आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

मुख्यमंत्री श्री चौहान की केन्द्रीय भूतल परिवहन मंत्री श्री नितिन गड़करी से मुलाकात

ग्वालियर-चम्बल एक्सप्रेस-वे को अटल एक्सप्रेस-वे नाम दिये जाने का प्रस्ताव
प्रदेश में नये एमएसएमई क्लस्टर विकसित करने की मांग
 

भोपाल : सोमवार, जनवरी 18, 2021, 21:55 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने नई दिल्ली में केन्द्रीय भूतल परिवहन एवं सूक्ष्म एवं लघु उद्योग मंत्री श्री नितिन गड़करी से उनके निवास पर मुलाकात कर ग्वालियर-चम्बल क्षेत्र में चम्बल एक्सप्रेस-वे को अटल एक्सप्रेस-वे का नाम दिये जाने का प्रस्ताव किया। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश सरकार ने इस कार्य के लिए 1500 हेक्टेयर की जमीन चिन्हित कर उपलब्ध करवा दी है। साथ ही फारेस्ट की जमीन की उपलब्धता भी सुनिश्चित कर दी है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्री से अनुरोध किया कि प्रस्तावित एक्सप्रेस-वे का डीपीआर बन कर एलाइनमेंट सुनिश्चित किया जाय। साथ ही इसके लिए अगर प्राइवेट जमीन अधिग्रहीत करने की जरूरत होगी तो वह भी राज्य सरकार द्वारा की जायेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि अटल एक्सप्रेस-वे ग्वालियर-चम्बल संभाग के लिए वरदान साबित होगा। रोजगार के नये अवसर बनेंगे। श्री चौहान ने बताया कि एक औद्योगिक क्लस्टर (समूह) के रूप में विकसित कर रोजगार के नये अवसर युवाओं के लिए उपलब्ध कराये जायेंगे। इस क्षेत्र की पूरी तस्वीर बदलने का काम यह एक्सप्रेस-वे करेगा। 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने केन्द्रीय मंत्री से अनुरोध किया कि एमएसएमई के माध्यम से सबसे ज्यादा रोजगार के अवसर उपलब्ध होते हैं। एमएसएमई के द्वारा उद्योगों के समूह को विकसित करने का काम मध्यप्रदेश सरकार कर रही है। राज्य सरकार ने अभी 19 एमएसएमई क्लस्टर विकसित करने का प्रस्ताव केन्द्र सरकार को दिया है। इनमें से जबलपुर का मिष्ठान और नमकीन क्लस्टर को स्वीकृति मिल गयी है। शेष तीन औद्योगिक क्षेत्र भोपाल, गुना और रतलाम के क्लस्टर को सैद्धांतिक स्वीकृति देने पर सहमति हो गई है। शेष 15 पर अभी सैद्धांतिक सहमति होना बाकी है। केन्द्रीय मंत्री ने स्वीकृति देने की पूरी कार्यवाही एक माह के भीतर करने का आश्वासन दिया है। 

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि अटल एक्सप्रेस-वे के एलायमेंट का कार्य डेढ़ माह में हो जायेगा। साथ ही प्रदेश के संसदीय क्षेत्रों से आये सीआरएफ के अंतर्गत 26 प्रस्ताव भी केन्द्र को स्वीकृति के लिए भेजे जा चुके हैं और आग्रह किया है कि ये सभी प्रस्ताव केन्द्रीय सड़क निधि योजना के अंतर्गत स्वीकृत किये जायें। केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गड़करी ने उपरोक्त सभी मामलों पर अपनी सहमति जताते हुए शीघ्र स्वीकृति दिलवाने का आश्वासन दिया है।                                


संजय सक्सेना
Post a Comment

इंदिरा सागर के डूब प्रभावित परिवारों को छनेरा में भू-स्वामी हक़ प्रदाय
प्रदेश में निरंतर घट रहा है कोरोना संक्रमण
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नीम का पौधा लगाया
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लिये कर्मचारी हितैषी निर्णय - कमर्चारी संगठनों ने माना आभार
तेन्दूपत्ता संग्राहक होंगे संबल योजना में शामिल - मुख्यमंत्री श्री चौहान
कोविड-19 में दिवंगत कर्मचारियों के परिवारों की देखभाल हमारी जिम्मेदारी - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जगतगुरु आदि शंकराचार्य के चित्र पर माल्यार्पण किया
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महाकवि सूरदास जी के चित्र पर किया माल्यार्पण
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की फोन पर चर्चा
प्रदेश के गाँव और शहरों में 58 हजार से अधिक क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप गठित - गृह मंत्री डॉ. मिश्रा
विभिन्न जिलों में 20 से 31मई 2021 तक जारी रहेगा कोरोना कर्फ्यू : डॉ. राजौरा
परिवहन मंत्री श्री राजपूत की गाँव-गाँव में कोरोना के विरुद्ध जन-जागृति रथ-यात्रा
ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने जनमित्र केन्द्र का किया आकस्मिक निरीक्षण 
सोयाबीन बीज वितरण में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी : मंत्री श्री पटेल 
प्रदेश के 407 निकायों के 7292 वार्ड में संकट प्रबंधन समिति गठित
राज्य मंत्री श्री परमार के प्रयासों से शुरू होगा आईसीयू वार्ड
कोरोना संक्रमण में अनाथ हुए बच्चों का शीघ्र सर्वे करायें - खाद्य मंत्री
उचित मूल्य दुकान से हितग्राहियों को ईमानदारी से मिले राशन - मंत्री श्री सिंह
उज्जैन जिले में किल-कोरोना अभियान बेहतरीन ढंग से चल रहा है - स्वास्थ्य मंत्री डॉ.चौधरी
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
मरीज की क्लीनिकल स्थिति का समिति मूल्याकंन कर टोसिलिजुमेब इंजेक्शन की उपलब्धता सुनिश्चित करेंगी
कोविड नियंत्रण कार्यों के सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं - स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी
ब्लैक फंगस के नियंत्रण, चिन्हांकन एवं प्रबंधन को सुनिश्चित करें - स्वास्थ्य आयुक्त
2 लाख 68 हजार 726 कोरोना मरीजों तक पहुँची मेडिकल किट
1