आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.
शंकर व्याख्यानमाला

त्याग और संतोष से बनेंगे स्थितप्रज्ञ - स्वामी तद्रूपानंद

 

भोपाल : रविवार, फरवरी 28, 2021, 19:26 IST

आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास, संस्कृति विभाग द्वारा 29वीं शंकर व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया। इस व्याख्यानमाला में मनन आश्रम, भरूच के संस्थापक आचार्य स्वामी तद्रूपानंद सरस्वती जी का स्थितप्रज्ञ दर्शन विषय पर प्रबोधन प्रसारण हुआ। स्वामीजी ने बताया कि दो महाकाव्य और चार महावाक्य में सम्पूर्ण सनातन दर्शन अभिव्यक्त होता है।

दर्शन की व्याख्या करते हुए स्वामीजी ने स्पष्ट किया कि दर्शन का अर्थ होता है जानना, न कि देखना। स्वामीजी ने कहा कि भगवत गीता के कृष्णार्जुन संवाद में स्थितप्रज्ञ की परिभाषा दी गई है। अर्जुन श्री कृष्ण से स्थितप्रज्ञ व्यक्ति के लक्षण पूछते हैं, जिसका उत्तर देते हुए भगवान कहते हैं कि जब साधक समस्त वासनाओं का त्याग कर देता है और अपने से अपने में संतुष्ट रहता है, तब वह स्थितप्रज्ञ कहा जाता है। स्वामीजी ने बताया कि अनासक्ति और इच्छाओं के त्याग के द्वारा ही मनुष्य दुखों के बंधन से और अज्ञान से मुक्त हो पाता है। ऐसी स्थिति में ही उसे आत्म-स्वरूप को जानने की जिज्ञासा प्रबल होती है। इसके लिए श्रवण, मनन और निदिध्यासन का मार्ग अपनाना चाहिए। जिसने ज्ञानाग्नि में अपनी इच्छाओं को भस्म कर दिया है तथा जो आत्म-स्वरूप में स्थित है, वही स्थितप्रज्ञ है।

स्वामी तद्रूपानंद सरस्वती

पूज्य स्वामी तद्रूपानन्द सरस्वती मनन आश्रम, भरूच के संस्थापक आचार्य हैं। स्वामीजी ने सन 1966 से 1972 तक गुजरात विश्वविद्यालय में मानसशास्त्र विषय का अध्यापन किया। तत्पश्चात् आपने सांदीपनी साधनालय मुंबई में पूज्य स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती एवं स्वामी दयानन्द सरस्वती के सानिध्य में प्रस्थानत्रयी का परंपरागत शास्त्राध्ययन किया। स्वामीजी ने कैलाश आश्रम ऋषिकेश में स्वामी विद्यानंद गिरी एवं स्वामी हरिहरानंद तीर्थ के मार्गदर्शन में शास्त्राभ्यास किया। सन 1982 में पूज्य स्वामी दयानन्द सरस्वती जी ने आपको संन्यास में दीक्षित किया। वर्ष 1987 में स्वामीजी ने भरूच में मनन आश्रम की स्थापना की। उपनिषद, ब्रहमसूत्र, श्रीमदभगवत गीता एवं आचार्य शंकर रचित प्रकरण ग्रन्थों पर स्वामीजी की टीका अंग्रेज़ी, हिन्दी, गुजराती एवं मराठी भाषा में उपलब्ध है। स्वामीजी ने देश-विदेश में अनेक ज्ञानयज्ञ एवं वेदान्त शिविरों के माध्यम से वेदान्त का प्रचार-प्रसार किया है।

आचार्य शंकर सांस्कृतिक एकता न्यास द्वारा आदिगुरु शंकराचार्य और अद्वैत वेदान्त दर्शन के लोकव्यापीकरण के लिए प्रतिमाह इस व्याख्यानमाला का आयोजन किया जाता है। इस व्याख्यान को न्यास के यू-ट्यूब और फेसबुक चैनल पर देखा जा सकता है।


अनुराग उइके
Post a Comment

आमजन को एक क्लिक पर मिलेगी बेड्स उपलब्धता की जानकारी - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पीपल का पौधा लगाया
अगले तीन दिन में रेमडेसिविर इंजेक्शन का संकट समाप्त हो जायेगा- मुख्यमंत्री श्री चौहान
कोरोना संक्रमण रोकने के लिए जारी रहे जन-जागरूकता अभियान 
श्री आकाश त्रिपाठी बने आयुक्त स्वास्थ्य
आरक्षक श्रीवास्तव पुलिस महानिदेशक प्रशस्ति-पत्र से सम्मानित
कर्मचारी निष्ठा पूर्वक कर्तव्य निर्वहन करें: मंत्री श्री पटेल
कृषि मंत्री श्री पटेल ने वैक्सीन का दूसरा टीका भी लगवाया
सहकारिता मंत्री 13 और 14 अप्रैल को जबलपुर और छिंदवाड़ा प्रवास पर
गांवो में नल से जल के लिए उज्जैन में हो रहे 300 करोड़ रूपये के कार्य
"मन के हारे-हार, मन के जीते-जीत हम मिलकर करें कोरोना पर प्रहार- मंत्री श्री पटेल
अनुमति प्राप्त ऑक्सीजन वाहन एम्बुलेंस के समकक्ष घोषित
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन टीकाकरण सहित
कोविड नियंत्रण में लगी सामाजिक न्याय विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों की ड्यूटी
महाविद्यालयीन परीक्षाएँ समय-सीमा में कराई जायें - उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव
उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने उज्जैन में ऑक्सीजन प्लांट का किया निरीक्षण
बालाघाट-सिवनी का प्रभार मिलते ही एक्शन में आए आयुष मंत्री श्री कावरे
मंत्रीगण करेंगे कोरोना व्यवस्थाओं का अनुश्रवण और पर्यवेक्षण
1