आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

बाँस मिशन से मिल रहा है लोगों को रोजगार

 

भोपाल : रविवार, जनवरी 24, 2021, 18:09 IST

राज्य बाँस मिशन द्वारा बालाघाट जिले के आदिवासी बहुल बैहर परिक्षेत्र में संचालित सामान्य सुविधा केन्द्र के माध्यम से लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। बाँस शिल्पी राजू बंजारा अपने समूह के साथ जुड़े कर लाभ कमा रहे हैं, वहीं अन्य बाँस शिल्पियों और आदिवासियों को प्रशिक्षित कर उनकी आर्थिक समृद्धि में अहम भूमिका भी निभा रहे हैं। इन शिल्पियों द्वारा निर्मित उत्पादों का विक्रय प्रदेश के साथ ही देश भर में हो रहा है।

बैहर में सामान्य सुविधा केन्द्र (सीएफसी) की स्थापना 30 साल पहले कुटीर उद्योग के रूप में हुई थी। तब सूमघार रस्सी और बाँस कोशा बाड़ी के लिये बाँस की चटाई बनाई जाती थी। इसके लिये उपयुक्त घास की कमी के कारण इसे वर्ष 1995-96 में बंद करना पड़ा।

वन विभाग एवं राज्य बाँस मिशन द्वारा पाँच साल पहले 2016 में इस उद्योग को पुन: नया स्वरूप देकर चालू कराया गया। इस सामान्य सुविधा केन्द्र में बाँस आधारित मशीनें उपलब्ध हैं। यहाँ कच्चे माल एवं निर्मित बाँस उत्पादों के लिये बाजार भी उपलब्ध कराया जा रहा है।

बाँस शिल्पी राजू बंजारा ने बाँस से निर्मित सामग्री फर्नीचर, टेबल सेट कुर्सी, सजावट के सामान आदि का प्रशिक्षण लिया गया। प्रशिक्षण के बाद उन्होंने वनांचल स्व-सहायता समूह गठित कर बाँस शिल्प की विभिन्न सामग्री का निर्माण शुरू किया। वनांचल स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित उत्पादों को प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों के मेलों में प्रदर्शित किया जाएगा।

राजू बंजारा द्वारा तकरीबन 50 लोगों को बाँस शिल्प कला का प्रशिक्षण दिया। इससे 100 से अधिक परिवारों को रोजगार मिला है। इस प्रकार से यह वन समितियों की आमदनी का एक अच्छा जरिया बन चुका है। स्व-सहायता समूह में बाँस भिर्रे की गुणवत्ता के तहत 50 हजार रुपये प्रति भिर्रा का भुगतान किया जा रहा है।

सामान्य सुविधा केन्द्र में बाँस आधारित आधुनिक मशीन जैसे लेथ मशीन, सेंडर मशीन, नॉट रिमूवल मशीन उपलब्ध हैं। इसके अलावा न्यूमेटिक नेल मशीन, वैक्यूम प्रेशर एण्ड इम्प्रेगनेशर और क्रांस कर मशीनों को निकट भविष्य में खरीदा जाएगा।

सामान्य सुविधा केन्द्र बैहर में बाँस आधारित शिल्प उद्योग में लोगों के लिये अधिक रोजगार के अवसर सृजित होंगे और बाँस उत्पादों की गुणवत्ता से भी बढ़ेगी।

(सफलता की कहानी)


ऋषभ जैन
Post a Comment

प्रदेश में कोरोना संबंधी सभी सावधानियाँ बरती जाये
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लगाया सीता अशोक का पौधा
सड़क दुर्घटनाओं में कमी के लिये सशक्त यातायात प्रबंधन आवश्यक-एडीजी श्री सागर
10 किलोवाट तक के उपभोक्ताओं को ईमेल, व्हाट्सएप एवं एसएमएस से मिलेंगे बिजली बिल
27 एवं 28 फरवरी को बिजली बिल भुगतान केन्द्र खुलेंगे
नरवाई से बनेगा कोयला, पायलेट प्रोजेक्ट होशंगाबाद में - मंत्री श्री पटेल
"प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि" आजाद भारत में सबसे बड़ा उपहार - मंत्री श्री पटेल
अमरकंटक में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट और सीवर लाइन का कार्य अंतिम चरण में
लिफ्ट संबंधी सुरक्षा प्रावधानों का करें कड़ाई से पालन : नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह
युवाओं को प्रदेश में ही मिलेगा रोजगार : लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव
शिक्षा में प्रथम चिंतन राष्ट्रहित में हो : राज्य मंत्री श्री परमार
खजुराहो नृत्य समारोह में शास्त्रीय नृत्यों की प्रस्तुतियों ने समा बाँधा
मंत्री सुश्री ऊषा ठाकुर का दौरा कार्यक्रम
कला और हुनर के अदभुत संगम से कला प्रेमियों और पर्यटकों का सीधा संवाद
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
मानसून के पूर्व सभी भवनों के प्लिंथ लेवल को पूरा करें
एमएमएमवीवाय के तहत पॉलीटेक्निक के छात्रों के लिए भी बनेगी नीति
महिला बाल विकास विभाग मैदानी अधिकारीयों-कर्मचारियों को करेगा प्रोत्साहित
अब प्रसूति के लिये नहीं जाना पड़ता जिला अस्पताल
ग्रामीणों ने बनाई गौ-शाला, फसल नुकसान और सड़क दुर्घटना घटी
1