आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

दुर्घटना के कारणों के निवारण के उपाय खोजकर कार्य करें - एडीजी श्री सागर

"रोड सेफ्टी : एन ओवरव्यू'' दो दिवसीय वर्चुअल कोर्स आयोजित 

भोपाल : सोमवार, दिसम्बर 14, 2020, 20:21 IST

सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिये जरूरी है कि नोडल एजेंसियाँ दुर्घटना के कारणों के निवारण के उपाय खोजकर समन्वयपूर्वक कार्य करें। पुलिस प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान (पीटीआरआई) अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री डी.सी. सागर ने पुलिस मुख्यालय में आयोजित दो दिवसीय वर्चुअल कोर्स 'रोड सेफ्टी : एन ओवरव्यू'' के शुभारंभ पर संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिये वाहनों के निर्माण में नये फीचर्स जैसे- वाहन चालक द्वारा सीट बेल्ट नहीं लगाये जाने पर वाहन ही स्टार्ट न हो इत्यादि को शामिल करना जरूरी है।

एडीजी श्री सागर ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की रिपोर्ट अनुसार प्रत्येक 25 सेकेण्ड में एक व्यक्ति की सड़क दुर्घटना में मृत्यु हो रही है। सड़क दुर्घटनाओं के मामले में हमारा देश तीसरे स्थान पर है। घायलों की संख्या में भी हम तीसरे स्थान पर हैं, जबकि दुर्घटनाओं में मृत्यु में हम प्रथम स्थान पर हैं। यह बहुत चिंताजनक है कि हम सड़क दुर्घटनाओं के पीड़ितों के प्राणों की रक्षा में पिछड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि घायलों और पीड़ितों की मदद करने वाले 'नेक व्यक्ति'' को कानूनी संरक्षण प्रदान किया गया है। इसके अनुसार उनसे अस्पताल या पुलिस विभाग उसकी मर्जी के बगैर अनावश्यक जाँच-पड़ताल नहीं कर सकता है। बावजूद इसके दुर्घटना के पश्चात 'गोल्डन ऑवर'' में पीड़ितों की हरसंभव मदद करने में आमजन के मन में झिझक बनी हुई है, जिसे समाप्त करना जरूरी है। इससे लोगों की प्राण रक्षा की जाकर दुर्घटना में होने वाली मृत्यु दर को कम किया जा सकेगा।

भादवि और मोटर-वाहन अधिनियम में कार्यवाही करें

एडीजी श्री सागर ने नोडल एजेंसियों को सड़कों की खुदाई करने के बाद मरम्मत नहीं करने वालों के विरुद्ध भारतीय दण्ड विधान संहिता और मोटर-वाहन अधिनियम अंतर्गत किये गये प्रावधानों के मुताबिक कार्यवाही करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि सड़क निर्माण के पश्चात अन्यान्य कारणों से की जाने वाली सड़क खुदाई और कटिंग के पश्चात समय पर मरम्मत नहीं होने से सड़कें दुर्घटना का सबब बनती हैं। खुदाई करने वाले व्यक्तियों अथवा संस्थाओं के विरुद्ध नियमानुसार कठोरतम कार्यवाही की जाना चाहिये।

राजमार्गों पर मृत्यु दर चिंताजनक

एडीजी श्री सागर ने बताया कि डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट अनुसार सड़क दुर्घटनाओं में सर्वाधिक 35 प्रतिशत दुर्घटनाएँ राजमार्गों पर दर्ज की जा रही हैं, जो कि अत्यंत चिंताजनक है। उन्होंने नेशनल हाई-वे अथॉरिटी के नोडल अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे नियमानुसार राजमार्गों पर निश्चित दूरी पर रेस्ट-रूम और पार्किंग की व्यवस्था भी सुनिश्चित करें। श्री सागर ने स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारियों को इन राजमार्गों पर दुर्घटना पीड़ितों के समय पर समुचित उपचार के लिये ट्रॉमा सेंटर बनाने के लिये आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये।

एजेंसियाँ समन्वयपूर्वक कार्य करें, जागरूकता बढ़ायें

एडीजी श्री सागर ने सभी नोडल एजेंसियों को समन्वयपूर्वक कार्य करने को कहा है। उन्होंने कहा है कि एजेंसियाँ रोड एक्सीडेंट के कारणों की जाँच कर निवारण के समुचित उपाय करें। दुर्घटना स्थलों के निरीक्षण के दौरान पाई जाने वाली कमियों को संबंधित विभागों द्वारा त्वरित उपाय कर सुधारा जाना चाहिये, जिससे अन्य स्थानों पर होने वाली दुर्घटनाओं से बचा जा सके। दुर्घटनाओं से सुरक्षा, बचाव और दुर्घटना के पश्चात जान-माल की हानि को रोकने के लिये जन-जागरूकता का प्रसार निरंतर सभी के द्वारा किया जाना आवश्यक है, जिससे कि मृत्यु दर में कमी के 50 प्रतिशत लक्ष्य को हासिल किया जा सके।


अलूने
Post a Comment

समय से पूरी की जाएँ सभी सीवरेज परियोजनाएँ
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्रियों से की वन-टू-वन चर्चा
कोरोना मुक्ति में होगी युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका
वैक्सीनेशन जैसा पुनीत कार्य दूसरा नहीं
कोविड-19 की दूसरी लहर पर काबू के बाद अब शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन का लक्ष्य
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बादाम का पौधा लगाया
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सर संघ संचालक श्री के.एस. सुदर्शन की जयंती पर किया माल्यार्पण 
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महारानी लक्ष्मी बाई को किया नमन
दतिया में 50 लाख से बनेगी सर्व-सुविधायुक्त आधुनिक सब्जी मण्डी - डॉ. मिश्रा
मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना क्रियान्वयन के संबंध में निर्देश जारी
आपदा प्रबंधन की तैयारियों के लिये ट्रेनिंग व मॉकड्रिल का आयोजन
मोतीझील फीडर के डिस्ट्रीब्यूशन ट्रांसफार्मर पर लापरवाही के चलते विद्युत कंपनी ने की दो कार्यपालन यंत्री, 3 सहायक यंत्री एवं तीन कनिष्ठ यंत्री पर कार्रवाई
इंदौर जिले का महू बन रहा पूर्णतः स्मार्ट मीटर वाला पहला शहर
किसानों से धोखाधड़ी करने वालों को बख्शा नहीं जायेगा - मंत्री श्री पटेल
कोरोना वैक्सीनेशन महा-अभियान को अपनी भागीदार से सफल बनायें- राज्य मंत्री श्री यादव
योजना के कार्यस्थलों का करें नियमित निरीक्षण
रोजगार गतिविधियों के सृजन से आत्म-निर्भर बनेगा मध्यप्रदेश- लोक निर्माण मंत्री श्री भार्गव
वैक्सीनेशन कराएं और दूसरो को भी प्रेरित करें : राज्य मंत्री श्री परमार
राज्य मंत्री श्री परमार ने स्कूल शिक्षा विभाग की ऑनलाइन अनुकंपा नियुक्ति प्रबंधन प्रणाली का शुभारंभ किया
राज्य आनंद संस्थान ने किया बच्चों के लिए ऑनलाइन आनंद सभा का आयोजन
वैक्सीन से नहीं घबराए वृद्धाश्रम के वृद्ध
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
गाँव-गाँव जाना है - कोरोना मुक्त बनाना है
वैक्सीनेशन के लिये ग्रामीणों को पीले चावल दिये
कोरोना की रोकथाम के लिये ट्रांसजेंडर्स की अद्भुत पहल
देवास में 102 वर्षीय मिट्ठू बाई ने लगवाया कोरोना का टीका
1