आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

खजुराहो नृत्य समारोह में ई-बाइक टूर और धुबेला पर्यटन का रोमांच

 

भोपाल : मंगलवार, फरवरी 23, 2021, 16:56 IST

विश्व धरोहर 'खजुराहो' में आयोजित '47वें खजुराहो नृत्य समारोह' में सांस्कृतिक नृत्य संध्या से मन पुलकित होने के बाद अगली सुबह पर्यटकों के लिए साहसिक गतिविधियों के रोमांच से भरी होती है। संस्कृति और पर्यटन विभाग द्वारा कलाप्रेमियो और पर्यटकों के लिए आयोजित ई-बाइक टूर और धुबेला बस यात्रा आकर्षण का केंद्र है। निःशुल्क धुबेला बस यात्रा में महाराजा छत्रसाल की समाधि, धुबेला संग्रहालय और मस्तानी महल देखने का लुफ्त उठा रहे हैं, वहीं ई-बाइक टूर से स्थानीय मंदिरो के वैभव, वास्तुकला और संस्कृति से पयर्टक अभिभूत हो रहे है।

प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति श्री शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि देश और विदेश के विभिन्न भागों से आए पर्यटकों ने प्राचीन मंदिरों के शहर खजुराहो के सुंदर परिदृश्य और वास्तुकला को ई-बाइक टूर के माध्यम से जाना। पश्चिमी समूह के मंदिरों से पूर्वी समूह के मंदिरों तक की यात्रा के दौरान स्थानीय इतिहास और मंदिर निर्माण की विशिष्ठ शैली के बारे में जानकारी देने के लिए गाइड की सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है। पर्यटकों ने स्थानीय जवारी मंदिर, वामन मंदिर, दुल्हादेव मंदिर, पुराने खजुराहो के मंदिर शिल्प और इतिहास को समझा एवं स्थानीय संस्कृति और कला से भी परिचित हुए।

उल्लेखनीय है कि मस्तानी महल का निर्माण महाराजा छत्रसाल ने लगभग 1696 ई. में अप्रतिम सुंदरी, नृत्यांगना मस्तानी के लिए करवाया था। वाजीराव पेशवा बंगश पर विजय के पश्चात यहाँ आए और मस्तानी से विवाह किया। धुबेला महल वर्तमान में संग्रहालय में परिवर्तित है, जहाँ कल्चुरी एवं गुप्त काल के शिलालेख, ताम्र पत्र, शिव लिंग एवं उत्कीर्ण चित्र देखने को मिलते हैं। महाराजा छत्रसाल द्वारा इसका निर्माण 17वीं और 18वीं शताब्दी के बीच पतली ईटों, रेट और चूने के मिश्रण से करवाया गया था। महाराजा छत्रसाल की समाधि 18 वीं शताब्दी में निर्मित एक अष्टकोणीय संरचना है। समाधि परिसर के बीच में एक प्रदक्षिणा पथ भी स्थित है। 

खजुराहो में भारतीय शास्त्रीय नृत्य परंपरा की विधाओं पर आधारित 47वां खजुराहो नृत्य समारोह 20 से 26 फरवरी तक आयोजित किया जा रहा हैं। 44 वर्ष बाद यह समारोह एक बार फिर पश्चिमी मंदिर समूह के अंदर मंदिर प्रांगण में आयोजित हो रहा है। इससे दर्शकों को एक बार फिर मंदिर की आभा के बीच कलाकारों के नृत्य देखने का अवसर मिला हैं।


अनुराग उइके
Post a Comment

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पीपल का पौधा रोपा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दुर्घटना में 6 युवकों के निधन पर किया शोक व्यक्त
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कन्नौद जाकर स्व. श्री शर्मा को श्रद्धांजलि अर्पित की
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा श्रीमती प्रमिला वाजपेयी के निधन शोक व्यक्त
भाप्रसे के दो अधिकारियों की नवीन पदस्थापना
शासन के आदेश से ही लगा सकेंगे नाइट कर्फ्यू : डॉ. राजौरा
सभी वर्गों के कल्याण के लिए कृत-संकल्पित है सरकार : डॉ. मिश्रा
पुरानी जेल परिसर एवं भेल दशहरा मैदान अस्थाई जेल घोषित
जिलों में टेलेंट सर्च डीएसओ की जिम्मेदारी, कोई एक्सक्यूस नहीं चलेगा
वन विहार राष्ट्रीय उद्यान के शाकाहारी वन्य प्राणियों की होगी गणना
पहले बड़े बकायादारों से करें बिजली बिल की वसूली - ऊर्जा मंत्री श्री तोमर
नगरीय निकायों में आउटसोर्स कर्मचारियों की भर्ती के लिये बनाएँ गाइडलाइन
सर्विस इम्प्रूवमेंट प्लान पर कार्यशाला आयोजित
एक छत के नीचे एक हजार युवाओं को मिल रहा है नि:शुल्क प्रशिक्षण
लिफ्ट उपकरणों के संचालन, संधारण एवं निरीक्षण के लिये समिति गठित
ग्रामीण क्षेत्र की नल-जल योजना का कार्य शीघ्रता से करें : मंत्री श्री सिसोदिया
ई-उपार्जन पोर्टल पर 21.06 लाख किसानों ने कराया पंजीयन
खजुराहो नृत्य समारोह का चौथा दिन ओडिसी युगल नृत्य से शुरू हुआ
खजुराहो नृत्य समारोह में ई-बाइक टूर और धुबेला पर्यटन का रोमांच
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
जन-भागीदारी समितियों का नवीनीकरण प्रतिवर्ष कराया जायेगा : मंत्री डॉ. यादव
रोजगार की संभावनाएँ बढ़ाने उच्च शिक्षा में किये जा रहे नवाचार : मंत्री डॉ. यादव
महाराष्ट्र से आने वाले व्यक्तियों की होगी थर्मल स्केनिंग
प्रदेश में अनुसूचित जाति वर्ग के 37 छात्रावास भवनों का निर्माण कार्य पूर्ण
1