आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

खाद्यान्न उपार्जन से वितरण तक प्रदेश रहा अव्वल

कोविड भी नहीं रोक सका खाद्यान्न वितरण का ट्रक 

भोपाल : सोमवार, जनवरी 25, 2021, 16:38 IST

कोविड-19 के संक्रमण की विषम परिस्थितियों में भी मध्यप्रदेश में गरीबों को खाद्यान्न वितरण का काम रूका नहीं बल्कि और भी ज्यादा मुस्तैदी से हुआ। यह संभव हुआ मध्यप्रदेश सरकार द्वारा ठोस कारगर रणनीति तैयार कर उसे अमल में लाने से। रणनीति के जरिये राष्ट्रीय खाद्यान्न सुरक्षा अधिनियम के माध्यम से हो या वन नेशन-वन राशन कार्ड द्वारा प्रदेश में और प्रदेश के बाहर के राज्यों में कार्यरत अथवा निवासरत प्रदेश के उपभोक्ताओं को राशन पहुँचाया गया।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने अन्न उत्सव के रूप में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत 37 लाख वंचित हितग्राहियों को पात्रता पर्ची के साथ खाद्यान्न सुरक्षा प्रदान की। प्रदेश के 52 जिलों में एक साथ प्रारंभ हुए अन्न उत्सव की गंभीरता इस बात से पता लगती है कि कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यमंत्री ने स्वयं एवं अपने मंत्रीगणों के माध्यम से हितग्राहियों को खाद्यान्न पर्ची देकर किया।

हितग्राहियों को खाद्यान्न सामग्री

हितग्राहियों को राष्ट्रीय खाद्यान्न सुरक्षा अधिनियम के तहत प्रति सदस्य एक रूपये प्रति किलो की दर से 5 किलो खाद्यान्न वितरित किया गया। इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत प्रति सदस्य 5 किलो खाद्यान्न एवं एक किलो दाल प्रति परिवार नि:शुल्क नवंबर तक वितरित की गई। प्रति परिवार एक रूपये प्रति किलो की दर से एक रूपये किलो आयोडाईज्ड नमक एवं कलेक्टर द्वारा निर्धारित दर पर प्रति परिवार डेढ़ लीटर केरोसीन का वितरण भी किया गया।

अनाथाश्रम, वृद्धाश्रम सहित अनेक नए हितग्राही

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम-2013 के अंतर्गत प्रदेश की 75 प्रतिशत आबादी को ही लाभान्वित करने की सीमा निर्धारित होने के कारण 25 श्रेणी के नवीन सत्यापित हितग्राही जैसे फेरी वाले, हम्माल, तुलावटी, केश-शिल्पी, बीपीएल कार्ड धारक, बीड़ी श्रमिक, साइकिल रिक्शा और हाथ ठेला चालक राशन से वंचित रहे हैं। गरीब परिवारों को खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए 37 लाख नवीन हितग्राहियों को इस अभियान में जोड़ा गया। हितग्राहियों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना में 5 किलो प्रति सदस्य खाद्यान्न एवं एक रूपये प्रति किलो दाल प्रति परिवार अप्रैल से माह नवंबर-2020 तक नि:शुल्क वितरित की गई।

आत्म-निर्भर भारत - माईग्रेंट लेबर को खाद्यान्न सुरक्षा

राज्य शासन ने आत्म-निर्भर भारत अभियान के अंतर्गत कोविड संक्रमण काल में लॉकडाउन के दौरान खाद्यान्न सुरक्षा के तहत माईग्रेंट लेबर के एक लाख 9 हजार परिवारों के एक लाख 96 हजार सदस्यों को माह मई एवं जून-2020 में 5 किलोग्राम खाद्यान्न प्रति सदस्य एवं प्रति परिवार एक किलोग्राम दाल का नि:शुल्क वितरण किया। इसमें एसडीआरएफ की मद से कुल करीब 31 हजार मीट्रिक टन खाद्यान्न एवं 137 मीट्रिक टन नमक नि:शुल्क प्रदाय कराया गया।

 राज्य एवं राष्ट्रीय योजनाओं में वितरित खाद्यान्न

राज्य सरकार द्वारा 89 आदिवासी विकासखण्डों के पात्र परिवारों को डबल फोर्टिफाइट एवं शेष क्षेत्र के पात्र परिवारों को एक रूपये प्रति किलो प्रति परिवार की दर से आयोडाइज्ड नमक का वितरण कराया गया है। अन्त्योदय अन्न योजना में लगभग 16 लाख अति गरीब परिवारों को एक किलो शक्कर 20 रूपये प्रति किलो की दर से प्रतिमाह दी जा रही है।

भारत सरकार द्वारा गरीब परिवारों के लिए प्रदेश को 2 रूपये प्रति किलो गेहूँ, 3 रूपये किलो की दर से चावल आवंटित किया गया। इसमें गेहूँ पर एक रूपये किलो एवं चावल पर 2 रूपये किलो राज्य सरकार द्वारा अलग से अनुदान दिया जाकर एक रूपये किलो की दर से खाद्यान्न वितरित किया गया है।

कोविड में पीजीकेवाय के अंतर्गत खाद्यान्न वितरित

कोविड संक्रमण में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम-2013 के अंतर्गत 5 करोड़ 44 लाख हितग्राहियों को केन्द्र एवं राज्य शासन की इन हितकारी योजनाओं से प्रतिमाह दस किलो खाद्यान्न के साथ प्रति परिवार एक किलो दाल भी नवंबर-2020 तक नि:शुल्क वितरित की गई। योजना के अंतर्गत 2 लाख 72 हजार मीट्रिक टन खाद्यान्न एवं 11 हजार 600 मीट्रिक टन दाल का आवंटन प्रतिमाह वितरण के लिए दिया गया।

धान उपार्जन में बनाया नया रिकॉर्ड

परिस्थितियाँ कोई भी रही हों, मध्यप्रदेश में धान का रिकॉर्ड उपार्जन 37 लाख 36 हजार मीट्रिक टन किया गया है। विगत वर्ष यह मात्रा 25 लाख मीट्रिक टन थी। इस वर्ष लगभग 7 हजार करोड़ की धान खरीदी गई, जिसमें से 5 हजार करोड़ से ज्यादा राशि किसानों के खातों में अंतरित कर दी गई है।

619 करोड़ रूपये का किसानों का भुगतान

खरीफ उपज की खरीदी के बदले किसानों को ई-पेमेन्ट से अभी तक 619 करोड़ रूपये का भुगतान किया जा गया है। उपज खरीदी के लिये 1552 उपार्जन केन्द्र स्थापित किये गये। इनमें 1,419 केन्द्रों पर धान की और 133 केन्द्रों पर बाजरे एवं ज्वार की खरीदी की गई है।

7 लाख से अधिक किसानों के पंजीयन का प्रमाणीकरण

खरीफ फसल के विक्रय के लिए 7 लाख 81 हजार 168 किसानों ने पंजीयन कराया था। इनमें से 7 लाख 72 हजार 593 किसानों से उनकी उपज निर्धारित मूल्य पर खरीदी गई। पंजीकृत किसानों में से धान के लिए 7 लाख 18 हजार 541, ज्वार के लिए 14 हजार 65 एवं बाजरे के लिए 39 हजार 987 किसानों के पंजीयन का प्रमाणीकरण किया गया।

5 लाख 67 हजार मी.ट. से अधिक उपज का परिवहन

प्रदेश में अभी तक खरीदी केन्द्रों से गोदाम तक 5 लाख 67 हजार 249 मीट्रिक टन उपज का सुरक्षित परिवहन किया जा चुका है। इसमें 3 लाख 89 हजार 445 मीट्रिक टन धान, एक लाख 77 हजार 804 मीट्रिक टन बाजरा एवं ज्वार का परिवहन कर सुरक्षित गोदाम तक पहुँचाया गया।


मुकेश दुबे
Post a Comment

बजट में कोई नया कर नहीं : मुख्यमंत्री श्री चौहान
2021-22 का बजट जनता का बजट है : मुख्यमंत्री श्री चौहान
वर्ष 2021-22 का बजट प्रगति पथ पर ले जाना वाला बजट
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्व. श्री नंदकुमार सिंह चौहान की स्मृति में पौधा रोपा
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान के निधन पर शोक व्यक्त
वित्त मंत्री श्री देवड़ा ने श्री नन्दकुमार सिंह चौहान के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया
कर्मठ जन-प्रतिनिधि और मध्यप्रदेश की माटी के सच्चे सपूत थे श्री नन्दकुमार सिंह चौहान
आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण पर केंद्रित है बजट
बजट में किये गये प्रावधानों से वनवासियों की बढ़ेगी आय : वन मंत्री कुंवर शाह
वनमंत्री श्री शाह द्वारा सांसद श्री नंदकुमार सिंह चौहान के निधन पर शोक व्यक्त
मंत्री श्री राजवर्धन सिंह द्वारा शोक व्यक्त किया
ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने सांसद श्री चौहान के निधन पर शोक व्यक्त किया
बजट प्रावधानों से होगा बिजली क्षेत्र में सुधार - ऊर्जा मंत्री श्री तोमर
नंदू भैया ने समाज के लिए जीवन समर्पित किया : मंत्री श्री पटेल
बीमा पोर्टल 10 मार्च तक खुला रहेगा : मंत्री श्री पटेल
चने की खरीद के लिए पंजीयन अब पाँच मार्च तक
कृषि मंत्री श्री पटेल के प्रयासों से हरदा और खिरकिया को मिली सौगात
किसानों को आत्म-निर्भर बनाएगा बजट - मंत्री श्री पटेल
रबी उपार्जन के लिए किसानों का पंजीयन अब 5 मार्च तक
डॉ. अरविन्द भदौरिया ने सांसद श्री चौहान के निधन पर शोक व्यक्त किया
श्री नंदकुमार सिंह चौहान मृदुभाषी और जनप्रिय राजनेता थे: राज्यमंत्री श्री यादव
प्रदेश का बजट आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश की अवधारणा को मूर्तरूप देने वाला है : राज्यमंत्री श्री यादव
बजट में किये प्रावधानों से होगा नगरों का सर्वांगीण विकास-नगरीय विकास मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह
नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह ने सांसद श्री चौहान के निधन पर शोक व्यक्त किया
लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव की पहल पर सागर कोमिली 161 करोड़ रूपये की सौगात
लोकनिर्माण मंत्री श्री भार्गव द्वारा श्री चौहान के निधन पर शोक व्यक्त
समाज के हर वर्ग का बजट : लोक निर्माण राज्यमंत्री श्री धाकड़
प्रदेश के विकास में प्रतिबद्धता दर्शाने वाला बजट : लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव
गरीबों, किसानों और विद्यार्थियों के लिए समर्पित बजट- राज्य मंत्री श्री परमार
राज्य मंत्री श्री परमार ने सांसद श्री चौहान के निधन पर शोक व्यक्त किया
पंचायत मंत्री श्री सिसोदिया द्वारा श्री नंदकुमार सिंह चौहान के निधन पर दु:ख व्यक्त
सर्वश्रेष्ठ और मध्यप्रदेश का सर्वांगीण विकास करने वाला बजट - मंत्री सुश्री ठाकुर
मंत्री सुश्री ठाकुर ने सांसद श्री चौहान के निधन पर शोक व्यक्त किया
जल संसाधन मंत्री जी सिलावट बुधवार को बुरहानपुर जाएंगे
सिंचाई सुविधाओं में वृद्धि से किसानों को उत्पादन दोगुना करने में मदद मिलेगी : जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट
सांसद श्री चौहान राजनीति में संत हृदय वाले अदभुत व्यक्ति थे: जलसंसाधन मंत्री श्री सिलावट
बजट में स्वास्थ्य और मूलभूत सुविधाओं पर पर्याप्त ध्यान रखा गया: मंत्री डॉ. चौधरी
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करने वाला मध्यप्रदेश पहला राज्य होगा- उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव
संतुलित और परिपूर्ण बजट : चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सारंग
1 2