आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

भारतीय इतिहास के पुनर्लेखन की नहीं, शोध की आवश्यकता

ब्रिटिश काल और स्वतंत्रता के बाद केवल राजनैतिक घटनाएं ही हुईं रेखांकित  

भोपाल : मंगलवार, सितम्बर 15, 2020, 19:53 IST

भारतीय ऐतिहासिक अनुसंधान परिषद और भारतीय दर्शनशास्त्र अनुसंधान परिषद के सदस्य सचिव प्रोफेसर के. रत्नम ने कहा कि ब्रिटिश काल में और स्वतंत्रता के बाद लेखक देश की सभ्यता, संस्कृति और गौरवशाली परम्पराओं का ठीक प्रकार से मूल्यांकन नहीं कर सके। केवल कुछ राजनैतिक घटनाएं ही इतिहास की विषयवस्तु रहीं जबकि समग्र समाज का योगदान रेखांकित नहीं हुआ। श्री रत्नम ने यह बात संचालनालय पुरातत्व अभिलेखागार एवं संग्रहालय द्वारा मंगलवार को आयोजित 'भारतीय इतिहास लेखन परंपरा - नवीन आयाम' विषय पर 5वीं ऑनलाइन व्याख्यानमाला के दौरान कही। श्री रत्नम ने कहा कि भारतीय इतिहास के पुनर्लेखन की नहीं बल्कि इसके शोध की आवश्यकता है।

इतिहासविद् प्रोफेसर रत्नम ने कहा कि वे इतिहास के पुनर्लेखन के पक्षधर नही हैं क्योंकि इस अवधि के इतिहास पर शोध कर बहुत से अनछुए पर अतिमहत्वपूर्ण तथ्यों को सामने लाया जाना आवश्यक है। शोध-कार्य से उपलब्ध प्रचुर साक्ष्यों के विश्लेषण से सत्य को उजागर किया जा सकता है। शोध-कार्य को नवीन और सही दिशा दिये जाने की आवश्यकता है। यह शोध ही हमारे इतिहास में गौरवशाली संशोधन का आधार बन सकता है।


सुनीता दुबे
Post a Comment

भोपाल व इंदौर में मेट्रोपोलिटन एरिया गठित करने का निर्णय
प्रधानमंत्री श्री मोदी गौरवशाली भारत का निर्माण कर रहे हैं
प्रदेश में गरीब की थाली अब नहीं रहेगी खाली
मुख्यमंत्री श्री चौहान करेंगे राज्य-स्तरीय समारोह का शुभारंभ
16 से 23 सितम्बर तक मनेगा "गरीब कल्याण सप्ताह"
केन-बेतवा लिंक परियोजना स्वीकृत कर खेतों तक पानी पहुँचाया जाएगा: मुख्यमंत्री श्री चौहान
आत्मनिर्भर ग्रामीण मध्यप्रदेश के लिए नीति बनेगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान
मध्य प्रदेश राज्य खेल अकादमी के खिलाड़ियों व प्रशिक्षकों के लिए होगा मेंटल वैलनेस प्रोग्राम
किसानों को उपलब्ध कराया जाएगा प्रमाणित बीज : मंत्री डॉ. भदौरिया
सहकारिता मंत्री डॉ. अरविंद सिंह भदौरिया का दौरा कार्यक्रम
राज्यमंत्री श्री यादव द्वारा शोक व्यक्त
मंत्री श्री कंषाना द्वारा श्री दांगी के निधन पर शोक व्यक्त
तीन प्रभारी सी.एम.ओ. निलंबित
रिट्रोफिटिंग योजना में 34 लाख से अधिक की राशि स्वीकृत
भारतीय इतिहास के पुनर्लेखन की नहीं, शोध की आवश्यकता
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
शिवपुरी पॉलीटेक्निक सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में होगा विकसित
सरकार कोविड नियंत्रण के लिये स्पेशल ट्रेनिंग प्रोग्राम चलायेगी
मंत्रीगण ने विधायक श्री दांगी के निधन पर किया शोक व्यक्त
आध्यात्म मंत्री सुश्री उषा ठाकुर द्वारा यथासमय पुस्तक का विमोचन
प्रत्याशियों के चुनाव खर्च पर आयोग द्वारा रखी जायेगी सख्ती से नजर
निर्वाचक नामावली के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2021 का कार्यक्रम जारी
एजेंसी पत्रकारिता के विकास में श्री चांद का अहम योगदान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विधायक श्री गोवर्धन दांगी के निधन पर दुख व्यक्त किया
अनुसूचित जाति वर्ग के 47 विद्यार्थियों का विदेश में उच्च शिक्षा अध्ययन के लिये चयन
1