन ऑडिट रिपोर्ट प्रस्तुत करेगा।

अग्नि-शमन इंजीनियर

अग्नि-सुरक्षा को कड़ाई से लागू करने और अग्नि-शमन ऑडिट रिपोर्ट तैयार करने के लिये अग्नि-शमन इंजीनियर का प्रावधान किया गया है। अग्नि-शमन इंजीनियर को मान्यता प्राप्त भारतीय या विदेशी विश्वविद्यालय से अग्नि-शमन इंजीनियरिंग अथवा प्रौद्योगिकी में स्नातक के साथ इस क्षेत्र में 3 वर्ष का अनुभव आवश्यक होगा। अग्नि-शमन इंजीनियर सभी प्रकार के भवनों में, जो राष्ट्रीय भवन संहिता भाग-4 के अधीन आते हैं, के फायर सेफ्टी और फायर ऑडिट से संबंधी कार्य के लिये सक्षम होगा।


राजेश पाण्डेय
Post a Comment

आमजन को एक क्लिक पर मिलेगी बेड्स उपलब्धता की जानकारी - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पीपल का पौधा लगाया
अगले तीन दिन में रेमडेसिविर इंजेक्शन का संकट समाप्त हो जायेगा- मुख्यमंत्री श्री चौहान
कोरोना संक्रमण रोकने के लिए जारी रहे जन-जागरूकता अभियान 
श्री आकाश त्रिपाठी बने आयुक्त स्वास्थ्य
आरक्षक श्रीवास्तव पुलिस महानिदेशक प्रशस्ति-पत्र से सम्मानित
कर्मचारी निष्ठा पूर्वक कर्तव्य निर्वहन करें: मंत्री श्री पटेल
कृषि मंत्री श्री पटेल ने वैक्सीन का दूसरा टीका भी लगवाया
सहकारिता मंत्री 13 और 14 अप्रैल को जबलपुर और छिंदवाड़ा प्रवास पर
गांवो में नल से जल के लिए उज्जैन में हो रहे 300 करोड़ रूपये के कार्य
"मन के हारे-हार, मन के जीते-जीत हम मिलकर करें कोरोना पर प्रहार- मंत्री श्री पटेल
अनुमति प्राप्त ऑक्सीजन वाहन एम्बुलेंस के समकक्ष घोषित
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन टीकाकरण सहित
कोविड नियंत्रण में लगी सामाजिक न्याय विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों की ड्यूटी
महाविद्यालयीन परीक्षाएँ समय-सीमा में कराई जायें - उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव
उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने उज्जैन में ऑक्सीजन प्लांट का किया निरीक्षण
बालाघाट-सिवनी का प्रभार मिलते ही एक्शन में आए आयुष मंत्री श्री कावरे
मंत्रीगण करेंगे कोरोना व्यवस्थाओं का अनुश्रवण और पर्यवेक्षण
1