आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

मार्च में कैम्प लगाकर करें शेष दिव्यांगजनों की पहचान - आयुक्त श्री संदीप रजक

 

भोपाल : गुरूवार, फरवरी 4, 2021, 17:59 IST

 आयुक्त निःशक्तजन कल्याण श्री संदीप रजक ने कहा है कि सभी दिव्यांगजनों की पहचान के लिये सतना जिले में समग्र विस्तार वाले क्षेत्रों को 9 क्लस्टर में बाँटकर मार्च महीने में लगातार कैम्प आयोजित करें। इन कैम्पों में निर्धारित 21 प्रकार की निःशक्तता वाले दिव्यांगजनों को चिन्हांकित कर उन्हें यूडीआईडी कार्ड उपलब्ध करायें। श्री रजक ने यह बात सतना में बुधवार को जिला अधिकारियों की एडवोकेसी बैठक को संबोधित करते हुए कही।

आयुक्त निःशक्तजन ने बताया कि अभी जिले में 20 हजार 425 दिव्यांग पंजीकृत हैं। इन्हें कल्याणकारी योजनाओं और कार्यक्रमों का लाभ मिल रहा है। सर्वे उपरांत यह संख्या बढ़ भी सकती है। उन्होंने कहा कि किसी भी दिव्यांगजन के लिये यूडीआईडी कार्ड उसके आधार कार्ड की तरह ही महत्वपूर्ण है। जिले में 30 हजार 931 यूडीआईडी के आवेदनों में 15 हजार 400 कार्ड दिये गये हैं। शेष रिजेक्ट आवेदनों को 9 समग्र विस्तार अधिकारियों में बराबर बांटकर परीक्षण करायें। श्री रजक ने कहा कि सतना जिले में दिव्यांगजनों के यूडीआईडी कार्ड बनाने में अच्छा काम हुआ है। निःशक्तजन की योजनाओं एवं दिव्यांगजनों को सुविधाओं के बारे में सभी विभागों के अधिकारी पूरी तरह अवगत रहें और सम्मिलित प्रयास से दिव्यांगजनों को सेवाओं, सुविधाओं और शासकीय योजनाओं का लाभ दिलायें।

आयुक्त निःशक्तजन श्री रजक ने कहा कि सभी विभाग दिव्यांगजनों के लिये विभागीय सेवाओं, योजनाओं में दी जा रही छूट और विशेष रियायती सुविधाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार भी करें। बैठक में बताया गया कि कोविड-19 संक्रमण काल में दिव्यांगजनों के लिये अनेक गतिविधियाँ और हस्तक्षेप संचालित कर उन्हें राहत और सुविधाएँ दी गई हैं। इस दौरान 15 हजार निःशक्तजन प्रमाण-पत्र दिये गये हैं। पेंशन योजनाओं में दिव्यांगजनों का शत-प्रतिशत सत्यापन और एलिम्को के सहयोग से 374 हितग्राहियों को सहायक उपकरण प्रदान किये गये हैं और निःशक्तजन चिन्हांकन-मेडिकल कैम्प के माध्यम से 1400 दिव्यांगजनों की पहचान भी की गई है।

दिव्यांगजनों को यूडीआईडी कार्ड दिखाने पर जिले में प्राइवेट बसों के किराये में 50 प्रतिशत की छूट 5 सीटों का आरक्षण भी रखा जा रहा है। श्री रजक ने कहा कि मध्यप्रदेश पहला राज्य है, जिसने यूडीआईडी कार्ड के माध्यम से दिव्यांगजनों को सीधे लाभ देना शुरू किया है। जब तक सभी दिव्यांगजनों के यूडीआईडी कार्ड नहीं बन जाते, तब तक निःशक्तता प्रमाण-पत्र के आधार पर भी सेवाएँ दी जायें। उन्होंने नगर निगम एवं विभागों के अधिकारियों से कहा कि शासकीय, अशासकीय कार्यालय, सार्वजनिक स्थल, बाजार, मॉल, सिनेमाघर में दिव्यांगजनों के सुगम आवागमन के लिये रैम्प अथवा लिफ्ट और प्रसाधन की सुविधा सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होंने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को दिव्यांगजनों के लिये हेल्पलाइन सेवा के लिये शहर के प्रमुख थाने में महिला डेस्क के साथ दिव्यांग डेस्क भी संचालित करने का सुझाव दिया।


सुनीता दुबे
Post a Comment

कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए प्रभावी कार्य-योजना विकसित की जाएगी - मुख्यमंत्री श्री चौहान
भिलाई, राउरकेला और देवरी से 450 एम.टी. ऑक्सीजन की आपूर्ति शीघ्र
प्रदेश में प्रारंभ हुए 94 कोविड केयर सेंटर
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुख्यमंत्री निवास में मौलश्री का पौधा रोपा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया सिख गुरू अर्जुन देव जी को नमन
वरिष्ठ पत्रकार श्री इंटोरिया के निधन पर परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने दी श्रद्धांजलि
आरक्षक श्री धुर्वे के निधन पर परिवहन मंत्री श्री राजपूत ने दी श्रद्धांजलि
ऐसे कार्य करें कि कार्मिक और प्रबंधन के बीच विश्वास की भावना पैदा हो
हरदा में 26 अप्रैल तक रहेगा कोरोना कर्फ्यू - मंत्री श्री पटेल
ग्रामीण आबादी की जलापूर्ति के लिए सागर में जारी है 584 करोड़ रूपये के कार्य
खाद्य मंत्री श्री सिंह ने अनूपपुर में की कोरोना व्यवस्थाओं की समीक्षा
अब तक 69 लाख 69 हजार नागरिकों का हुआ वैक्सीनेशन
आर्सेनिक एल्ब-30 का वितरण करायेगा आयुष विभाग
एम्स में कोविड मरीजों के लिये बढ़ेंगे बेड - मंत्री श्री सारंग
प्रभारी मंत्री श्री डंग ने झाबुआ में की कोरोना व्यवस्थाओं की समीक्षा
1