आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

राग "बसंत मुखारी" में अभय रूस्तम ने बाँधा समां

तानसेन समारोह के दूसरे दिन की प्रात:कालीन सभा में भारतीय शास्त्रीय संगीत की अदभुत छटा बिखरी 

भोपाल : रविवार, दिसम्बर 27, 2020, 17:47 IST

मप्र शासन के प्रतिष्ठापूर्ण आयोजन तानसेन समारोह के दूसरे दिन की प्रात:कालीन सभा में शास्त्रीय संगीत के मुख्तलिफ रंग देखने को मिले। इस सभा में अभय रुस्तम सोपोरी और मोहम्मद अमान से लेकर अन्य कलाकारों ने एक से बढ़कर एक बेहतरीन प्रस्तुतियां दी।

सभा का शुभारंभ स्थानीय शंकर गंधर्व संगीत महाविद्यालय के विद्यार्थियों के ध्रुपद गायन से हुआ। राग भैरव के सुरों में पगी बंदिश के बोल थे - ‘‘गणपति गणनायक।’’ चौताल में निबद्ध इस बंदिश को विद्यार्थियों ने उत्साह से पेश किया। प्रस्तुति में पखावज पर मुन्नालाल भट्ट ने संगत की।

सभा के पहले कलाकार थे युवा संतूर वादक अभय रुस्तम सोपोरी। पं. भजन सोपोरी के सुपुत्र अभय ने बहुत कम समय में देश के कलाकारों के बीच जगह बनाई है। उन्होंने राग ‘बसंत मुखारी’ में अपना वादन पेश किया। आलाप जोड़ से राग का स्वरुप खड़ा करते हुए उन्होंने 11 मात्रा की ताल में बिलंवित गत पेश की। उन्होंने बड़ी ही सहजता के साथ राग की बढ़त कर विविध लयकारियों का बखूबी प्रदर्शन किया। इसके बाद तीन ताल में निबद्ध बंदिश - ‘उठत जिया हूक, सुनत कोयल कूक’ को गाते हुए वादन किया। तबले के साथ लडंत का भी बखूबी प्रदर्शन उन्होंने किया। उन्होंने अंत में तीन ताल में दु्रत गत बजाकर वादन का समापन किया। लयकारी व गमकदार तानों के साथ गायकी व तंगकारी अंग का संतुलन आपके वादन की विशेषता रही। उनके साथ तबले पर उस्ताद अकरम खाँ, घटम् पर वरुण राजशेखर व पखावज पर अंकित पारिख ने बेजोड़ संगत का प्रदर्शन किया।

सभा के दूसरे कलाकार थे जयपुर के जवां साल मोहम्मद अमान खां। जीटीवी सारेगामा फेम मोहम्मद अमान नई पीढ़ी के संभावनाशील गायक हैं। रेडियो व दूरदर्शन के ‘ए’ ग्रेड कलाकार मो. अमान की गायकी अलग ही तरह की है। जो यूथ को काफी लुभाती है। उन्होंने मियां की तोड़ी से गायन की शुरुआत की। एक ताल में विलंवित बंदिश के बोल थे- ‘‘सगुन विचारो बमना’’ जबकि तीन ताल में द्रुत बंदिश के बोल थे - ‘‘अब मोरी नैया पार करो।’’ उन्होंने अति द्रुत तीन ताल में भी एक बंदिश ‘‘अब तो नजर करिये’’ । पेश की और द्रुत एक ताल में तराना भी पेश किया। गायन का समापन उन्होंने बड़े गुलाम अली खां की प्रसिद्ध ठुमरी ‘‘याद पिया की आए’’ से किया। उनके साथ तबले पर मुजफ्फर रहमान एवं हारमोनियम पर जमीर हुसैन खां ने बेहतरीन संगत की।

हमीद-मजीद खाँ भ्राताद्वय की सारंगी पर जुगलबंदी

सभा में अगली प्रस्तुति सारंगी पर जुगलबंदी की थी। ग्वालियर के सुपरिचित सारंगी वादक अब्दुल मजीद खान एवं अब्दुल हमीद खां ने ये जुगलबंदी पेश की। दोनों भाई हैं। उन्होंने राग शुद्ध सारंग में अपना वादन पेश किया। एक ताल में गायकी अंग से विलंबित बंदिश बजाते हुए उन्होंने अपने कौशल का बखूबी परिचय दिया। द्रुत गत तीन ताल में निबद्ध थी। वादन का समापन उन्होंने ठुमरी याद पिया की आए बजाकर किया। उनके साथ तबले पर हनीफ खां एवं शाहरुख खां ने संगत की।

सभा का समापन मुंबई के देवानंद यादव के ध्रुपद गायन से हुआ। उन्होंने अपने गायन के लिए राग मधुवंती का चयन किया। विलंबित, मध्य,और द्रुत लय की आलापचारी में उन्होंने मींड और गमक का बखूबी इस्तेमाल किया। इसके बाद तीव्रा ताल में निबद्ध बंदिश पेश की जिसके बोल थे- जगवंदन गौरी नंदन। उनके साथ गायन में उनके पुत्र ने भी साथ दिया। पखावज पर संजय पंत आगले ने मीठी संगत का प्रदर्शन किया।


सुनीता दुबे
Post a Comment

कोरोना संक्रमण चेन को तोड़ने में सहयोग करें जन-प्रतिनिधि: मुख्यमंत्री श्री चौहान
अस्पतालों में ऑक्सीजन के उपयोग और आपूर्ति की निगरानी करेंगे नोडल अधिकारी - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निवास में आंवले का पौधा रोपा
रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वालों पर रासुका लगायें : मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान को मंत्री श्री देवड़ा ने प्रभार के जिलों की स्वास्थ्य सुविधाओं से कराया अवगत
कोविड पीड़ित बिजली कर्मियों को 3 लाख तक चिकित्सा एडवांस की सुविधा
उर्जा मंत्री श्री तोमर ने हाथ जोड़ कर शहर के प्रायवेट अस्पताल संचालकों से मांगा सहयोग
प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी जायेगी - सहकारिता मंत्री डॉ. भदौरिया
चक्क आगासौद बीना रिफायनरी में 5 मई से शुरू होगा 1000 बिस्तर का अस्थाई अस्पताल
ग्राहक स्वयं को मजबूर नहीं मजबूत समझें - तरूण पिथौड़े
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
12,572 ग्राम पंचायतों ने स्व-प्रेरणा से लिया जनता कर्फ्यू लगाने का संकल्प
कोरोना योद्धा सेल : बुरहानपुर जिले में नवाचार
सागर ग्रुप के रातीबड़ कैम्पस में 500 बेड का कोविड केयर सेंटर शुरू
जन-सहयोग से इंदौर में निर्मित हुआ प्रदेश का सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर
महिला सुरक्षा के प्रति जागरूकता के लिए रेडियो कार्यक्रम
"योग से निरोग कार्यक्रम होगा शुरू : मुख्यमंत्री करेंगे शुभारंभ
भोपाल में कोविड केयर सेंटर और बिस्तरों में होगी वृद्धि
आयुष मंत्री श्री कावरे ने गोंगलई कोविड-केयर सेंटर का किया निरीक्षण
पृथ्वी दिवस- पर्यावरण मंत्री श्री डंग की अधिक से अधिक पेड़ लगाने की अपील
कोविड संक्रमण की चेन तोड़ने मंत्रीगण को दी गयी कार्यों की जिम्मेदारी
श्री ओ.पी. रावत को लगा कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज
टीकाकरण के विरुद्ध भ्रामक प्रचार करने वालों पर होगी कार्रवाई - पशुपालन मंत्री श्री पटेल
1