आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों को महिला बाल विकास विभाग की पोर्टल पर पंजीयन कराना होगा अनिवार्य 

 

भोपाल : मंगलवार, जुलाई 28, 2020, 15:20 IST

महिला बाल विकास विभाग द्वारा प्राइवेट क्षेत्र में पूर्व से संचालित एवं नवीन संचालित होने वाले शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों को विभागीय पोर्टल पर पंजीयन कराना अनिवार्य होगा। राष्ट्रीय ईसीसीई पॉलिसी 2013 एवं राष्ट्रीय बाल संरक्षण अधिकार आयोग के निर्देशानुसार प्राइवेट क्षेत्र में पूर्व से संचालित एवं नए संचालित होने वाले शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों के नियमन एवं निगरानी के लिए यह निर्णय लिया गया है। इन शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों की पंजीकरण की सुविधा 4 अगस्त 2020 से प्रारंभ की जा रही है। महिला बाल विकास विभाग के पोर्टल पर पूर्व से संचालित एवं नवीन संचालित होने वाले शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों के लिए ऑनलाइन पंजीयन कराना आवश्यक होगा। बिना पंजीकरण के संचालित पाए जाने पर संबंधित शाला पूर्व शिक्षा केंद्र (नर्सरी स्कूल, प्ले स्कूल, किंडर गार्डन) पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी

4 अगस्त को वेबीनार

महिला बाल विकास विभाग के पोर्टल पर शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों के पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध कराने संबंधी वेबीनार 4 अगस्त को 3:00 बजे आयोजित होगा ।इसमें विभागीय संभागीय संयुक्त संचालक, जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं निजी क्षेत्र के शाला पूर्व शिक्षा केंद्र संचालक सम्मिलित होंगे। ऑनलाइन वेबीनार में सम्मिलित होने से संबंधित लिंक विभागीय पोर्टल पर उपलब्ध होगी।

उल्लेखनीय है कि बाल अधिकारों के संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय महिला बाल विकास मंत्रालय ने राष्ट्रीय ईसीसीई (प्रारंभिक बाल्यावस्था देखभाल एवं शिक्षा नीति) 2013 का निर्माण किया था। इस नीति में 3 से 6 वर्ष के बच्चों को शैक्षणिक आवश्यकताओं एवं इस आयु वर्ग के बच्चों के लिए स्कूल पूर्व शिक्षा के महत्व पर जोर दिया गया है। भारत में शाला पूर्व शिक्षा सेवाएं शासकीय निजी एवं अशासकीय संस्थाओं के माध्यम से प्रदाय की जा रही है। शासकीय क्षेत्र में शाला पूर्व शिक्षा सेवा का प्रदाय आंगनवाड़ी केंद्रों एवं अशासकीय क्षेत्रों में नर्सरी स्कूल, प्ले स्कूल, किंडर गार्डन जैसे नामों से संचालित शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों के माध्यम से किया जा रहा है। वर्तमान में प्राइवेट क्षेत्र में संचालित प्ले स्कूल बिना किसी नियमन, मान्यता एवं पंजीकरण के संचालित हो रहे हैं जिससे इन शाला पूर्व शिक्षा केंद्रों में बाल अधिकारों के संरक्षण की सुनिश्चित्ता प्रभावित होती है।


बिन्दु सुनील
Post a Comment

राज्यपाल श्रीमती पटेल से मिले स्कूली बच्चे
प्रदेश में कोरोना की रिकवरी रेट 75 प्रतिशत हुई
प्रदेश में बनेगा एकीकृत जॉब पोर्टल: मुख्यमंत्री श्री चौहान
एक सितम्बर से प्रारंभ हो जाएगा आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप पर कार्य
मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में जाँच एजेंसियों में पंजीबद्ध प्रकरणों के विचारार्थ समिति गठित
गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने शायर डॉ. राहत इंदौरी के निधन पर दु:ख व्यक्त किया
कोविड वार्ड में वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारियों का भ्रमण सुनिश्चित कराएं : मंत्री डॉ मिश्रा
ट्रक एसोसिएशन की माँगों पर होगा गंभीरता से विचार-परिवहन मंत्री श्री राजपूत
ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने श्री राहत इंदौरी के निधन पर दु:ख व्यक्त किया
डॉ. राहत इंदौरी के निधन पर मंत्री श्री ऐदल सिंह कंषाना द्वारा शोक व्यक्त
राज्य मंत्री श्री बृजेन्द्र सिंह यादव द्वारा राहत इंदौरी के निधन पर दु:ख व्यक्त
नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह ने शायर श्री राहत इंदौरी के निधन पर शोक व्यक्त किया
.....मेरी पेशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना
जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने मशहूर शायर
पर्यटन विकास निगम के सभी होटल और रेस्टॉरेंट शुरू
"सहयोग से सुरक्षा अभियान 15 अगस्त से
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
प्रदेश में उद्योगों का जाल बिछाकर रोजगार के अवसर पैदा किये जाएंगे
पूर्व राज्यपाल स्व. श्री टंडन की अस्थियाँ माँ नर्मदा में प्रवाहित
राजनैतिक मामलों के लिये मंत्रि-परिषद् समिति गठित
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शायर श्री राहत इंदौरी के निधन पर शोक व्यक्त किया
राज्यपाल श्रीमती पटेल द्वारा शोक व्यक्त
1