आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

मध्यप्रदेश कराधान अधिनियमों की पुरानी बकाया राशि का समाधान अध्यादेश 2020

 

भोपाल : गुरूवार, नवम्बर 26, 2020, 21:13 IST

वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा प्रशासित वेट एवं अन्य पूर्व अधिनियमों के अन्तर्गत लंबित बकाया राशि के समाधान के लिये राज्य शासन के वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा मध्यप्रदेश कराधान अधिनियमों की पुरानी बकाया राशि का समाधान अध्यादेश 2020 दिनांक 26 सितम्बर 2020 से लागू किया गया है।

इस योजना में 31 मार्च 2016 की अवधि तक के कर निर्धारण प्रकरणों में निकाली गई अतिरिक्त मांग की लंबित बकाया राशि के समाधान का प्रावधान रखा गया है। यह योजना 26 सितम्बर 2020 से 23 जनवरी 2021 तक की अवधि (120 दिवस) के लिये है।

योजना के समुचित क्रियान्वयन के लिये विभागीय अधिकारियों द्वारा कर सलाहकारों/सी.ए./व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ 145 से अधिक वेबिनार/सेमिनार के माध्यम से समुचित संवाद स्थापित कर बकाया समाधान योजना का अधिक से अधिक लाभ लेने का आग्रह किया गया है। इसी कड़ी में वेट के तहत पंजीयत रहे लगभग 3 लाख करदाताओं को बल्क एसएमएस के माध्यम से योजना का लाभ उठाने का अनुरोध किया गया। प्रदेश के प्रमुख समाचार पत्रों में विज्ञापन के जरिये योजना का प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया गया।

समाधान योजना में 60 दिवस, 90 दिवस और 120 दिवस के भीतर आवेदन करने में पृथक्-पृथक् योजना के लाभ लिये जाने संबंधी प्रावधान किये गये हैं। योजना के 60 दिवस 24 नवम्बर 2020 को पूरे हो चुके हैं। योजना के इस प्रथम चरण में 16 हजार 500 आवेदन प्राप्त हुए हैं और इन आवेदनों के साथ 115 करोड़ 30 लाख की राशि शासकीय कोष में जमा कराई गई है।


नीरज शर्मा
Post a Comment

मुख्यमंत्री श्री चौहान युवाओं और नियोक्ताओं से करेंगे संवाद
विभागों के श्रेष्ठ कार्यों और नवाचारों की जानकारी सामने आए
ऊर्जा विभाग के कार्य सराहनीय : मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पूर्व मंत्री श्री सुरेन्द्र पटवा को जन्मदिन की बधाई दी
वन विभाग का माफियाओं के विरुद्ध अभियान
मालवा- निमाड़ में बिजली की सात फीसदी ज्यादा आपूर्ति
नागपुर और इलाहाबाद में दिखेगी प्रदेश के शिल्प की झलक
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समाजसेवी स्व. श्री विश्वामित्र शर्मा को श्रद्धांजलि दी
बर्ड फ्लू से अप्रभावित जिले सतर्कता बढ़ाएँ : पशुपालन मंत्री श्री पटेल
उच्च नस्ल सुधार से प्रदेश में बढ़ा दुग्ध उत्पादन
1