आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

खजुराहो नृत्य समारोह में ई-बाइक टूर और धुबेला पर्यटन का रोमांच

 

भोपाल : मंगलवार, फरवरी 23, 2021, 16:56 IST

विश्व धरोहर 'खजुराहो' में आयोजित '47वें खजुराहो नृत्य समारोह' में सांस्कृतिक नृत्य संध्या से मन पुलकित होने के बाद अगली सुबह पर्यटकों के लिए साहसिक गतिविधियों के रोमांच से भरी होती है। संस्कृति और पर्यटन विभाग द्वारा कलाप्रेमियो और पर्यटकों के लिए आयोजित ई-बाइक टूर और धुबेला बस यात्रा आकर्षण का केंद्र है। निःशुल्क धुबेला बस यात्रा में महाराजा छत्रसाल की समाधि, धुबेला संग्रहालय और मस्तानी महल देखने का लुफ्त उठा रहे हैं, वहीं ई-बाइक टूर से स्थानीय मंदिरो के वैभव, वास्तुकला और संस्कृति से पयर्टक अभिभूत हो रहे है।

प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति श्री शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि देश और विदेश के विभिन्न भागों से आए पर्यटकों ने प्राचीन मंदिरों के शहर खजुराहो के सुंदर परिदृश्य और वास्तुकला को ई-बाइक टूर के माध्यम से जाना। पश्चिमी समूह के मंदिरों से पूर्वी समूह के मंदिरों तक की यात्रा के दौरान स्थानीय इतिहास और मंदिर निर्माण की विशिष्ठ शैली के बारे में जानकारी देने के लिए गाइड की सुविधा भी उपलब्ध करवाई गई है। पर्यटकों ने स्थानीय जवारी मंदिर, वामन मंदिर, दुल्हादेव मंदिर, पुराने खजुराहो के मंदिर शिल्प और इतिहास को समझा एवं स्थानीय संस्कृति और कला से भी परिचित हुए।

उल्लेखनीय है कि मस्तानी महल का निर्माण महाराजा छत्रसाल ने लगभग 1696 ई. में अप्रतिम सुंदरी, नृत्यांगना मस्तानी के लिए करवाया था। वाजीराव पेशवा बंगश पर विजय के पश्चात यहाँ आए और मस्तानी से विवाह किया। धुबेला महल वर्तमान में संग्रहालय में परिवर्तित है, जहाँ कल्चुरी एवं गुप्त काल के शिलालेख, ताम्र पत्र, शिव लिंग एवं उत्कीर्ण चित्र देखने को मिलते हैं। महाराजा छत्रसाल द्वारा इसका निर्माण 17वीं और 18वीं शताब्दी के बीच पतली ईटों, रेट और चूने के मिश्रण से करवाया गया था। महाराजा छत्रसाल की समाधि 18 वीं शताब्दी में निर्मित एक अष्टकोणीय संरचना है। समाधि परिसर के बीच में एक प्रदक्षिणा पथ भी स्थित है। 

खजुराहो में भारतीय शास्त्रीय नृत्य परंपरा की विधाओं पर आधारित 47वां खजुराहो नृत्य समारोह 20 से 26 फरवरी तक आयोजित किया जा रहा हैं। 44 वर्ष बाद यह समारोह एक बार फिर पश्चिमी मंदिर समूह के अंदर मंदिर प्रांगण में आयोजित हो रहा है। इससे दर्शकों को एक बार फिर मंदिर की आभा के बीच कलाकारों के नृत्य देखने का अवसर मिला हैं।


अनुराग उइके
Post a Comment

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद 6-7 मार्च को प्रदेश के प्रवास पर
राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविन्द 7 मार्च को दमोह के सिंग्रामपुर में जनजातीय सम्मेलन में भाग लेंगे
मुख्यमंत्री श्री चौहान को मिलीं जन्म वर्षगाँठ पर बधाईयाँ
भोपाल का वन विहार है अनूठा : मुख्यमंत्री श्री चौहान
नारी तू नारायणी
कोरोना के प्रकरणों में कमी नहीं आई तो भोपाल-इंदौर में 8 मार्च से रात्रि कर्फ्यू - मुख्यमंत्री श्री चौहान
शिक्षा का उद्देश्य है ज्ञान, कौशल और नागरिकता के संस्कार देना : मुख्यमंत्री श्री चौहान
पेड़ लगाना पृथ्वी को बचाने का अभियान : मुख्यमंत्री श्री चौहान
श्री सुरेन्द्र सिंह राजपूत होंगे भू-संपदा विनियामक प्राधिकरण के सदस्य
ऊर्जा मंत्री श्री तोमर करेंगे विभिन्न वार्डों का साइकिल से भ्रमण
केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर का श्री पटेल द्वारा आभार व्यक्त
मुख्यमंत्री को पारिजात का पौधा किया भेंट, कदम और तुलसी के पौधे लगाये
सहकारिता एवं लोक-सेवा प्रबंधन मंत्री डॉ. भदौरिया ने लगाया आम का पौधा
निर्माण कार्य की गुणवत्ता से समझौता नहीं होगा- लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव
मुख्यमंत्री द्वारा भेंट पौधा राज्यमंत्री श्री परमार ने रोपा
मुख्यमंत्री श्री चौहान के जन्म-दिन पर खाद्य मंत्री श्री सिंह ने लगाया नीम का पौधा
जलसंसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने रोपा पौधा
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी 6 मार्च को रायसेन जिले के दौरे पर
नरेला विधानसभा में आज भी चला विशेष सफाई अभियान
फूड प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने के लिये उद्यमी आगे आएँ, सरकार हर संभव मदद करेगी : केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर
राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार श्री कुशवाह ने ग्वालियर में 178 लाख के 21 विकास कार्यों का भूमि-पूजन और लोकार्पण किया
मंत्री श्री सिंह और राज्यमंत्री श्री कांवरे "मिनिस्टर इन वेटिंग" नामित
शहीद लक्ष्मीकांत द्विवेदी के परिवार को मध्यप्रदेश सरकार एक करोड़ रूपये, एक मकान तथा परिवार के एक सदस्य को नौकरी देगी
राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री सिंह 6 मार्च को करेंगे कलेक्टर्स से चर्चा
पशुपालन मंत्री श्री पटेल ने वृद्धाश्रम में मनाया सी.एम. का जन्म-दिन
1